बड़ी खबर: गोरखपुर से मुंबई जाने वाली ये एक्सप्रेस हुई सुपरफास्ट

बड़ी खबर: गोरखपुर से मुंबई जाने वाली ये एक्सप्रेस हुई सुपरफास्ट

गोरखपुर: गोरखपुर से मुंबई के लिए रवाना होने वाली पहली कुशीनगर एक्सप्रेस ट्रेन पूर्वोत्तर रेलवे की हो गई है। पूर्वोत्तर रेलवे के खाते में आने के साथ ही ट्रेन को न सिर्फ सुपरफास्ट का दर्जा मिल गया, बल्कि इसका किराया भी बढ़ गया है। अब शयनयान में यात्रा के लिए जहां 20 रुपये अधिक देने होंगे वहीं एसी में सफर के लिए 30 रुपये अधिक देने होंगे। यात्रियों को भले ही 20 या 30 रुपये अधिक देना होगा लेकिन उनकी यात्रा अब 3 घंटे कम समय में ही पूरी हो जाएगी।

पूर्वोत्तर रेलवे के नियंत्रण में कुशीनगर एक्सप्रेस आई तो वह सीधे कुशीनगर सुपरफास्ट हो गई। कुशीनगर में सुपरफास्ट का तमगा लगते ही ट्रेन नॅम्बर तो बदला ही साथ ही 11 अप्रैल से इसका किराया भी बढ़ जाएगा। सभी श्रेणियों में सुपरफास्ट शुल्क अतिरिक्त जुड़ जाएगा। सुपरफास्ट बनने के बाद लगभग तीन घंटे के समय की बचत तो जाएगी लेकिन यात्रियों की जेब भी ढीली होने लगेगी। लोगों को सुपरफास्ट के नाम पर किराये में स्लीपर में 20 रुपये और एसी थर्ड और एसी टू में 30 रुपये वर्तमान किराए से अतिरिक्त देना होगा।

मुंबई की ट्रेनों में 11 रेक ही लगेगी
जानकारों के अनुसार रेलवे बोर्ड ने गोरखपुर से मुंबई के बीच चलने वाली कुशीनगर, गोरखपुर-एलटीटी और दादर एक्सप्रेस में बदलाव कर एक करोड़ की रेक भी बचा ली है। इन तीनों ट्रेनों के संचालन में 12 रेक का उपयोग होता है। इन तीनों ट्रेनों को चलाने में 11 रेक ही लगेगी। दरअसल, रेल बचाने व कमाई बढ़ाने के लिए ही रेलवे ने तीनों ट्रेनों में व्यापक फेरबदल किया है।

किन स्टेशनों पर ठहराव नहीं होगा अभी तय होना बाकी
11 अप्रैल 2021 से कुशीनगर और गोरखपुर-एलटीटी एक्सप्रेस नए नंबर, नए रेक संयोजन, ठहराव और नई समय सारिणी के आधार पर चलाई जाएगी। नियमित होने के बाद इन दोनों ट्रेनों का नंबर भी 2 से शुरू हो जाएगा। लेकिन सुपरफास्ट होने के बाद किन स्टेशनों का स्टापेज खत्म होगा, अभी तय नहीं हुआ है। इसके बाद ही यात्रा शुरू करने व खत्म करने के समय का पता चलेगा। जबकि दादर एक्सप्रेस का नंबर तो नहीं बदलेगा लेकिन यह ट्रेन भी नए रेक संयोजन और नई समय सारिणी के आधार पर चलने लगेगी। इस ट्रेन में भी अति आधुनिक लिंकहाफमैन बुश (एलएचबी) कोच लगने लगेंगे।

गोरखपुर से लोकमान्य तिलक टर्मिनल (मुंबई) का किराया
क्लास                                       वर्तमान में                                             11 अप्रैल से प्रभावी किराया

स्लीपर                                            670                                                           690

एसी थर्ड                                          1795                                                         1825

एसी-टू                                            2645                                                        2675


हाथरस हत्याकांड पर यूपी विधानसभा में सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- फिर सवालों के घेरे में सपा की टोपी

हाथरस हत्याकांड पर यूपी विधानसभा में सीएम योगी आदित्यनाथ बोले- फिर सवालों के घेरे में सपा की टोपी

लखनऊ। उत्तर प्रदेश बजट 2021-22 पर बुधवार को विधानसभा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि सदन में पेश बजट के माध्यम से प्रदेश के विकास को आगे बढ़ाने का कार्य किया गया है। काफी रुचि के साथ सभी पक्षों के सदस्यों ने सदन में अपना पक्ष रखा। लोकतांत्रिक प्रणाली का सृजन प्रदेश का विधानमंडल कर रहा है, यह हम सभी के लिए गौरव का विषय है। इसके लिए सभी सदस्यों का अभिनंदन करता हूं। उन्होंने कहा कि प्रदेश ही नहीं देश स्तर पर भी यूपी के बजट की सराहना की है।

सीएम योगी ने एक बार फिर सदन में समाजवादी पार्टी की टोपी का मुद्दा उछाला। उन्होंने कहा कि हाथरस केस में यह टोपी फिर से सवालों के घेरे में हैं। हाथरस हत्याकांड में एक बार फिर यह टोपी शर्मसार हुई है। इंटरनेट मीडिया पर लोग पूछ रहे हैं कि आखिर यह टोपी वाला कौन है? इस पर नेता प्रतिपक्ष रामगोविंद चौधरी एक पोस्टर दिखाते हुए कहा कि इसमें भाजपा सांसद के साथ व्यक्ति खड़ा है। इस पर सीएम योगी ने कहा कि वहां एक समाजवादी पार्टी की रैली होने वाली है। उस रैली में उस व्यक्ति के पोस्टर होर्डिंग लगे हैं। होर्डिंग, पोस्टर में समाजवादी पार्टी के नेताओं के भी चित्र हैं।

यूपी विधानसभा में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रामधारी सिंह दिनकर की कविता की पंक्तियां 'सच है विपत्ति जब आती है तो कायर को ही दहलाती है, सूरमा नहीं विचलित होते क्षण एक नहीं धीरज खोते। विघ्नों गले लगाते हैं, कांटों में राह बनाते हैं, मुंह से कभी नहीं उफ कहते।' सुनाते हुए कहा कि देश के लिए और प्रदेश के लिए अक्षरशः सही बैठती हैं। बजट के परिप्रेक्ष्य में यदि देखना हो तो बिना विचलित हुए हम लोगों ने इसका अनुसरण किया है। उन्होंने कहा जो पिछले सरकारें थीं वह केवल चार्वाक के सिद्धांत 'यावज्जीवेत्सुखं जीवेत् ऋणं कृत्वा घृतं पिबेत्' यानि 'मनुष्य जब तक जीवित रहे तब तक सुख पूर्वक जिये। ऋण करके भी घी पिये।' पर कार्य करती थी।  

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि तात्कालिक आवश्यकता के लिए बनाई जाने वाली योजनाएं न पार्टी का और न प्रदेश की हित कर सकती हैं। हम एक विजन के साथ विकास के रोड मैप को तैयार किया है और उसके अनुसार विकास के एजेंडे को लागू किया है। यही पार्टी को और प्रदेश को एक नई ऊंचाई पर देगा। यही पार्टी को लंबे समय तक शासन करने और प्रदेश को विकास की नई अर्थव्यवस्था के साथ जोड़ने का कार्य करेगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में जो कार्य वर्षों से नहीं हो सके थे वे सभी विगत चार वर्षों में रास्त पर आते दिखाई दिए। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मात्र चार वर्षों में उत्तर प्रदेश देश की दूसरी सबसे बड़ी अर्थ व्यवस्था बन गया है। आज हम 10 लाख 90 हजार करोड़ रुपये से बढ़कर 21 लाख 73 हजार करोड़ रुपये की इकोनॉमी बन गए हैं। इन चार वर्षों में दो गुने से ज्यादा की बढ़ोंतरी हुई है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2022 के बाद जब बीजेपी की सरकार दोबारा सत्ता में आएगी तो उत्तर प्रदेश देश की पहली इकोनॉमी बनेगी। हम उसी लक्ष्य को लेकर कार्य कर रहे हैं। 2015- 16 में उत्तर प्रदेश की इज ऑफ डूइंग बिजनेश में 14वें स्थान पर था। आज उत्तर प्रदेश इज ऑफ डूइंग में दूसरे स्थान पर है। सारी व्यवस्थाएं वही हैं। हमने कार्यपद्धती बदली है।

सीएम योगी ने विपक्ष पर हमला बोलते हुए कहा कि लोग उत्तर प्रदेश से पलायन कर रहे थे। लोग यहां से भाग रहे थे। लोगों का विश्वास टूट चुका था। उत्तर प्रदेश में प्रति व्यक्ति आय 45 हजार थी। आज प्रति व्यक्ति आय लगभग 95000 है। यह परिवर्तन है। प्रदेश में ईज आफ लिविंग को भी बेहतर किया गया है। सभी क्षेत्रों में समग्र प्रयास किया गया। इसका यह परिणाम है। यह आंकड़े हमारी सरकार के नहीं हैं देश की नामी वित्तीय संस्थाओं और केंद्र सरकार के हैं।

विधानसभा में बजट पर चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जब मैं मुख्यमंत्री कार्यालय बैठने के लिए एनेक्सी भवन पहुंचा तो वहां लोगों से पूछा कि मुख्यमंत्री कब आते थे। तो सब लोग चुप खड़े थे, लेकिन एक व्यक्ति ने कहा कि कभी-कभार। मैंने पूछा कि कभी कभार का मतलब? साल में एकाध बार आ जाया करते थे। अगर मुख्यमंत्री अपने कार्यालय में नहीं बैठेंगे तो फिर राज्य का बेड़ा गर्क होना तय है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि चार वर्ष में 40 लाख लोगों को आवास मिले। हर गांव की कनेक्टिविटी हो जाए। इंटर स्टेट कनेक्टिविटी ठीक हो गई। नेता प्रतिपक्ष कहते हैं कि हम भी करना चाहते थे लेकिन कर नहीं पाए इसलिए जनता ने कहा कि आप जहां के लायक हैं वहीं बैठें। बजट पर बोलते हुए कहा कि जब वित्त मंत्री बजट पेश कर रहे थे उस वक्त देश भर में यूपी के बारे में बहुत से चर्चा हो रही थी। महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा होनी चाहिए। बजट में हर तबके ने की है। प्रदेश ने ही नहीं बल्कि देश में सरहाना हुई है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोरोना के समय मे बजट लेकर आए हैं। लोग कोविड से भयभीत हैं। एक मार्च से 60 की उम्र से ऊपर सभी नागरिक को और बीमार लोगों को वैक्सीन देने का कार्य शुरू हो गया है। तेजी से प्रक्रिया आगे बढ़ रही है। यदि पूरा देश अपने नेतृत्व पर भरोसा करके आगे बढ़ रहा है तो उस देश को दुनिया की महाशक्ति बनने से कोई रोक नहीं सकता। हम सब जानते हैं कि उत्तर प्रदेश में जो कार्य आजादी से लेकर अब तक नहीं हो पाया, वह विगत चार वर्षों में हुए हैं। 2018-19 के बजट को प्रदेश के औद्योगिक विकास को समर्पित किया था। परंपरागत उद्योग बढ़ा है। लाभ अब दिखाई देने लगा है।


‘Aruvi’ के हिन्दी रीमेक में नजर आएंगी फातिमा सना शेख, कहा...       Virat Kohli अनुष्का शर्मा की हाइट को लेकर थे परेशान, जानें       Shweta Tiwari पलक तिवारी और रेयांश के साथ आई नजर       सिद्धार्थ मल्होत्रा के साथ नजर आएंगी रश्मिका मंदाना, Mission Majnu की शूटिंग लखनऊ में हुई शुरू       इस एक्टर के निधन की ख़बर सुनकर इसलिए सुन्न पड़ गये थे अभिषेक कपूर       Saif Ali Khan ने कोविड-19 वैक्सीन की ली डोज       इस एक्ट्रेस के बॉयफ्रेंड ने खेल मंत्री किरण रिजिजू से आयकर छापे मामले में मांगी मदद       क्या ‘इंडियन आइडल 12’ बंद होने जा रहा है? शो को लेकर सोशल मीडिया पर चर्चा       जेपी दत्ता और बिंदिया गोस्वामी की बेटी निधि जयपुर में कर रहीं शादी       ‘Liger’ का गोवा शेड्यूल हुआ पूरा, इस एक्ट्रेस ने शेयर किए पार्टी के फोटो       आज है श्री राम की भक्त माता शबरी की जयंती, जानें       आज है फाल्गुन मास की कालाष्टमी, इस मुहूर्त में करें पूजा       भगवान शिव ने स्वयं बताई है महाशिवरात्रि व्रत की महिमा, जानें       कैसे हुई थी माता शबरी की प्रभु श्री राम से मुलाकात       मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए शुक्रवार को जरुर करें ये उपाय       इस महाशिवरात्रि करें ये दो कार्य, आप पर होगी भगवान शिव की कृपा       कालाष्टमी आज, जानें मुहूर्त, राहुकाल एवं दिशाशूल       भगवान शिव ने क्यों लिया अर्धनारीश्वर अवतार, हमारे और आप से जुड़ा है कारण       क्या है कुंभ मेले में शाही स्नान का महत्व, विशेष फल की होती है प्राप्ति       कर्क राशि वालों को आर्थिक मामलों में सफलता मिलेगी, धन, यश और कीर्ति में वृद्धि होगी