200 विकेट पूरे कर मोहम्मद शमी की आंखों में आएं आंसू, पिता को याद कर कही ये बात

200 विकेट पूरे कर मोहम्मद शमी की आंखों में आएं आंसू, पिता को याद कर कही ये बात

दक्षिण अफ्रीका के विरूद्ध सेंचुरियन में खेले गए टेस्ट मुकाबले में मोहम्मद शमी ने धमाकेदार प्रदर्शन किया. मोहम्मद शमी ने टेस्ट क्रिकेट में अपने 200 विकेट भी पूरे किए और अफ्रीका में पहली बार एक पारी में पांच विकेट भी झटके. इस अद्भुत उपलब्धि के दौरान मोहम्मद शमी की आंखों में आंसू आ गए और उन्होंने अपने दिवंगत पिता को याद किया.

मोहम्मद शमी ने तीसरे दिन के खेल के बाद एक टीवी चैनल पर गेंदबाजी कोच पारस महाम्ब्रे के साथ खुशी के पल साझा किए. मोहम्मद शमी ने बोला कि देश के लिए खेलों में भाग लेने की सफलता उनके लिए बहुत ज्यादा है. उन्होंने बोला कि मैं आने वाले मैच में भी अच्छा प्रदर्शन करने की प्रयास करूंगा.

चैट के दौरान मोहम्मद शमी की आँखों में आंसू भी आ गए थे, और जब उनसे 200 विकेट तक पहुंचने के उत्सव के बारे में पूछा गया, तो उन्होंने उत्तर दिया कि यह मुख्य रूप से उनके पिता के लिए था, जिनका 2017 में मृत्यु हो गया था. नतीजतन, श्रेय उस आदमी को दिया जाना चाहिए जिन्होंने हमें हमारे लक्ष्यों को प्राप्त करने में सहायता की. मोहम्मद शमी के पिता तौसीफ अली का इसी वर्ष जनवरी में मृत्यु हो गया था। मोहम्मद शमी ने अपने पिता के लिए एक भावनात्मक संदेश भी लिखा था, जिसमें उन्होंने अपने पिता को एक बार फिर से चलते हुए देखने की ख़्वाहिश जाहीर की थी.

मोहम्मद शमी को उसी साल इंटरनेट एब्यूज का भी शिकार होना पड़ा, जब उनका टी 20 विश्व कप में पाक के विरूद्ध बेकार प्रदर्शन था, और उनकी भारी आलोचना हुई थी. विराट कोहली ने इस विषम परिस्थितियों में मोहम्मद शमी का समर्थन किया.


सेंचुरियन टेस्ट: साउथ अफ्रीका के सामने मुश्किल लक्ष्य, जीत के बेहद करीब भारत

सेंचुरियन टेस्ट: साउथ अफ्रीका के सामने मुश्किल लक्ष्य, जीत के बेहद करीब भारत

भारत ने सेंचुरियन टेस्ट में साउथ अफ्रीका के सामने जीत के लिए 305 रन का लक्ष्य रखा है. हिंदुस्तान की दूसरी पारी 174 रन पर सिमट गई. अतिथि टीम के पास पहली पारी में 130 रन की बढ़त थी ऐसे में उसने साउथ अफ्रीका के सामने एक मुश्किल लक्ष्य रखा है. आंकड़ों की बात करें तो मेजबान टीम के लिए राह बहुत मुश्किल होने वाली है.

आंकड़ों की बात करें तो हिंदुस्तान के विरूद्ध टेस्ट क्रिकेट में 250 रन से अधिक का लक्ष्य केवल दो बार ही सफलतापूर्वक हासिल किया जा सका है. यानी भारतीय बॉलिंग ज्यादातर मौकों पर विपक्षी टीम को यह स्कोर देने के बाद जीतने नहीं देती है.

21 दिसंबर 1977 को पर्थ में ऑस्ट्रेलिया ने 8 विकेट पर 342 रन बनाए थे. इसके अतिरिक्त वेस्टइंडीज ने 29 नवंबर 1987 को 5 विकेट पर 276 रन बनाए थे.

सेंचुरियन की बात करें तो इस मैदान पर हिंदुस्तान ने इससे पहले दो टेस्ट मैच खेले थे और दोनो में उसे हार मिली थी. हिंदुस्तान को 2010 और 2018 में इस मैदान पर साउथ अफ्रीका ने हराया था.

भारतीय टीम के कैप्टन विराट कोहली ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय किया. सलामी बल्लेबाज केएल राहुल ने बहुत बढ़िया सेंचुरी बनाई. उन्होंने 123 रन की पारी खेली. इसके अतिरिक्त मयंक अग्रवाल ने भी 60 रन बनाए.

इसके बाद बोलर्स ने अच्छा प्रदर्शन किया. साउथ अफ्रीका की टीम 197 रन ऑल आउट हो गई. मोहम्मद शमी ने पांच विकेट लिए और जसप्रीत बुमराह और शार्दुल ठाकुर ने दो-दो विकेट लिए. इसके बाद हिंदुस्तान ने दूसरी पारी में 174 रन बनाए. यहां ऋषभ पंत ने 34 रन बनाए.