पश्‍च‍िमी उत्तर प्रदेश में रोहि‍ंग्या के मददगारों के भी मिले सुराग, एटीएस ने तेज की छानबीन

पश्‍च‍िमी उत्तर प्रदेश में रोहि‍ंग्या के मददगारों के भी मिले सुराग, एटीएस ने तेज की छानबीन

रोहि‍ंग्या की तेजी से जम रहीं जड़ों को उखाडऩे के लिए एटीएस की टीमों ने मेरठ समेत पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ अन्य शहरों में छानबीन तेज की है। मेरठ से रोहि‍ंग्या हाफिज शफीक उर्फ शबीउल्लाह व उसके तीन अन्य साथियों की गिरफ्तारी के बाद मानव व सोना तस्करी के जो तथ्य सामने आए हैं, उसे लेकर एटीएस के साथ जिला पुलिस को भी सक्रिय किया गया है। खासकर रोहि‍ंग्या के पासपोर्ट किन दस्तावेजों व किन लोगों की मदद से बने, इसकी पड़ताल भी शुरू की गई है। सूत्रों का कहना है कि एटीएस को कुछ मददगारों के बारे में अहम सुराग भी मिले हैं।

रोहि‍ंग्या महिलाओं व सोने की तस्करी किए जाने का तथ्य सामने आने के बाद एटीएस के साथ अन्य जांच एजेंसियों ने भी अपनी सक्रियता बढ़ाई है। एडीजी कानून-व्यवस्था प्रशांत कुमार ने बताया कि शुक्रवार को गिरफ्तार रोहि‍ंग्या हाफिज शफीक, अजीजुर्रहमान उर्फ अजीज, मुफीज व मु.इस्माइल को जेल भेज दिया गया है। चारों को पुलिस कस्टडी में लिए जाने की तैयारी की जा रही है। रोहि‍ंग्या हाफिज के नेटवर्क से जुड़े अन्य लोगों के बारे में छानबीन कराई जा रही है।

खासकर रोहि‍ंग्या की पहचान बदलने के लिए फर्जी दस्तावेज किनकी मदद से बनवाए जा रहे थे और इनके पासपोर्ट किसके जरिये बनवाए गए, ऐसे कई बि‍ंदुओं पर पड़ताल के निर्देश दिए गए हैं। बताया गया कि हाफिज व उसके साथियों के मोबाइल फोन से भी कई अहम जानकारियां व नंबर हाथ लगे हैं। उनकी काल डिटेल का ब्योरा भी खंगाला जा रहा है। यह भी पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि बीते कुछ माह में कितनी रोहि‍ंग्या महिलाओं को बांग्लादेश की सीमा से अवैध घुसपैठ कर प्रदेश में लाया गया था।


बसपा की प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी की सफलता से मायावती प्रसन्न, बोलीं...

बसपा की प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी की सफलता से मायावती प्रसन्न, बोलीं...

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 में प्रदेश के 13 प्रतिशत ब्राह्मणों को जोड़ने के प्रयास में बहुजन समाज पार्टी की 23 जुलाई से चल रही प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी की सफलता पर पार्टी की मुखिया मायावती ने काफी प्रसन्नता व्यक्त की है। इसके साथ ही उन्होंने प्रदेश के अन्य दलों पर तंज भी कसा है। बसपा मुखिया मायावती ने इसको लेकर मंगलवार को दो ट्वीट भी किया है।

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान इंटरनेट मीडिया पर बेहद एक्टिव होने वाली उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने कहा कि मेरे निर्देशन में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव तथा राज्यसभा सदस्य सतीश चंद्र मिश्रा ने उत्तर प्रदेश में 23 जुलाई से प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी प्रारंभ की है जो कि ब्राह्मण सम्मेलन के नाम से काफी चर्चा में है। मायावती ने कहा कि इसके प्रति प्रदेश में उत्साहपूर्ण भागीदारी यह प्रमाण है कि इनका बीएसपी पर सजग विश्वास है। जिसके लिए सभी का दिल से आभार।

मायावती ने कहा कि अयोध्या से 23 जुलाई को श्रीरामलला के दर्शन से शुरू हुआ प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी का यह कारवां अम्बेडकरनगर व प्रयागराज जिलों से होता हुआ प्रदेश में लगातार सफलतापूर्वक आगे बढ़ता जा रहा है। प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी से विरोधी पाॢटयों की नींद उड़ गई है। इसको रोकने के लिए अब यह सभी पाॢटयां प्रदेश में किस्म-किस्म के हथकण्डे अपना रही हैं। इनसे सावधान रहें।


बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि हमारी पार्टी के ब्राह्मण सम्मेलन में दिखने लगा है कि प्रबुद्ध वर्ग का बसपा पर सजग विश्वास है।