पूर्वांचल की सभी नदियां उफनाईं, प्रशासन ने जारी किया एलर्ट

पूर्वांचल की सभी नदियां उफनाईं, प्रशासन ने जारी किया एलर्ट

गोरखपुर में बाढ़ का खतरा बढ़ रहा है। रोहिन नदी बुधवार से ही खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। राप्ती व सरयू नदियों के जलस्तर में भी लगातार वृद्धि जारी है। सरयू नदी अयोध्या पुल पर चेतावनी बिन्दु से ऊपर बह रही है। इसी तरह राप्ती नदी भी चेतावनी स्तर की ओर बढ़ रही है। श्रावस्ती जिले में राप्ती नदी खतरे का निशान पार कर गई है।

राप्ती भी खतरे के निशान के पास

ऐसे में माना जा रहा है कि राप्ती नदी अगले 48 घंटे में खतरे के निशान तक पहुंच जाएगी। इधर रोहिन नदी खतरे के बिन्दु 82.44 मीटर के सापेक्ष 82.95 मीटर पर बह रही है। नदियों के जलस्तर में वृद्धि को देखते हुए जिला प्रशासन की ओर से एलर्ट जारी कर दिया गया है और नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स (एनडीआरएफ) एवं स्टेट डिजास्टर रिस्पांस फोर्स (एसडीआरएफ) को भी एलर्ट किया गया है।


सभी बाढ़ चौकियों को सक्रिय करने का निर्देश, बंधों की बढ़ेगी निगरानी

प्रभारी अधिकारी आपदा एवं अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व ने सभी एसडीएम एवं तहसीलदारों को निर्देश दिया है कि जलस्तर में वृद्धि को देखते हुए सभी बाढ़ चौकियों को क्रियाशील कर दिया जाए। उपलब्ध कराए गए संसाधन जैसे लाउडहेलर, लाइफ जैकेट, सर्च लाइट एवं अप्रेन चौकियों पर रखवा दिए जाएं। बाढ़ चौकियों पर तैनात विभिन्न विभागों के कर्मचारियों का मोबाइल नंबर, नाम एवं पदनाम प्रदर्शित किया जाए। उन्होंने सिंचाई विभाग के साथ ही सभी विभागों को निर्देश दिया कि तटबंधों पर निगरानी बढ़ा दी जाए। 42 संवेदनशील एवं अतिसंवेदनशील तटबंधों पर विशेष निगरानी रखी जाए।

 
राहत शिविर तैयार रखने के निर्देश

राजस्व विभाग को निर्देश दिया गया कि नाविकों से संपर्क किया जाए। यदि कहीं नाव लगाने की जरूरत है तो वहां तत्काल नाव उपलब्ध कराई जाए। स्वास्थ्य विभाग एवं पशुपालन विभाग की रैपिड रिस्पांस टीम को तैयार रहने को कहा गया है। नदियों का जलस्तर बढ़ने पर सर्पदंश के मामले भी बढ़ते हैं, इसे देखते हुए सभी सीएचसी एवं पीएचसी पर स्नेक एंटी वेनम उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया है। इसकी निगरानी सभी एसडीएम करेंगे। राहत शिविर की भी व्यवस्था करने को कहा गया है। जिला आपदा विशेषज्ञ गौतम गुप्ता ने बताया कि नदियों का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है और तटबंधों की निगरानी भी तेज कर दी गई है।


बसपा की प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी की सफलता से मायावती प्रसन्न, बोलीं...

बसपा की प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी की सफलता से मायावती प्रसन्न, बोलीं...

उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव 2022 में प्रदेश के 13 प्रतिशत ब्राह्मणों को जोड़ने के प्रयास में बहुजन समाज पार्टी की 23 जुलाई से चल रही प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी की सफलता पर पार्टी की मुखिया मायावती ने काफी प्रसन्नता व्यक्त की है। इसके साथ ही उन्होंने प्रदेश के अन्य दलों पर तंज भी कसा है। बसपा मुखिया मायावती ने इसको लेकर मंगलवार को दो ट्वीट भी किया है।

लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान इंटरनेट मीडिया पर बेहद एक्टिव होने वाली उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने कहा कि मेरे निर्देशन में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव तथा राज्यसभा सदस्य सतीश चंद्र मिश्रा ने उत्तर प्रदेश में 23 जुलाई से प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी प्रारंभ की है जो कि ब्राह्मण सम्मेलन के नाम से काफी चर्चा में है। मायावती ने कहा कि इसके प्रति प्रदेश में उत्साहपूर्ण भागीदारी यह प्रमाण है कि इनका बीएसपी पर सजग विश्वास है। जिसके लिए सभी का दिल से आभार।

मायावती ने कहा कि अयोध्या से 23 जुलाई को श्रीरामलला के दर्शन से शुरू हुआ प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी का यह कारवां अम्बेडकरनगर व प्रयागराज जिलों से होता हुआ प्रदेश में लगातार सफलतापूर्वक आगे बढ़ता जा रहा है। प्रबुद्ध वर्ग संगोष्ठी से विरोधी पाॢटयों की नींद उड़ गई है। इसको रोकने के लिए अब यह सभी पाॢटयां प्रदेश में किस्म-किस्म के हथकण्डे अपना रही हैं। इनसे सावधान रहें।


बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा कि हमारी पार्टी के ब्राह्मण सम्मेलन में दिखने लगा है कि प्रबुद्ध वर्ग का बसपा पर सजग विश्वास है।