'हम रोज साथ कंचे तो नहीं खेलते लेकिन', सौरभ गांगुली के साथ अपने संबंध पर क्या कहे पूर्व कोच रवि शास्त्री

'हम रोज साथ कंचे तो नहीं खेलते लेकिन', सौरभ गांगुली के साथ अपने संबंध पर क्या कहे पूर्व कोच रवि शास्त्री

नई दिल्ली
टीम इंडिया के पूर्व मुख्य कोच ने भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष सौरभ गांगुली के साथ अपने रिश्तों पर खुलकर बात की है. शास्त्री और गांगुली के बीच 2017 में कड़वाहट सामने आई थी. तब अनिल कुंबले के हटने के बाद रवि शास्त्री को टीम का मुख्य कोच बनाया गया था.

रवि शास्त्री का हालांकि बोलना है कि वह और गांगुली अब उस मामले से आगे बढ़ गए हैं और दोस्त हैं. 2017 में जब रवि शास्त्री टीम के मुख्य कोच बने तो कई लोगों ने सोचा कि विराट कोहली से उनकी नजदीकी के कारण उन्हें यह जिम्मेदारी सौंपी गई है.

हालांकि 1983 विश्व कप विजेता टीम के मेम्बर रहे शास्त्री ने बोला कि वह इस मामले पर कुछ नहीं बोलना चाहते क्योंकि सभी प्रारूपों में टीम का प्रदर्शन स्वयं अपनी कहानी कहता है.



शास्त्री ने कहा, 'हम दोस्त हैं. ऐसा नहीं हैं कि हम एक-दूसरे के साथ प्रतिदिन कंचे खेलते हैं लेकिन आपसी सम्मान बहुत है. जो हुआ वह बीत गया. जब आपका सभी प्रारूपों में जीत का रेकॉर्ड 70 फीसदी तक हो तो मुझे नहीं लगता कि आपको किसी को भी उत्तर देने की आवश्यकता है. रिकॉर्ड सामने हैं और यही है जो अर्थ रखता है. मैं जो मर्जी कहता रहूं कि मैंने यह किया या वह किया लेकिन यदि स्कोरशीट इससे अलग है तो आप बहस नहीं कर सकते. आपको केवल चुप रहने की आवश्यकता है, चुपचाप बैठिए और दफा हो जाइए. लेकिन इस मुद्दे में तथ्य सामने हैं.'

भारतीय टीम अब राहुल द्रविड़ की निगहबानी में आगे बढ़ेगी. द्रविड़ को टीम का नया कोच बनाया गया है. वह न्यूजीलैंड के विरूद्ध 17 नवंबर से प्रारम्भ हो रही सीरीज से टीम के साथ होंगे.




शास्त्री ने शेड्यूल को लेकर भी उठाए सवाल
इस बीच, शास्त्री ने बोला कि भारतीय क्रिकेट प्रशासन को भविष्य में शेड्यूल को लेकर थोड़ी बेहतर योजना बनानी चाहिए. और साथ ही सिलेक्शन प्रक्रिया को भी बेहतर बनाने की आवश्यकता है.

टी20 वर्ल्ड कप 2021 से विराट कोहली की कप्तानी वाली भारतीय टीम सेमीफाइनल में नहीं पहुंच पाई. इस बात के लिए उसकी बहुत ज्यादा आलोचना भी की जा रही है. लेकिन शास्त्री इस पर अलग राय रखते हैं. उन्होंने कहा, 'सबसे पहले शेड्यूलिंग पर बात होनी चाहिए ताकि खिलाड़ी बड़े टूर्नमेंट के लिए तरोताजा रह सकें.'


बेहद सरलता से आउट हुए विराट कोहली रह गए दंग, देखें VIDEO

बेहद सरलता से आउट हुए विराट कोहली रह गए दंग, देखें VIDEO

सेंचुरियन2018 में भारतीय टीम साउथ अफ्रीका दौरे पर गई थी. जोहानिसबर्ग में टीम इंडिया को नेट प्रैक्टिस में बॉलिंग करने के लिए कुछ लोकल गेंदबाजों को बुलाया गया था. उसमें दो जुड़वा भाई थे. उनमें से एक 17 वर्षीय ने भारतीय इंटरनेशनल क्रिकेटरों को खूब परेशान किया था.

अब आप सोच रहे हैं हम यहां 2018 दौरे और नेट बॉलर की बात क्यों कर रहे हैं? तो बता दें कि उसी नेट बॉलर मार्को जेनसेन ने को सेंचुरियन टेस्ट की दूसरी पारी में 18 रनों पर आउट कर दिया.

बॉक्सिंग डे टेस्ट के चौथे दिन लंच के बाद पहले ही ओवर की पहली गेंद पर विराट कोहली अपना विकेट गंवा बैठे. डेब्यू स्टार मार्को की गेंद गुड लेंथ पर टप्पा खाने के बाद ऑफ स्टंप से बहुत ज्यादा बाहर निकल रही थी और कोहली बल्ला अड़ा बैठे. बाकी का कार्य विकेट के पीछे खड़े क्विंटन डि कॉक ने पूरा किया. बहुत सरलता से कोहली का सीधा कैच लपक लिया. कोहली आउट होने के बाद दंग दिखे. कुछ देर तक वहीं खड़े रह गए.

विराट कोहली के लिए पिछले दो साल संघर्ष वाले रहे हैं. उन्होंने अपना अंतिम शतक बांग्लादेश के विरूद्ध 2019 में लगाया था. उसके बाद से वह कोई बड़ी पारी नहीं खेल सके. सेंचुरियन टेस्ट की बात करेंगे तो यहा वह पहली पारी में भी ऐसे ही हाउट हुए थे.

2021 की बात करें तो कोहली ने 11 टेस्ट में महज 28.21 की औसत से 536 रन बनाए. इस दौरान उनके नाम 4 अर्धशतक रहे, जबकि बेस्ट स्कोर 72 रहा. बेकार फॉर्म की वजह से ही उन्हें टी-20 टीम की कप्तानी छोड़नी पड़ी, जबकि बाद में बीसीसीआई ने वनडे की कप्तानी से भी हटाने का निर्णय किया.


गौरतलब है कि हिंदुस्तान ने अपनी दूसरी पारी में 174 रन बनाकर दक्षिण अफ्रीका के सामने 305 रन का लक्ष्य रखा. हिंदुस्तान ने पहली पारी में 327 रन बनाकर दक्षिण अफ्रीका को 197 रन पर आउट करके 130 रन की बढ़त हासिल की थी. हिंदुस्तान की तरफ से दूसरी पारी में ऋषभ पंत ने सर्वाधिक 34 रन बनाए. दक्षिण अफ्रीका के लिए कागिसो रबाडा और मार्को जेनसेन ने चार-चार जबकि लुंगी एनगिडी ने दो विकेट लिए.