IIT Kanpur बना रहा यूपी और दिल्ली में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर रोकने का प्लान

IIT Kanpur बना रहा यूपी और दिल्ली में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर रोकने का प्लान

कोरोना वायरस के बदलते रूप और तीसरी लहर के आने की आशंका को लेकर तैयारियां तेज हो गई हैं। उत्तर प्रदेश और दिल्ली में तीसरी लहर से पहले ही कोरोना पर वार के लिए आइआइटी कानपुर की मदद ली जा रही है। यहां के विशेषज्ञ दोनों राज्यों के लिए ऐसी प्लाङ्क्षनग कर रहे हैं, जिससे न सिर्फ कोविड की चाल पकड़ में आ जाएगी, बल्कि उसके खात्मे के लिए तुरंत एक्शन प्लान बनाया जा सकेगा। जल्द ही संस्थान का दोनों प्रदेशों के साथ करार होने वाला है। आइआइटी के निदेशक प्रो. अभय करंदीकर प्रदेश सरकार के एडिशनल चीफ सेक्रेटरी को प्रस्ताव बनाकर भेज चुके हैं। दिल्ली के साथ कागजी काम पूरे किए जा रहे हैं।

उल्लेखनीय है कि आइआइटी कानपुर के कंप्यूटर साइंस इंजीनियरिंग के प्रो. मणींद्र अग्रवाल और उनकी टीम ने गणितीय माडल के सहयोग से देश, कई राज्यों और वहां के शहरों में कोरोना के केस बढऩे-घटने का सटीक आकलन किया था। यह आकलन मार्च, अप्रैल, मई और जून के लिए हुआ। इस माडल की खूबियों को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार पहले ही जिलों में आक्सीजन आडिट करने की जिम्मेदारी आइआइटी को दे चुकी है।

शहरों में संक्रमण फैलने की पहले ही मिल जाएगी रिपोर्ट : प्रो. मणींद्र अग्रवाल के मुताबिक, माडल की सहायता से उप्र और दिल्ली के शहरों में संक्रमण फैलने की रिपोर्ट पहले ही दे दी जाएगी। यह किस तेजी से बढ़ेगा या उसमें कमी आएगी, इसकी रिपोर्ट तैयार होगी। तीसरी लहर को रोकने के लिए सरकार रणनीति बना सकेगी। यह प्लान बहुत ही विस्तारित ढंग से तैयार किया जा रहा है। इसमें संक्रमण की चाल को बहुत ही छोटे स्तर से देखा जाएगा।

सही समय पर कर सकेंगे लाकडाउन : आइआइटी की रिपोर्ट और आकलन के आधार पर सही समय पर लाकडाउन लगाया जा सकेगा। सरकार साप्ताहिक बंदी और नाइट कफ्र्यू का निर्णय ले सकेगी।

उत्तर प्रदेश और दिल्ली के प्रशासनिक अधिकारियों से बातचीत चल रही है। जल्द ही संस्थान के साथ करार किया जाएगा। आइआइटी कोरोना संक्रमण को लेकर पूरा प्लान तैयार कर रहा है। प्रो. मणींद्र अग्रवाल के नेतृत्व में काम किया जाएगा। -प्रो. अभय करंदीकर, निदेशक आइआइटी कानपुर।


बसपा की प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी की सफलता से मायावती प्रसन्न, बोलीं...

बसपा की प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी की सफलता से मायावती प्रसन्न, बोलीं...

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 में प्रदेश के 13 प्रतिशत ब्राह्मणों को जोड़ने के प्रयास में बहुजन समाज पार्टी की 23 जुलाई से चल रही प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी की सफलता पर पार्टी की मुखिया मायावती ने काफी प्रसन्नता व्यक्त की है। इसके साथ ही उन्होंने प्रदेश के अन्य दलों पर तंज भी कसा है। बसपा मुखिया मायावती ने इसको लेकर मंगलवार को दो ट्वीट भी किया है।

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान इंटरनेट मीडिया पर बेहद एक्टिव होने वाली उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने कहा कि मेरे निर्देशन में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव तथा राज्यसभा सदस्य सतीश चंद्र मिश्रा ने उत्तर प्रदेश में 23 जुलाई से प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी प्रारंभ की है जो कि ब्राह्मण सम्मेलन के नाम से काफी चर्चा में है। मायावती ने कहा कि इसके प्रति प्रदेश में उत्साहपूर्ण भागीदारी यह प्रमाण है कि इनका बीएसपी पर सजग विश्वास है। जिसके लिए सभी का दिल से आभार।

मायावती ने कहा कि अयोध्या से 23 जुलाई को श्रीरामलला के दर्शन से शुरू हुआ प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी का यह कारवां अम्बेडकरनगर व प्रयागराज जिलों से होता हुआ प्रदेश में लगातार सफलतापूर्वक आगे बढ़ता जा रहा है। प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी से विरोधी पाॢटयों की नींद उड़ गई है। इसको रोकने के लिए अब यह सभी पाॢटयां प्रदेश में किस्म-किस्म के हथकण्डे अपना रही हैं। इनसे सावधान रहें।


बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि हमारी पार्टी के ब्राह्मण सम्मेलन में दिखने लगा है कि प्रबुद्ध वर्ग का बसपा पर सजग विश्वास है।