सचिन ने इन तीन खिलाड़ियों को दी बधाई

सचिन ने इन तीन खिलाड़ियों को दी बधाई

प्रतिभाशाली युवा खिलाड़ी सूर्यकुमार यादव, ईशान किशन, और राहुल तेवतिया ने इंग्लैंड के विरूद्ध आनें वाले टी 20 1 श्रृंखला के लिए भारतीय टीम में नाम शामिल किया. क्रिकेट के कद्दावर सचिन तेंदुलकर ने भी वरुण चक्रवर्ती को शुभकामना दी, जिन्हें हिंदुस्तान के ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए टी 20 आई टीम में लिया गया था, लेकिन कंधे की चोट ने उन्हें श्रृंखला से चूकने के लिए विवश कर दिया था.

तेंदुलकर ने ट्विटर पर लिखा, "Heartiest congratulations @ishankishan51, @rahultewatia02 & @surya_14kumar for your maiden call up to the Indian Team, and also to @chakaravarthy29, who missed out in Australia. Playing for India is the highest honour for any cricketer. Wishing you all a lot of success." सूर्यकुमार, इशान और तेवतिया- भारतीय प्रीमियर लीग (आईपीएल) के आखिरी संस्करण में अपने प्रदर्शन से लाभान्वित हुए हैं. तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार भी वापसी कर रहे हैं जबकि जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी को मैच T20I सीरीज़ में पांचों को आराम दिया गया है.

पहला T20I 12 मार्च को खेला जाएगा, जो टेस्ट सीरीज़ के समाप्ति के बाद होगा. दोनों टीमें तीसरे टेस्ट के लिए तैयारी कर रही हैं, जो 24 फरवरी से प्रारम्भ होगी. हिंदुस्तान का T20I स्क्वाड: विराट कोहली (कैप्टन), रोहित शर्मा ( vc), केएल राहुल, शिखर धवन, श्रेयस अय्यर, सूर्यकुमार यादव, हार्दिक, ऋषभ पंत (wk), ईशान किशन (wk), वाई चहल, वरुण चक्रवर्ती, एक्सर पटेल, डब्ल्यू सुंदर, आर तेवतिया, टी नटराजन, भुवनेश्वर कुमार दीपक चाहर, नवदीप, शार्दुल ठाकुर है.


इस खेल से बनी पहचान, भारत सरकार ने पद्मश्री से नवाजा

इस खेल से बनी पहचान, भारत सरकार ने पद्मश्री से नवाजा

कद 5 फुट 3 इंच, लेकिन उनका हौसला और उनकी उपलब्धियां उनके कद से कई ज्यादा उपर रही। किसी को यह उम्मीद नहीं थी कि ये छोटी कद वाली महिला कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक जीतकर वेटलिफ्टिंग के लिए एक बड़ी नाम बन जाएगी। इतना ही नहीं, किसी ने ये तक नहीं सोचा होगा कि 5 फुट 3 इंच की इस महिला को पद्मश्री पुरस्कार से नवाजा जाएगा। जी हां, हम बात कर रहे वेटलिफ्टर कुंजारानी देवी की, जिन्होंने 38 साल की उम्र में कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड जीतकर भारतीय महिलाओं के लिए एक मिशाल बनीं। बता दें कि कुंजारानी का आज जन्मदिन है। इस शानदार मौके पर हम आज उनके अनछूए पलों के बारे में बात करेंगे, तो चलिए जानते है उनके बारे में कुछ अनसुनी कहानियां…

मणिपुर की हैं कुंजारानी
वेटलिफ्टर कुंजारानी का जन्म 1 मार्च 1968 में मणिपुर के कैरंग मायाई लेकाई में हुआ था। उन्होंने इम्फाल के सिंदम सिंशांग आवासीय हाई स्कूल में अपनी प्रारंभिक शिक्षा पूरी की, वहीं इम्फाल के महाराजा बोध चन्द्र कॉलेज से उन्होंने स्नातक तक की शिक्षा पूरी की। उन्होंने शैक्षिणिक जीवन में ही यह लक्ष्य बना लिया था कि उन्हें वेटलिफ्टिंग करना है। हालांकि इस बीच उन्होंने कई खेलों में भी हिस्सा लिया।

कैसे खेल से प्रेरित हुई कुंजारानी

कुंजारानी खेल में एंट्री कैसे ली, इसकी भी कहानी का दिलचस्प है। कुंजारानी जब 14 साल की थी, तब उन्होंने 1982 के एशियन गेम्स के बारे में सुना। उस दौरान भारतीय ट्रैक क्वीन पीटी ऊषा लोगों के जुबान पर छाई हुई थी। उनकी कामयाबी को देख कुंजारानी काफी प्रेरित हुई थी। एक चैनल के इंटरव्यू में उन्होंने इसके बारे में चर्चा करते हुए बताया था, “उस इवेंट ने मुझे ऐसा महसूस कराया कि मैं भी खेल में शानदार प्रदर्शन कर सकती हूं। उसके बाद मैंने बहुत सारे खेल खेलना शुरू कर दिए, फिर चाहे वह हॉकी हो, फुटबॉल हो या ट्रैक पर दौड़ना हो।” ये वहीं दौर था, जब कुंजारानी खेल की ओर आकर्षित हुई।

पावरलिफ्टिंग से की शुरूआत
खेल जगत का चुनाव करने के बाद कुंजारानी पावरलिफ्टिंग से अपनी करियर की शुरूआत की। इस खेल में उन्होंने अपनी प्रतिभा का कला दिखाते हुए चंद महीनों में ही राष्ट्रीय पावरलिफ्टिंग का रिकॉर्ड तोड़ दिया था। लेकिन उनकी आंखों ने तो कुछ और ही सपना बुन रखा था। बता दें कि कुंजारानी ने ओलंपिक खेलों में हिस्सा लेना चाहती थी। यही वजह थी कि उन्होंने पावरलिफ्टिंग का भी खेल छोड़ दिया।

वेटलिफ्टिंग में ली एंट्री
ओलंपिक का सपना देखते हुए कुंजारानी ने पावरलिफ्टिंग छोड़ वेटलिफ्टिंग में एंट्री ली। एक इंटरव्यू में कुंजारानी वेटलिफ्टिंग के बारे में बताया, “मैं साफतौर पर देख सकती थी कि जो भार मैं उठा पा रही थी उससे विश्व रिकॉर्ड बहुत दूर नहीं था। मेरे कोच हमेशा मुझे कहते थे कि अगर मैं कड़ी मेहनत करती रही तो भारत का प्रतिनिधित्व करने का मेरा सपना जल्द ही साकार होगा।”

वर्ल्ड चैंपियनशिप
वर्ष          खेल आयोजन     किलोग्राम        वर्ग पदक

1989        मैनचेस्टर               44                रजत

1991       डोनॉशेचिंगन           44                रजत

1992          वर्ना                     44                रजत

1994       इस्तांबुल                 46                रजत

1995        वारसॉ                    46                रजत

1996       गुआंगज़ौ                46                 रजत

1997       चियांग माई             46                 रजत

ये वो गेम्स है जिनमें कुंजारानी वर्ल्ड चैंपियनशिप रही है, लेकिन कभी स्वर्ण पदक तक नहीं पहुंच पाई। फिर उन्होंने ने 1990 के बीजिंग और 1994 के हिरोशिमा एशियाई गेम्स में कास्य पदक ही प्राप्त कर पाई। लंबे समय के बाद साल 2004 में एथेंस ओलंपिक गेम्स में चौथे पायदान तक ही सीमित रही। फिर साल 2006 में कमबैक करते हुए कुंजारानी ने मेलबर्न कॉमनवेल्‍थ में हिस्सा लेते हुए देश को पहला स्वर्ण पदक दिलाया।

पद्मश्री ने नवाजा गया
खेल जगत में कुंजारानी ने अपने 17 साल बिताए। इस दौरान उन्होंने कई उपलब्धियां भी हासिल की। साल 1990 में कुंजारानी को अर्जुन पुरस्कार से नवाजा गया। वहीं 1996 में भारत के सबसे बड़े खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न को व्यावसायिक टेनिस खिलाड़ी लिएंडर पेस के साथ साझा करते हुए सम्मानित किया गया। इसके अलावा 2011 में कुंजारानी को पद्मश्री अवॉर्ड से सम्मानित किया गया।


सोने के दाम में भारी गिरावट, फटाफट चेक करें नया रेट       7th pay commission: कर्मचारियों के लिए खुशखबरी       इन राशियों के लिए खुल रहे हैं सफलता के द्वार, जानें       महाशिवरात्रि स्पेशल, भगवान शिव एक पत्नी और दो पुत्रों के पिता नहीं, जानें       विष्णु का प्रिय शंख, भोलेबाबा की पूजा में वर्जित, आखिर क्यों       Beautiful to Bold! वुमेन्स डे पर अपने जीवन की खास स्त्रियों को भेजें ये मैसेज       Lovely Ladies! बढ़ती आयु में इन 8 बातों की टेंशन छोड़कर खुलकर जिएं       दुनिया में इस स्मार्टफोन को सबसे ज्यादा लोग करते हैं पसंद       सोशल मीडिया पर छेड़छाड़, बचाव के लिए करें ये काम       Flipkart सेल: इन स्मार्टफोन्स पर मिल रहा बड़ा डिस्काउंट       भुलकर भी एक साथ न खाएं ये चीजें, हो सकता है ये बड़ा नुकसान       तेजी से कम होगी पेट की चर्बी, सोने से पहले करें इस चीज का सेवन       इस तरह शरीर में बहने लगेगी पॉजिटिविटी, कई रोंगों का रामबाण उपचार है भ्रामरी प्राणायाम       ज्‍यादा खाने पर नुकसान भी पहुंचा सकते हैं ड्राई फ्रूट्स       खाना खाते वक्‍त क्‍या आप भी पीते हैं पानी?       बिना GYM जाए तेजी से कम होगा वजन, रोज 15 मिनट घर बैठे करें यह काम       Women’s Day: महिला डॉक्टर ने प्रग्नेंसी के दौरान किया ऐसा काम       खाने में ज्यादा नमक है जहर की तरह       मिलावटी चीजों से रहें सतर्क, ऐसे करें पहचान, खान-पान होगा शुद्ध       दुनिया का सबसे धनी बोर्ड बीसीसीआई महिला इवेंट को लेकर सबसे पीछे!