इंग्लैंड ने भारतीय टीम को हल्के में ले लिया, अब कभी नहीं जीत सकते सीरीज : पूर्व दिग्गज

इंग्लैंड ने भारतीय टीम को हल्के में ले लिया, अब कभी नहीं जीत सकते सीरीज : पूर्व दिग्गज

भारत और इंग्लैंड के बीच पांच मैचों की सीरीज का आखिरी मुकाबला 10 सितंबर से मैनचेस्टर में खेला जाना है। भारतीय टीम ने ओवल में खेले गए चौथे मैच को जीतकर सीरीज में 157 रन की बढ़त हासिल की। अब भारतीय टीम यहां से सीरीज को अपने नाम कर सकती है लेकिन इंग्लैंड के पास इसे जीतने का मौका नहीं होगा। पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने कहा मेजबान टीम ने भारत को हल्के में ले लिया।

पांचवें टेस्ट मैं जो दबाव है वो जो रूट के उपर होगा क्योंकि भारतीय टीम मैनचेस्टर में 2-1 की मानसिक बढ़त के साथ उतरेगी। यह इंग्लैंड की टीम द्वारा की गई और एक बड़ी गलती रही। इंग्लिश मीडिया एशेज सीरीज के बारे में बात कर रही थी। टीम उस सीरीज में किस तरह से खेलना चाहती है। उनको टीम इंडिया के साथ पेश आने वाली मौजूदा चुनौती पर ध्यान देना चाहिए था। इंग्लैंड ने भारतीय टीम को बहुत ही ज्यादा हल्के में ले लिया और इसी चीज का उनको इतना बड़ा नुकसान उठाना पड़ा। अब वो लोग यह सीरीज नहीं जीत सकते हैं।

अगर जो भारतीय टीम ने दूसरी पारी में 380 रन बनाए थे तो इंग्लैंड को लगभग 280 रन तक का पीछा करना चाहिए था। इसका मतलब है कि उनको उपर 368 रन का पीछा करने की तुलना में कम दबाव रहता। इसका मतलब ये हुआ कि नीचले क्रम द्वारा बनाए गए रन ही अहम साबित हुए। पहले हमने लार्ड्स में देखा और अब इस टेस्ट में।

जब नीचले क्रम में गेंदबाज आकर रन बनाते हैं तो उनका आत्मविश्वास आपने आप ही बढ़ जाता है। इसके बाद जब वो गेंदबाजी करने के लिए उतरते हैं तो उनकी पारी का भरोसा साथ होता है। मैं बहुत ही ज्यादा खुश हूं कि भारतीय टीम ने ओवल में 50 साल के बाद टेस्ट मैच जीता।


पाकिस्तानी दिग्गज का दावा, कहा- अगर मैं इस्तीफा नहीं देता तो बड़ी समस्या खड़ी हो जाती

पाकिस्तानी दिग्गज का दावा, कहा- अगर मैं इस्तीफा नहीं देता तो बड़ी समस्या खड़ी हो जाती

पाकिस्तान के पूर्व तेज गेंदबाज वकार यूनिस ने हाल ही में टी20 विश्व कप 2021 से पहले पाकिस्तान टीम के गेंदबाजी कोच के पद से इस्तीफा दे दिया था। मुख्य कोच मिस्बाह उल हक ने भी अपना पद छोड़ दिया था। अब इस बारे में वकार यूनिस ने खुल कर बात की है। एक विशेष साक्षात्कार में क्रिकेट पाकिस्तान से बात करते हुए, वकार ने कहा कि पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (पीसीबी) में हालिया बदलावों के बाद इस्तीफा देना एक बुद्धिमानी थी।

उन्होंने कहा, "मेरे इस फैसले के पीछे दो से तीन कारण थे। जाहिर है, परिवार के साथ समय बिताना उनमें से एक था जो कोविड-19 के कारण मुश्किल होता जा रहा था। साथ ही, नए पीसीबी अध्यक्ष (रमीज राजा) की नियुक्ति और उनके शासन के बाद यह बुद्धिमानी की बात यह थी, क्योंकि ऐसा लग रहा था कि वह (राजा) एक नया सेटअप लाना चाहते हैं। इसलिए, जब मिस्बाह ने इस्तीफा दिया, तो मैंने उसी का पालन करने का फैसला किया।"

पाकिस्तान टीम के पूर्व दिग्गज वकार यूनिस ने आगे बताया, "अगर हमने यह फैसला नहीं लिया होता तो बड़ी समस्या खड़ी हो जाती। विवाद हो सकता था। मेरे पास क्रिकेट बोर्ड और उसके इतिहास को समझने का पर्याप्त अनुभव है। जब कोई नया सेटअप कार्यभार संभालता है, तो उनके काम करने का अपना तरीका होता है और उन सभी को ध्यान में रखते हुए यह करना एक समझदारी की बात थी।"

उन्होंने अगले महीने शुरू होने वाले मेगा इवेंट में अच्छा प्रदर्शन करने के लिए पाकिस्तान का भी समर्थन किया। वकार ने कहा, "विश्व कप एक छोटा टूर्नामेंट है और अगर आपके खिलाड़ी फार्म में हैं और किस्मत आपका साथ देती है, तो टीम आगे बढ़ सकती है। हमारी गेंदबाजी किसी भी टोटल का बचाव कर सकती है और अगर हम अपनी बल्लेबाजी में कुछ मुद्दों को ठीक कर सकते हैं, तो इस टीम में हर तरह से जाने की क्षमता है।"