पिता के सपने को बनाया अपनी जिंदगी का लक्ष्य, आगरा की बेटी ने थल सेना में अफसर बन दी सच्‍ची श्रद्धांजलि

पिता के सपने को बनाया अपनी जिंदगी का लक्ष्य, आगरा की बेटी ने थल सेना में अफसर बन दी सच्‍ची श्रद्धांजलि

फादर्स डे पर एक पिता के लिए इससे बड़ा सुखद अहसास क्‍या होगा कि उनकी बेटी सेना की वर्दी पहने हुए सामने हो। लेकिन आगरा में एक पिता को फादर्स डे का यह तोहफा मरणोपरांत मिला। बेटी ने पिता के सपने को पूरा करने की ठानी और अपनी मेहनत और लगन से थल सेना में भर्ती होकर दिखाया। आज रिचा जब अपने पिता की फोटो के सामने पहुंची तो चेहरे पर सपना पूरा करने की मुस्कान और आंखों में पिता के दूर होने का दुख था।

कमलानगर निवासी रिचा पाराशर का मई में भारतीय थल सेना में अफसर के पद पर चयन हुआ है। रिचा के पिता का सपना था कि बेटी सेना में अफसर बने। पिता की मौत के बाद रिचा ने उनके सपने को अपने जीवन का लक्ष्य बनाया और उसे हासिल किया। रिचा के पिता ब्रजेश पाराशर पुलिस विभाग में हैड आपरेटर थे। 2004 में बीमारी के कारण उनकी मृत्यु हो गई। उस समय रिचा की उम्र सात-आठ साल की थी। बचपन से ही अपने पिता के मुंह से सुना था कि सेना में अफसर बनकर देश की सेवा करनी है। उनके इसी सपने को पूरा करने के लिए रिचा ने बहुत मेहनत की। रिचा के ताऊ राकेश पाराशर बताते हैं कि उनके छोटे भाई के रिचा में जान बसती थी। उसके पैदा होते ही उन्होंने सपना देखा था कि बेटी को सेना में अफसर बनाएंगे। विगत 29 मई को आफीसर्स ट्रेनिंग एकेडमी चेन्नई में पासिंग आउट परेट में रिचा को दो स्वर्ण पदक व ट्रेनिंग में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए श्रेष्ठता पत्र भी मिला था।

सेंट कानरेड्स इंटर कालेज से 12वीं और आगरा कालेज से एमफिल करने वाली रिचा ने एनसीसी विशेष भर्ती के तहत मात्र पांच रिक्तियों में पूरे भारत में तीसरा स्थान प्राप्त किया था। रिचा की मां मीरा पाराशर बताती हैं कि रिचा के लक्ष्य को पूरा करने में आगरा कालेज की डा. रीता निगम व कर्नल गुरविंदर सिंह सिद्धू का बहुत सहयोग मिला। रिचा के भाई अपने व्यापार करते हैं। वर्तमान में रिचा की तैनाती पश्चिम बंगाल में है।


कोई केक बनाएगा तो कोई अपने पिता का मनपसंद भोजन

आज फादर्स डे है। इसके लिए युवाओं ने अपने घरों में खास तैयारियां की हैं। साप्ताहिक लाकडाउन के कारण रेस्टोरेंट या होटलों में इस बार पार्टियां नहीं होंगी पर घरों में पार्टी की पूरी व्यवस्था बच्चों ने की है। साप्ताहिक लाकडाउन के कारण दुकानें बंद होंगी, इसलिए तोहफे भी पहले ही खरीद लिए गए हैं। बेकरियों में भी फादर्स डे लिए खास केक तैयार किए गए हैं।

श्रृष्टि ने अपने पिता को सरप्राइज देने के लिए पूरी तैयारी कर ली है। सजावट का सामान कुछ सामान बाजार से खरीदा है और कुछ खुद घर पर तैयार किया है। श्रृष्टि अपने पिता के लिए केक भी घर पर ही तैयार करेगी। ऐसी ही कुछ प्लानिंग दयालबाग निवासी वेदांती गुप्ता की है। वेदांती भी अपने पिता के लिए केक बनाएगी, इंटरनेट मीडिया पर उपलब्ध वीडियो देख-देख कर इसके लिए वो कई दिन से प्रेक्टिस भी कर रही थी। फतेहाबाद रोड निवासी आराध्य गुप्ता अपने पिता के लिए खास प्लानिंग कर रहे हैं। वे अपने पिता को उनकी फेवरेट डिश बना कर देंगे। घर के बाहर नहीं जा सकते हैं, इसलिए उनके साथ घर पर बैठकर कार्टून वेब सीरिज भी देखेंगे। सदर के अरमान व उनकी बहन रितिका सिंह ने अपने पिता के लिए घर पर ही पार्टी की प्लानिंग की है। खाना आर्डर करेंगे। केक घर पर ही बनाएंगे। सुबह से रात तक अपने पिता को उनके पसंदीदा चीजें बनाकर देंगे।


बेकरियों में तैयार हुए केक

बेकरी संचालक आयशी टिकयानी ने बताया कि उन्होंने फादर्स डे के लिए कई केक तैयार किए हैं। उनके पास कई आर्डर भी आ चुके हैं। कुछ युवाओं ने अपने पिता के लिए खास चाकलेट्स भी तैयार कराई हैं।


बसपा की प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी की सफलता से मायावती प्रसन्न, बोलीं...

बसपा की प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी की सफलता से मायावती प्रसन्न, बोलीं...

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 में प्रदेश के 13 प्रतिशत ब्राह्मणों को जोड़ने के प्रयास में बहुजन समाज पार्टी की 23 जुलाई से चल रही प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी की सफलता पर पार्टी की मुखिया मायावती ने काफी प्रसन्नता व्यक्त की है। इसके साथ ही उन्होंने प्रदेश के अन्य दलों पर तंज भी कसा है। बसपा मुखिया मायावती ने इसको लेकर मंगलवार को दो ट्वीट भी किया है।

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान इंटरनेट मीडिया पर बेहद एक्टिव होने वाली उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने कहा कि मेरे निर्देशन में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव तथा राज्यसभा सदस्य सतीश चंद्र मिश्रा ने उत्तर प्रदेश में 23 जुलाई से प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी प्रारंभ की है जो कि ब्राह्मण सम्मेलन के नाम से काफी चर्चा में है। मायावती ने कहा कि इसके प्रति प्रदेश में उत्साहपूर्ण भागीदारी यह प्रमाण है कि इनका बीएसपी पर सजग विश्वास है। जिसके लिए सभी का दिल से आभार।

मायावती ने कहा कि अयोध्या से 23 जुलाई को श्रीरामलला के दर्शन से शुरू हुआ प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी का यह कारवां अम्बेडकरनगर व प्रयागराज जिलों से होता हुआ प्रदेश में लगातार सफलतापूर्वक आगे बढ़ता जा रहा है। प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी से विरोधी पाॢटयों की नींद उड़ गई है। इसको रोकने के लिए अब यह सभी पाॢटयां प्रदेश में किस्म-किस्म के हथकण्डे अपना रही हैं। इनसे सावधान रहें।


बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि हमारी पार्टी के ब्राह्मण सम्मेलन में दिखने लगा है कि प्रबुद्ध वर्ग का बसपा पर सजग विश्वास है।