17 साल की भारतीय बल्लेबाज ने वो कर दिखाया, जो महिला टेस्ट क्रिकेट में अब तक नहीं हुआ

17 साल की भारतीय बल्लेबाज ने वो कर दिखाया, जो महिला टेस्ट क्रिकेट में अब तक नहीं हुआ

 लंबे समय के बाद भारतीय महिला क्रिकेट टीम को टेस्ट क्रिकेट खेलने का मौका मिला है। इंग्लैंड के खिलाफ ब्रिस्टल में खेले जा रहे इस टेस्ट मैच में भले ही भारतीय टीम की हालत सही नहीं है, लेकिन एक 17 साल की खिलाड़ी ने वो कर दिखाया है, जो महिला टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में आज तक नहीं हुआ। इतना ही नहीं, 17 साल की ये खिलाड़ी अपना पहला ही टेस्ट मैच खेल रही थी।

दरअसल, हम बात कर रहे हैं लेडी सहवाग के नाम से फेमस हो चुकीं शेफाली वर्मा की, जिन्होंने एक टेस्ट मैच में सबसे ज्यादा छक्के जड़ने का रिकॉर्ड बनाया है। हालांकि, उन्होंने कोई छक्कों की झड़ी नहीं लगाई है, लेकिन उन्होंने दोनों पारियों में मिलाकर तीन छक्के जड़े, जो कि महिला टेस्ट क्रिकेट में एक विश्व रिकॉर्ड है। एक मैच में अभी तक सिर्फ 1 या 2 छक्के ही खिलाड़ी जड़ पाते थे, लेकिन शेफाली वर्मा ने एक ही मैच में तीन छक्के जड़कर रिकॉर्ड बनाया है।


दाएं हाथ की बल्लेबाज शेफाली वर्मा ने इंग्लैंड के खिलाफ पहली पारी में 2 छक्के जड़े, जबकि दूसरी पारी में उन्होंने एक छक्का जड़ा। पहली पारी में उन्होंने 96 रन बनाए थे, जबकि दूसरी पारी में उन्होंने 63 रन बनाए। हैरान करने वाली बात ये रही कि इनमें से 50 रन उन्होंने चौके-छक्कों से बटोरे। शेफाली ने मेजबान टीम के खिलाफ 11 चौके और एक छक्का जड़ा। वहीं, पहली पारी में उन्होंने 13 चौके और 2 छक्के जड़े थे।

बात अगर इस मुकाबले की करें तो मेजबान इंग्लिश टीम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 121.2 ओवर में 9 विकेट खोकर 396 रन बनाए। इसके जवाब में भारतीय टीम अपनी पहली पारी में 231 रन बनाकर ढेर हो गई। ऐसे में भारतीय टीम को फॉलोऑन खेलना पड़ा और दूसरी पारी में भी भारतीय टीम ने खबर लिखे जाने तक 35 ओवर में 2 विकेट खोकर 112 रन बना लिए हैं। भारत अभी भी 53 रनों से पिछड़ा हुआ है और मैच का चौथा दिन है।


भारतीय टीम के लिए T20 डेब्यू करने वाले इस खिलाड़ी की तारीफ

भारतीय टीम के लिए T20 डेब्यू करने वाले इस खिलाड़ी की तारीफ

IPL 2020 के प्रदर्शन के आधार पर कोलकाता नाइट राइडर्स के मिस्ट्री स्पिनर वरुण चक्रवर्ती को भारतीय टीम में ऑस्ट्रेलिया के दौरे के लिए चुना गया था। वरुण चक्रवर्ती को पिछले साल नवंबर में ही टी20 क्रिकेट में डेब्यू करने का मौका मिल जाता, लेकिन वे चोटिल हो गए और समय रहते फिटनेस टेस्ट नहीं पास कर पाए। इसके बाद इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू सीरीज के लिए वरुण चक्रवर्ती को चुना गया, लेकिन फिटनेस टेस्ट के कारण उनको मौका नहीं मिला। हालांकि, अब श्रीलंका के दौरे पर उनको टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू करने का मौका मिला, जिससे पूर्व बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण काफी खुश हैं।

वीवीएस लक्ष्मण ने स्टार स्पोर्ट्स के शो गेम प्लान में श्रीलंका के खिलाफ तीन मैचों की टी20 सीरीज के पहले मुकाबले के साथ टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू करने के लिए वरुण चक्रवर्ती की तारीफ की। उन्होंने कहा, "सबसे पहले, मुझे खुशी है कि उन्हें (वरुण चक्रवर्ती) यह मौका मिला, क्योंकि दो बार वह पहले ही चुने जा चुके थे, लेकिन फिटनेस टेस्ट पास नहीं कर पा रहे थे और टीम का हिस्सा नहीं बन पा रहे थे। मुझे लगता है कि उनकी गेंदबाजी को लेकर रहस्य के बारे में काफी चर्चा है। मैं सनराइजर्स हैदराबाद के बल्लेबाज के साथ बात कर रहा था और वे सभी मैच के विभिन्न हिस्सों और चरणों में जिस तरह से और जिस तरह से गेंदबाजी करते हैं, उससे वे सभी प्रभावित हैं।"


उन्होंने आगे बताया, "वह नई गेंद से भी गेंदबाजी कर सकता है, वह आकर विकेट ले सकता है जब भी कप्तान और टीमें साझेदारी तोड़ना चाहें। इसका मतलब है कि वह एक्स-फैक्टर है। और हम चाहते हैं कि उसे अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट का अनुभव मिले और ऐसा करने का एकमात्र तरीका है कि उन्हें मैच खेलने को मिलने चाहिए। इसलिए, मुझे यकीन है कि वह वास्तव में इस अवसर की प्रतीक्षा कर रहा है, लेकिन एक चीज जो हमने वर्षों से महसूस की है, वह यह सुनिश्चित करती है कि आप उसे मौका दें। पहले गेम से चमत्कार की उम्मीद न करें। एक खिलाड़ी में धैर्य और विश्वास दिखाना बहुत जरूरी है।" अपने डेब्यू मैच में वरुण चक्रवर्ती ने 4 ओवर में 28 रन देकर एक विकेट लिया।