भूगर्भ जल रिचार्ज के लिए सीएम योगी करा रही चेकडैम-तालाबों का निर्माण

भूगर्भ जल रिचार्ज के लिए सीएम योगी करा रही चेकडैम-तालाबों का निर्माण

पीलीभीत: जल और जीवन एक-दूसरे के पूरक हैं। जहां जल है वहां जीवन है। यदि जल नहीं तो जीवन नहीं। जल से ही जीव-जन्तु, पेड़-पौधों आदि की उत्पत्ति एवं विकास होता है। आज बढ़ती हुई जनसंख्या एवं औद्योगीकरण के कारण भूजल का दोहन अधिक हो रहा है। भूगर्भ जल के स्तर में धीरे-धीरे कमी आ रही है।

जागरूकता के लिए 5 योजनाएं
प्रदेश में गिरते भूगर्भ जल स्तर में सुधार तथा भूगर्भ जल के नियोजित विकास एवं प्रबंधन के साथ भूजल से सम्बंधित समस्याओं के अध्ययन एवं भूजल संरक्षण हेतु जन जागरूकता के लिए 05 योजनाएं यथा-भूगर्भ जल सर्वेक्षण का विकास, आंकलन एवं सुदृढ़ीकरण, शासकीय भवनों पर रूफटाप रेनवाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली की स्थापना, भूजल संसाधनों की गुणवत्ता का अनुश्रवण एवं मैपिंग, भूजल जन-जागरूकता एवं प्रचार-प्रसार तथा राज्य भूजल भवन की स्थापना तथा नये पीजोमीटर की स्थापना की नवीन योजनायें प्रस्तावित हैं। प्रदेश में भूजल संसाधनों की सुरक्षा, संरक्षण, प्रबन्धन एवं विनियमन के दृष्टिगत उ0प्र0 भूगर्भ जल (प्रबन्धन एवं विनियमन) अधिनियम-2019 लागू किया गया है।

जलस्तर बढ़ाने की योजनाएं संचालित
प्रदेश सरकार भूजल के गिरते स्तर को सामान्य लाने के लिए सम्बंधित क्षेत्रों में वर्षा जल को रोकने के लिए बन्धियां/चेकडैम, बांध, तालाब, पोखरों आदि का निर्माण कराकर जलस्तर बढ़ाने की योजनाएं संचालित की हैं। घरों तथा शासकीय भवनों में रूफटाप रेन वाटर हार्वेस्टिंग प्रणाली की योजना संचालित है। जिसके अन्तर्गत शासकीय भवनों एवं निजी घरों के छतों से आने वाले वर्षा के पानी को खोदे गये गड्ढों/हार्वेस्टिंग प्रणाली में एकत्रित कर भूगर्भ जल रिचार्ज में अभिवृद्धि की जा रही है।

प्रदेश के डार्क घोषित विकास खण्डों में सरकार द्वारा बंधियां, चेकडैम, तालाबों का निर्माण कराया जा रहा है। भूगर्भ जल रिचार्ज में अभिवृद्धि हेतु स्थानीय नदी, नालों, एवं वर्षा के जलबहाव वाले स्थलों पर चेकडैम बनाकर वर्षा जल को रोकते हुए भूगर्भ जल स्तर को बढ़ाने पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। प्रदेश में अब तक विभिन्न नदियों , नालों आदि पर 351 से अधिक चेकडैम बनाये गये हैं। जिनपर प्रदेश सरकार द्वारा 131.40 करोड़ रूपये व्यय किया गया है।

तालाबों पर विशेष ध्यान
प्रदेश सरकार द्वारा वर्षा जल संचयन एवं भूजल संवर्द्धन के अन्तर्गत क्रिटिकल तथा अतिदोहित चयनित विकास खण्डों में भूजल संवर्द्धन, सिंचाई, मछली पालन, पशुओं के लिए पीने का पानी की उपलब्धता सुनिश्चित करने आदि कार्यों हेतु तालाबों का निर्माण/जीर्णोद्धार कराया जा रहा है। तालाबों के पुनर्विकास एवं प्रबंधन हेतु 01 हे0 से 05 हेक्टेयर क्षेत्रफल तक के तालाबों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है।   प्रदेश सरकार ने वर्ष 2019-20 में 47.60 करोड़ रू0 व्यय करते हुए 118 तालाबों का निर्माण कराया है तथा वित्तीय वर्ष 2020-21 में 48 करोड़ रू0 व्यय करते हुए अब तक 117 तालाबों का निर्माण/जीर्णोद्धार कराया गया है। प्रदेश सरकार भूगर्भ जल के स्तर में वृद्धि करते हुए कृषि उत्पादन में वृद्धि हेतु कृत संकल्पित है। इस दिशा में प्रदेश सरकार द्वारा कराये जा रहे कार्य सराहनीय हैं।


होली पर उत्तर प्रदेश आने वाले लोगों के लिए योगी सरकार का नया आदेश

होली पर उत्तर प्रदेश आने वाले लोगों के लिए योगी सरकार का नया आदेश

लखनऊ होली (Holi 2021)का त्योहार आने वाला है. इस दौरान कई लोगों का दूसरे राज्यों से अपने गृह जनपद यूपी में आना होगा. होली के त्योहार में कोविड-19 वायरस के संक्रमण के फैलने का खतरा भी बना हुआ है. ऐसे में योगी सरकार ने दूसरे राज्यों से उत्तर प्रदेश आने वाले लोगों के लिए कठोरता कर दी है. रविवार को यूपी के अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बोला कि प्रदेश में अधिक संक्रिमत राज्यों से आने वाले लोगों की जाँच कराई जाएगी. फोकस टेस्टिंग पर जोर देते हुए योगी आदित्यनाथ सरकार ने प्रदेश में 13 मार्च से 27 मार्च तक टेस्टिंग अभियान चलाने को बोला है.

वैक्सीन बूथों पर केवल महिला स्वास्थ्य कर्मियां

अपर मुख्य सचिव ने बोला कि सोमवार आठ मार्च को महिला दिवस के मौके पर अनूठी पहल की गई है. जनपद में तीन वैक्सीन बूथों पर केवल महिला स्वास्थ्य कर्मियों की तैनाती रहेगी. इन बूथों पर 60 वर्ष से अधिक की स्त्रियों और 45 से 60 वर्ष की महिलाएं जिन्हें पहले से चिन्हित किया गया है और गंभीर रोग से ग्रसित हैं उनका भी वैक्सीनेशन किया जाएगा. उन्होंने आगे बताया कि शनिवार को 1,08,486 सैंपल की जाँच हुई. अब तक 32,086,306 सैंपल की जाँच की गई है. वैक्सीन को लेकर बोला कि प्राइवेट हॉस्पिटल ों में वैक्सीन का दाम 250 रुपये रखा गया है. इससे अधिक यदि मांगा जाए तो सीएमओ से कम्पलेन करें.

यूपी में कोविड-19 के 117 नए मामले

उत्तर प्रदेश में कोविड-19 वायरस के पिछले 24 घंटे में 117 नये मुद्दे आने के बाद अब तक प्रदेश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 6,04,279 हो गई जबकि आठ और लोगों की मृत्यु के बाद प्रदेश में मरने वालों का आंकड़ा 8,737 पर पहुंच गया है. डिस्चार्ज होने वालों की संख्या 191 है. सक्रिय मामलों की संख्या घटकर अब 1,647 रह गई है. अपर मुख्‍य सचिव स्‍वास्‍थ्‍य अमित मोहन प्रसाद ने रविवार को पत्रकारों को बताया कि प्रदेश में कोविड-19 के अब तक 6,04,279 मुद्दे सामने आए हैं जबकि 8,737 लोगों की मृत्यु हो चुकी है. उन्होंने बताया कि राज्‍य में अब 1647 संक्रमितों का उपचार चल रहा है, जिनमें से 707 पृथकवास में रहकर स्‍वास्‍थ्‍य फायदा ले रहे जबकि 82 मरीज निजी हॉस्पिटल ों में उपचार करा रहे हैं और बाकी मरीजों का सरकारी हॉस्पिटल ों में इलाज चल रहा है.


सोने के दाम में भारी गिरावट, फटाफट चेक करें नया रेट       7th pay commission: कर्मचारियों के लिए खुशखबरी       इन राशियों के लिए खुल रहे हैं सफलता के द्वार, जानें       महाशिवरात्रि स्पेशल, भगवान शिव एक पत्नी और दो पुत्रों के पिता नहीं, जानें       विष्णु का प्रिय शंख, भोलेबाबा की पूजा में वर्जित, आखिर क्यों       Beautiful to Bold! वुमेन्स डे पर अपने जीवन की खास स्त्रियों को भेजें ये मैसेज       Lovely Ladies! बढ़ती आयु में इन 8 बातों की टेंशन छोड़कर खुलकर जिएं       दुनिया में इस स्मार्टफोन को सबसे ज्यादा लोग करते हैं पसंद       सोशल मीडिया पर छेड़छाड़, बचाव के लिए करें ये काम       Flipkart सेल: इन स्मार्टफोन्स पर मिल रहा बड़ा डिस्काउंट       भुलकर भी एक साथ न खाएं ये चीजें, हो सकता है ये बड़ा नुकसान       तेजी से कम होगी पेट की चर्बी, सोने से पहले करें इस चीज का सेवन       इस तरह शरीर में बहने लगेगी पॉजिटिविटी, कई रोंगों का रामबाण उपचार है भ्रामरी प्राणायाम       ज्‍यादा खाने पर नुकसान भी पहुंचा सकते हैं ड्राई फ्रूट्स       खाना खाते वक्‍त क्‍या आप भी पीते हैं पानी?       बिना GYM जाए तेजी से कम होगा वजन, रोज 15 मिनट घर बैठे करें यह काम       Women’s Day: महिला डॉक्टर ने प्रग्नेंसी के दौरान किया ऐसा काम       खाने में ज्यादा नमक है जहर की तरह       मिलावटी चीजों से रहें सतर्क, ऐसे करें पहचान, खान-पान होगा शुद्ध       दुनिया का सबसे धनी बोर्ड बीसीसीआई महिला इवेंट को लेकर सबसे पीछे!