टेस्ट चैम्पियनशिप में पहले से दूसरे नंबर पर पहुंची टीम इंडिया

टेस्ट चैम्पियनशिप में पहले से दूसरे नंबर पर पहुंची टीम इंडिया

इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (ICC) ने वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप के पॉइंट सिस्टम में बदलाव किया है। अब टीमों की रैंकिंग उनके पॉइंट्स के आधार पर नहीं, बल्कि पॉइंट्स के पर्सेंटेज के आधार पर होगी। नए सिस्टम से भारत रैंकिंग में पहले से दूसरे नंबर पर आ गया है। ICC के चीफ एग्जीक्यूटिव मनु साहनी ने कहा कि क्रिकेट कमेटी और चीफ एग्जीक्यूटिव कमेटी दोनों ने इस नए सिस्टम को सपोर्ट किया है। ये कोरोना के कारण टेस्ट न खेल पाने वाली टीमों को नुकसान नहीं पहुंचाएगा।

नए सिस्टम के बाद आखिर क्या बदला है? पहले सिस्टम कैसे काम कर रहा था? नए सिस्टम का किस टीम पर क्या असर पड़ेगा? आइये जानते हैं...

टेस्ट चैम्पियनशिप में क्या बदलाव हुआ है?
अनिल कुंबले की अगुवाई वाली ICC की क्रिकेट कमेटी ने टेस्ट चैम्पियनशिप में टीमों की रैंकिंग पर्सेंटेज बेसिस पर कैलकुलेट करने का फैसला किया है। इस नए सिस्टम में टीमों द्वारा खेली गई सीरीज और उस सीरीज में उनके पॉइंट्स के आधार पर पर्सेंटेज निकाला जाएगा।

इससे टीमों की पॉइंट्स टेबल में रैंकिंग में कितना बदलाव आया?
नए सिस्टम से पहले भारत 360 पॉइंट्स के साथ पॉइंट टेबल में टॉप पर था। वहीं, ऑस्ट्रेलिया 292 पॉइंट्स के साथ दूसरे नंबर पर था। नया सिस्टम आने के बाद भारत दूसरे नंबर पर आ गया वहीं, ऑस्ट्रेलिया पहले नंबर पर। इसका कारण भारत का ऑस्ट्रेलिया से एक सीरीज ज्यादा खेलना। हालांकि, बाकी टीमों की रैंकिंग पर इससे कोई असर नहीं पड़ा है।

नया सिस्टम कैसे काम करता है?
कोई टीम अगर अपनी सभी छह सीरीज खेलती है तो अधिकतम 720 पॉइंट्स पा सकती है। छह सीरीज में अगर टीम के कुल 480 पॉइंट्स होते हैं तो उसका पर्सेंटेज पॉइंट 66.67% होगा। वहीं, कोई टीम अगर पांच सीरीज ही खेलती है तो मैक्सिमम पॉइंट्स 600 हो जाएंगे। पांच सीरीज खेलने वाली इस टीम के अगर 450 पॉइंट्स होते हैं तो उसका पर्सेंटेज पॉइंट्स 75% होंगे। ऐसे में पांच सीरीज खेलने वाली टीम छह सीरीज खेलकर 480 पॉइंट्स पाने वाली टीम से ऊपर रहेगी।

तो फिर पहले वाला सिस्टम क्या था और कैसे काम करता था?

  • 2019 में ICC ने टेस्ट चैम्पियनशिप का ऐलान किया। तब ये कहा गया कि अगले दो साल तक टेस्ट रैंकिग की टॉप नौ टीमों के बीच टेस्ट चैम्पियनशिप होगी। इस दौरान हर टीम कुल छह टीमों के खिलाफ सीरीज खेलेगी। तीन सीरीज अपने देश में तीन सीरीज देश के बाहर।
  • ये सभी सीरीज जून 2021 में टेस्ट चैम्पियनशिप के फाइनल से पहले खत्म होनी हैं।
  • एक सीरीज में चाहे दो मैच हों, चाहे पांच, सीरीज के लिए कुल 120 पॉइंट्स होते हैं। इस तरह छह सीरीज के लिए अधिकतम 720 पॉइंट्स होंगे। यानी, अगर दो मैच की सीरीज है तो एक मैच जीतने पर टीम को 60 पॉइंट्स मिलते हैं। वहीं, पांच मैचों की सीरीज है तो एक मैच जीतने पर 24 पॉइंट्स मिलते हैं। मैच ड्रॉ होने पर दोनों टीमों को बराबर पॉइंट्स मिलते हैं।
  • 1 अगस्त 2019 को इंग्लैड और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेला गया टेस्ट मैच इस चैम्पियनशिप का पहला मैच था।
  • अब आगे भी जो सीरीज खेली जाएंगी उनमें भी इसी तरह से पॉइंट्स मिलने हैं। जैसे- भारत ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चार मैच की सीरीज खेलने जा रहा है। इस सीरीज का एक मैच जीतने पर टीम इंडिया को 30 पॉइंट्स मिलेंगे। मैच टाई होता है तो 15 और ड्रॉ होता है तो 10 पॉइंट्स।

जब पॉइंट्स पहले की ही तरह मिलेंगे तो नया सिस्टम क्यों लाया गया?

  • कोरोना के कारण मार्च 2020 के बाद कई टीमों की सीरीज रद्द हुईं। ICC जून 2021 में ही टेस्ट चैम्पियनशिप का फाइनल कराना चाहता है। ऐसे में जो सीरीज रद्द हुईं, उन्हें इतनी जल्दी नहीं कराया जा सकता है।
  • नई स्थिति में कुछ टीमें मार्च 2021 तक टेस्ट चैम्पियनशिप की पांच सीरीज खेल पाएंगी तो कुछ छह। वहीं, पाकिस्तान-बांग्लादेश की एक सीरीज तो बीच में ही रुक गई। बांग्लादेश तो मार्च 2021 तक सिर्फ ढाई सीरीज ही खेल पाएगा।
  • ऐसे में डायरेक्ट पॉइंट्स सिस्टम में सभी टीमों को बराबर मौका नहीं मिल सकता था। इससे गैर-बराबरी को दूर करने के लिए आईसीसी को पर्सेंटेज पॉइंट्स सिस्टम लाना पड़ा।

नया सिस्टम टीमों के फाइनल में पहुंचने की संभावना पर कितना असर डालेगा?

  • नया सिस्टम पॉइंट टेबल पर बहुत ज्यादा असर डाले इसकी संभावना बहुत कम है। अभी जिस तरह की स्थिति है उसमें सिर्फ न्यूजीलैंड और इंग्लैंड ही ऐसी टीमें हैं जो भारत और ऑस्ट्रेलिया को टॉप-2 से नीचे कर सकने की स्थित में हैं।
  • न्यूजीलैंड को अभी वेस्टइंडीज और पाकिस्तान से अपने घर में खेलना है। वहीं, इंग्लैंड को फरवरी में भारत के खिलाफ भारत में पांच मैचों की सीरीज खेलनी है।
  • अगर न्यूजीलैंड अपनी दोनों सीरीज जीत लेता है। इंग्लैंड भारत को हरा देता है और ऑस्ट्रेलिया साउथ अफ्रीका से हार जाता तो ये टेस्ट चैम्पियनशिप बहुत रोमांचक हो जाएगी। क्योंकि, पॉइंट्स टेबल में टॉप पर रहने वाली दो टीमें जून में होने वाले फाइनल में आमने-सामने होंगी।

भारत के पास अब फाइनल खेलने के लिए क्या करना होगा?
सबसे पहले उसे ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलना है। स्टीव स्मिथ और डेविड वॉर्नर की वापसी के बाद भारत के लिए ये सीरीज उतनी आसान नहीं होने जा रही जितनी आसान 2018-19 की पिछली सीरीज थी। ऊपर से कप्तान विराट कोहली भी सीरीज के अंतिम तीन मैचों से हट सकते हैं। ऐसे में उसकी मुश्किलें बढ़ेंगी। इसके बाद उसे फरवरी में इंग्लैंड से अपने घर में 5 टेस्ट की सीरीज खेलना है। यहां उसके जीतने की संभावनाएं अधिक हैं।

ऐसे में टीम इंडिया के लिए कुछ संभावित गणित इस तरह के हैं
पहली स्थिति

  • अगर भारत ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज के सभी मैच हार जाए और इंग्लैंड के खिलाफ सभी मैच जीत जाए तो उसके कुल 480 अंक और 66.67% पॉइंट पर्सेंटेज होगा।
  • वहीं, न्यूजीलैंड अगर अपने घर में होने वाली दोनों सीरीज के सभी मैच जीत लेता हो तो उसके 420 अंक और 70% पॉइंट्स पर्सेंटेज हो जाएंगे। ऐसे में टीम इंडिया फाइनल की दौड़ से बाहर हो सकती है।

दूसरी स्थिति

  • अगर भारत इंग्लैड से अपने सभी मैच जीत जाए और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज 3-1 से हार जाए, तो उसके पास 510 पॉइंट और 70.83% पॉइंट पर्सेंटेज होगा। ऐसे में न्यूजीलैंड अपने घर की दोनों सीरीज के सभी मैच जीतकर भी भारत से पीछे रहेगा।

तीसरी स्थिति

  • अगर भारत इंग्लैड से अपने सभी मैच जीत जाए और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ सीरीज 2-0 से हार जाए, तो उसके 500 पॉइंट और 69.44% पॉइंट पर्सेंटेज रह जाएगा। इस स्थिति में अगर न्यूजीलैंड अपने सभी मैच जीतती है तो भारत के लिए मुश्किल हो सकती है।
  • हालांकि, अगर न्यूजीलैंड दोनों सीरीज में से एक भी मैच हारता है तो भारत के लिए आसानी हो सकती है। क्योंकि न्यूजीलैंड की दोनों सीरीज दो-दो मैचों की है। एक भी हार उसे 60 पॉइंट का नुकसान कराएगी।

अजीत अगरकर के नाम दर्ज हैं कई रिकॉर्ड

अजीत अगरकर के नाम दर्ज हैं कई रिकॉर्ड

क्रिकेट की दुनिया में जिन बेहतरीन ऑलराउंडरों ने फैंस का दिल जीता है, उनमें अजीत अगरकर का नाम विशेष तौर पर उल्लेखनीय है। अजीत अगरकर ने क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में भारत का प्रतिनिधित्व किया और दो सौ से ज्यादा मैच खेले। अपने क्रिकेट जीवन के दौरान उन्होंने कई रिकॉर्ड भी बनाए।

वे वनडे क्रिकेट मैच में भारत की ओर से सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले तीसरे गेंदबाज हैं। मुंबई में 4 दिसंबर 1977 को जन्मे अजीत अगरकर ने आईपीएल में भी हिस्सा लिया था और दिल्ली डेयरडेविल्स और कोलकाता नाइटराइडर्स का प्रतिनिधित्व किया।

वनडे में तोड़ा था डेनिस लिली का वर्ल्ड रिकॉर्ड
अगरकर ने अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत में ही ऑस्ट्रेलिया के तेज गेंदबाज डेनिस लिली का विश्व रिकॉर्ड तोड़ दिया था। उन्होंने 23 वनडे मैचों में ही सबसे तेज 50 विकेट लेकर लिली को पीछे छोड़ा था। अगरकर का यह रिकॉर्ड 1998 से 2009 तक उनके नाम रहा मगर इसके बाद श्रीलंका के स्पिनर अजंता मेंडिस ने उनका यह रिकॉर्ड तोड़ दिया था। मेंडिस ने 19 वनडे मैचों में 50 विकेट लेकर अगरकर को पीछे छोड़ा था।

21 गेंदों पर बना डाले थे 50 रन
अगरकर के नाम वनडे क्रिकेट में एक और रिकॉर्ड दर्ज है। अगरकर ने भारत की ओर से खेलते हुए 21 गेंदों पर 50 रन बनाकर रिकॉर्ड कायम किया था। अगरकर ने यह कमाल वर्ष 2000 में जिम्बाब्वे के खिलाफ दिखाया था। उस मैच में उन्होंने 3 विकेट भी हासिल किए थे।

इसके अलावा भारत की तरफ से सबसे कम वनडे मैचों में 1000 रन और 200 विकेट लेने का गौरव भी अगरकर को ही हासिल है। अगरकर ने 133 मैचों में यह कमाल दिखाया था और दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेटर शॉन पोलाक को पीछे छोड़ दिया था। पोलाक ने 138 वनडे मैच खेलकर यह उपलब्धि हासिल की थी मगर अगरकर ने उनसे कम मैचों में ही यह कमाल कर दिखाया था।

लॉट्स में दिखाया था यह कमाल
लॉर्ड्स के मैदान को क्रिकेट का मक्का कहा जाता है और और हर बल्लेबाज का सपना लार्ड्स में शतक जड़ने का होता है। अजीत अगरकर ने लार्ड्स के मैदान में अनोखा रिकॉर्ड कायम किया था।

उन्होंने नंबर आठ पर बैटिंग करते हुए टेस्ट क्रिकेट में शतक जड़कर हर किसी को हैरान कर दिया था। इसके अलावा अगरकर ने वनडे मैचों में सबसे ज्यादा बार एक पारी में 4 विकेट लिए हैं। उन्होंने 191 वनडे मैचों में 12 बार 4 विकेट लेने का कारनामा किया है।

अगरकर का क्रिकेट करियर
यदि अजीत अगरकर के क्रिकेट करियर को देखा जाए तो वनडे क्रिकेट में वे काफी प्रभावशाली खिलाड़ी थे। उन्होंने 191 वनडे मैचों में 288 विकेट लिए। 42 रन देकर छह विकेट वनडे में उनका सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन रहा है।

इसके अलावा अगरकर ने टेस्ट मैचों और टी-20 मुकाबलों में भी भारत का प्रतिनिधित्व किया। अगरकर ने 26 टेस्ट मैचों में 58 जबकि चार टी-20 मुकाबलों में तीन विकेट लिए। 26 टेस्ट मैच में उन्होंने 571 रन बनाए जिसमें एक शतक भी शामिल है। 151 वनडे मैचों की 113 पारियों में अगरकर ने 1269 रन बनाए जिसमें तीन अर्धशतक भी शामिल हैं। वनडे में उनका बेस्ट स्कोर 95 रन रहा है।

2013 में लिया था संन्यास
अगरकर की कप्तानी में मुंबई की क्रिकेट टीम ने वर्ष 2013 में 40वां रणजी ट्राफी खिताब जीता था। अगरकर ने वर्ष 1998 में टेस्ट और वनडे क्रिकेट में डेब्यू किया था जबकि उन्होंने 2006 में टी-20 क्रिकेट में डेब्यू किया था। अगरकर ने 2013 में क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास लेने का एलान कर दिया था।

धर्म की दीवार तोड़कर की शादी
अजीत अगरकर की प्रेम कहानी भी काफी अलग रही है और उन्होंने धर्म की दीवार तोड़ते हुए फातिमा से शादी की है। अपने क्रिकेट करियर की शुरुआत में ही अगरकर की मुलाकात फातिमा से हुई थी। दरअसल फातिमा अगरकर के करीबी दोस्त मजहर की बहन हैं। फातिमा भी कभी-कभी अपने भाई के साथ अगरकर का मैच देखने के लिए स्टेडियम जाया करती थी और इसी दौरान दोनों की मुलाकात हुई जो जल्द ही दोस्ती में बदल गई।


परिवार नहीं था शादी के लिए तैयार
बाद में अगरकर और फातिमा की दोस्ती कब प्यार में बदल गई, यह बात उन दोनों को भी पता नहीं चली। जल्द ही दोनों को अहसास हो गया है कि वह अब एक-दूसरे के बिना गुजारा नहीं कर सकते।

दोनों के परिवार वाले इस रिश्ते के लिए तैयार नहीं थे, लेकिन आखिरकार प्यार की ही जीत हुई और 9 फरवरी 2002 को दोनों ने शादी कर ली।

अब दोनों अपनी मौजूदा जिंदगी से काफी खुश हैं और दोनों का एक बेटा भी है जिसका नाम उन्होंने राज रखा है। टीम इंडिया के जब भी बेहतरीन ऑलराउंडरों की चर्चा होती है तो उनमें अजीत अगरकर का नाम काफी प्रमुखता से लिया जाता है।


PCB ने किया ऐलान! इस देश में खेला जाएगा एशिया कप 2021       अजीत अगरकर के नाम दर्ज हैं कई रिकॉर्ड       भारत की हुई जीत, ऑस्ट्रेलिया 11 रनों से हारा       इस नए नियम से भारत को मिली संजीवनी, जानिए इसके बारे में       टीम में न होने पर भी चहल बने हीरो, भारत को ऐसे जिताया पहला टी-20       NCB अफसरों पर एक्शन, ड्रग्स केस में भारती समेत इनसे जुड़े तार       कंगना से भिड़े दिलजीत, गुस्से में बोले पंजाबी सिंगर       नेहा-रोहनप्रीत का TV शो, शादी के बाद पहली बार दिखें साथ       किसानों के मुद्दे पर मीका सिंह ने कंगना को सुनाई खरी-खोटी       सैफ की चाहत, बेटे की इस एक्टर की तरह बॉलीवुड में हो धमाकेदार एंट्री       दिलजीत दोसांझ से पंगा लेना कंगना को पड़ा भारी       इस एक्ट्रेस ने पहनी ऐसी ड्रेस, सोशल मीडिया पर हुईं ट्रोल       जावेद जाफरी की ये बातें नहीं जानते होंगे आप       कंगना और दलजीत के फैंस में हुआ बड़ा जंग, ट्विटर पर किए ये कमेंट       इस एक्ट्रेस का सबसे बड़ा खुलासा, कहा...       बॉलीवुड के नेचुरल एक्टर, काजोल की नानी से था रिश्ता       फैशनेबल युग फैशन प्रीन्योर, चौंका दिया सबको       किसानों के प्रदर्शन पर धर्मेंद्र ने ट्वीट किया डिलीट, लोगों ने किया ट्रोल       किसानों पर बयान के बाद निशाने पर कंगना       ओम प्रकाश शर्मा ने कहा कि धांधली से चुनाव जीती BJP, 13 को करेंगे आंदोलन का ऐलान