जब 12 दिन तक चला टेस्ट मैच, फिर भी नहीं निकल पाया नतीजा

जब 12 दिन तक चला टेस्ट मैच, फिर भी नहीं निकल पाया नतीजा

 आमतौर पर टेस्ट क्रिकेट पांच दिनों का होता है। क्रिकेट प्रेमी ये भी जानते होंगे कि कुछ ही दशक पहले तक मुकाबला 6 दिन का होता था, लेकिन उसमें से एक दिन आराम मिलता था। वहीं, अगर आपको बताया जाए कि एक टेस्ट मैच 12 दिन तक चला तो आपको शायद हैरानी होगी, लेकिन ये सच है। दो विश्व युद्ध के दौरान टेस्ट क्रिकेट लंबे समय तक चलता था। एक बार एक टेस्ट मैच 12 दिनों तक चला था।

एक और हम जहां साउथैंप्टन में खेले जाने वाले विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के फाइनल को छठे दिन ले जाने की बात कर रहे हैं। वहीं, एक मुकाबला 12 दिन तक चला था। ऐसे में कोई हैरानी वाली बात नहीं होगी कि ये मैच छठे दिन चले। दरअसल, 12 दिन तक चलने वाला यह मुकाबला मार्च 1939 में दक्षिण अफ्रीका और इंग्लैंड के बीच डर्बन के मैदान पर खेला गया था। रेस्ट डे और वॉशआउट के बाद यह मुकाबला 12 दिनों बाद ड्रॉ पर समाप्त हुआ।

यह मुकाबला टेस्ट सीरीज का पांचवां और अंतिम मैच था। इंग्लैंड इस सीरीज में 1-0 से आगे था और पांच मैचों के बाद भी नतीजा 1-0 पर ही अटका रहा। पहले दिन का खेल खत्म होने तक दक्षिण अफ्रीका ने दो विकेट पर 229 बनाए थे और दूसरे दिन उसने छह विकेट पर 423 रन बनाए थे। मैच का तीसरा दिन रविवार होने के कारण रेस्ट डे था, जबकि चौथे दिन दक्षिण अफ्रीका की पारी 530 रन पर सिमट गई। दिन का खेल खत्म होने तक इंग्लैंड ने जवाब में एक विकेट पर 35 रन बनाए थे।

पांचवें दिन इंग्लैंड ने सात विकेट पर 268 रन बनाए। इसके बाद मेहमान टीम की पहली पारी 316 रन पर ऑलआउट हुई और दक्षिण अफ्रीका को 214 रनों की बढ़त मिली। छठे दिन दक्षिण अफ्रीका ने दूसरे सत्र तक तीन विकेट पर 193 रन बनाए और अपनी बढ़त को मजबूत किया। टीम की दूसरी पारी 481 रन पर ऑलआउट हुई और उसने इंग्लैंड को जीत के लिए 696 रनों का लक्ष्य दिया।

आठवें दिन का खेल खत्म होने तक इंग्लैंड ने एक विकेट पर 253 रन बनाए थे। नौंवें दिन का खेल बारिश के कारण पूरी तरह धुल गया। 10वां दिन रविवार होने के कारण रेस्ट डे रहा। 11वें दिन इंग्लैंड ने तीन विकेट पर 496 रन बनाए थे और उसे जीत के लिए और 200 रनों की आवश्यकता थी। यह वो दिन था जब यह इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच किंग्स्टन में 1930 में खेले गए मैच को पीछे छोड़ते हुए यह सबसे लंबा चलने वाला मुकाबला बना।

इंग्लैंड की टीम को ट्रेन से केपटाउन जाना था जहां उसे बोट पकड़नी थी जिसके कारण 12वें दिन को मैच का अंतिम दिन घोषित किया गया, क्योंकि इसी दिन शाम को इंग्लैंड के खिलाड़ियों को रवाना होना था। आखिरी दिन इंग्लैंड ने चायकाल तक पांच विकेट पर 654 रन बनाए थे और उसे जीत के लिए महज 42 रनों की जरूरत थी, जबकि उसके पांच विकेट शेष थे, लेकिन इसके बाद जोरदार बारिश होने लगी और मुकाबला आगे नहीं कराया जा सका।


भारतीय टीम के लिए T20 डेब्यू करने वाले इस खिलाड़ी की तारीफ

भारतीय टीम के लिए T20 डेब्यू करने वाले इस खिलाड़ी की तारीफ

IPL 2020 के प्रदर्शन के आधार पर कोलकाता नाइट राइडर्स के मिस्ट्री स्पिनर वरुण चक्रवर्ती को भारतीय टीम में ऑस्ट्रेलिया के दौरे के लिए चुना गया था। वरुण चक्रवर्ती को पिछले साल नवंबर में ही टी20 क्रिकेट में डेब्यू करने का मौका मिल जाता, लेकिन वे चोटिल हो गए और समय रहते फिटनेस टेस्ट नहीं पास कर पाए। इसके बाद इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज के लिए वरुण चक्रवर्ती को चुना गया, लेकिन फिटनेस टेस्ट के कारण उनको मौका नहीं मिला। हालांकि, अब श्रीलंका के दौरे पर उनको टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू करने का मौका मिला, जिससे पूर्व बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण काफी खुश हैं।

वीवीएस लक्ष्मण ने स्टार स्पोर्ट्स के शो गेम प्लान में श्रीलंका के खिलाफ तीन मैचों की टी20 सीरीज के पहले मुकाबले के साथ टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू करने के लिए वरुण चक्रवर्ती की तारीफ की। उन्होंने कहा, "सबसे पहले, मुझे खुशी है कि उन्हें (वरुण चक्रवर्ती) यह मौका मिला, क्योंकि दो बार वह पहले ही चुने जा चुके थे, लेकिन फिटनेस टेस्ट पास नहीं कर पा रहे थे और टीम का हिस्सा नहीं बन पा रहे थे। मुझे लगता है कि उनकी गेंदबाजी को लेकर रहस्य के बारे में काफी चर्चा है। मैं सनराइजर्स हैदराबाद के बल्लेबाज के साथ बात कर रहा था और वे सभी मैच के विभिन्न हिस्सों और चरणों में जिस तरह से और जिस तरह से गेंदबाजी करते हैं, उससे वे सभी प्रभावित हैं।"


उन्होंने आगे बताया, "वह नई गेंद से भी गेंदबाजी कर सकता है, वह आकर विकेट ले सकता है जब भी कप्तान और टीमें साझेदारी तोड़ना चाहें। इसका मतलब है कि वह एक्स-फैक्टर है। और हम चाहते हैं कि उसे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का अनुभव मिले और ऐसा करने का एकमात्र तरीका है कि उन्हें मैच खेलने को मिलने चाहिए। इसलिए, मुझे यकीन है कि वह वास्तव में इस अवसर की प्रतीक्षा कर रहा है, लेकिन एक चीज जो हमने वर्षों से महसूस की है, वह यह सुनिश्चित करती है कि आप उसे मौका दें। पहले गेम से चमत्कार की उम्मीद न करें। एक खिलाड़ी में धैर्य और विश्वास दिखाना बहुत जरूरी है।" अपने डेब्यू मैच में वरुण चक्रवर्ती ने 4 ओवर में 28 रन देकर एक विकेट लिया।