पार्टी की स्थिति सुधारने को सोनिया गांधी ने बनाए तीन पैनल

पार्टी की स्थिति सुधारने को सोनिया गांधी ने बनाए तीन पैनल

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने शुक्रवार को पार्टी के उच्च नेताओं को शामिल कर तीन पैनलों का गठन किया है. बताया गया है कि यह कदम आर्थिक, विदेश  राष्ट्रीय सुरक्षा जैसे मामलों पर पार्टी की स्थिति स्पष्ट रखने के लिए उठाया गया है. इन पैनलों में एक-दो लोगों को छोड़ दिया जाए, तो ज्यादातर पुराने नेता ही शामिल हैं. इनमें पूर्व पीएम मनमोहन सिंह से लेकर राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद  कई अन्य पूर्व केंद्रीय मंत्री भी शामिल हैं.

बताया गया है कि इन तीन पैनलों में गुलाम नबी आजाद के साथ, पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा, एम वीरप्पा मोइली  शशि थरूर जैसे नेता भी शामिल हैं, जिन्होंने पार्टी में हर स्तर पर परिवर्तन की मांग के साथ अगस्त में सोनिया गांधी को लेटर लिखा था. अब इन पैनल्स में पुराने नेताओं को शामिल करना इसी बात का संकेत है कि गंभीर नीतिगत मुद्दों पर निर्णय के लिए सोनिया गांधी अब भी उन पर भरोसा करती हैं.

बता दें कि कांग्रेस पार्टी में इन पैनल्स का गठन ऐसे समय में किया गया है, जब RCEP समझौते से हिंदुस्तान के अलग रहने के मामले पर पार्टी से भिन्न-भिन्न आवाजें उठी थीं. यहां तक कि अनुच्छेद 370 को दोबारा लागू कराने पर भी कांग्रेस पार्टी नेताओं के भिन्न-भिन्न सुर रहे हैं. अब पार्टी के कार्य करने के उपायों पर प्रश्न उठाने वाले नेताओं को पैनल में शामिल कर के सोनिया गांधी ने संकेत कर दिया है कि उनके मन में किसी भी मेम्बर के लिए गुस्सा नहीं है. उनकी यह प्रयास पार्टी में बिहार चुनाव  उपचुनाव के नतीजों के बाद उभरे विवादों को भी शांत करने के तौर पर भी देखी जा रही है.

पैनल गठन के कदम से खुश नहीं लेटर लिखने वाले कुछ नेता: हालांकि, दूसरी तरफ जिन नेताओं ने पार्टी में नीतिगत परिवर्तन करने के लिए सोनिया गांधी को लेटर लिखा था, उनमें से कई पैनल गठन के कदम से कुछ खास खुश नहीं बताए जा रहे हैं. पैनल में शामिल किए गए एक नेता ने बताया कि यह कदम उत्साहित करने से ज्यादा मन बहलाने वाला है, क्योंकि जो मामले उठाए गए थे, उन्हें अब तक गंभीरता से नहीं लिया गया  पार्टी लगातार ढलान की ओर है.

एक अन्य नेता ने कहा, “संस्थागत मामलों को उठाने के बजाय हमें नीतिगत मुद्दों को देखने के लिए बोला जाता है, पार्टी के पास पहले ही कई फोरम हैं, जो इन मुद्दों पर कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष को जानकारी देते हैं  पैनल में पूर्व पीएम को शामिल करना पूर्व में उनके द्वारा लिए गए पद को छोटा दिखाने जैसा है.

कौन नेता किस कमेटी में शामिल?: कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष ने मनमोहन सिंह को तीनों पैनलों में शामिल किया है, उनके अतिरिक्त पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम को आर्थिक मामलों की कमेटी का भाग बनाया गया है. लोकसभा में कांग्रेस पार्टी के पूर्व नेता मल्लिकार्जुन खड़गे, मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह  पूर्व केंद्रीय मंत्री जयराम रमेश भी इसी समूह का भाग होंगे.

इसके अतिरिक्त आनंद शर्मा, शशि थरूर, सलमान खुर्शीद  ओडिशा से पार्टी के युवा सांसद सप्तगिरी उलाका को विदेश मामलों के पैनल का भाग बनाया गया है. शर्मा को पार्टी के विदेश मामलों के विभाग का प्रमुख बनाया गया है. राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दों से जुड़े पैनल में गुलाम नबी आजाद , वीरप्पा मोइली, लोकसभा सांसद विन्सेंट पाला  लोकसभा सांसद वी वैथिलिंगम को शामिल किया गया है. इन पैनलों से पूर्व रक्षा मंत्री एके एंटनी  कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता अहमद पटेल को बाहर कर दिया गया है.


आंदोलनरत किसानों से ममता बनर्जी ने की फोन पर बात, TMC सांसद को भेजा

आंदोलनरत किसानों से ममता बनर्जी ने की फोन पर बात, TMC सांसद को भेजा

नई दिल्‍ली दिल्‍ली से लगी हरियाणा, उत्तर प्रदेश की सीमा पर सरकार की ओर से लाए गए 3 कृषि कानूनों (Farm Laws) के विरोध में आंदोलन कर रहे किसानों के समर्थन में ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) भी आ गई हैं पश्चिम बंगाल की मुख्‍यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस पार्टी की प्रमुख ममता बनर्जी ने शुक्रवार को आंदोलनरत किसानों (Farmer protest) से फोन पर बात की इस दौरान उन्‍होंने उनको एकजुटकता और समर्थन का संदेश दिया इसके साथ ही उन्‍होंने टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन को भी दिल्‍ली में किसानों से मिलने के लिए भेजा है



शुक्रवार को ममता बनर्जी ने किसानों को समर्थन करते हुए ट्वीट भी किया उन्‍होंने इसमें कहा, '14 वर्ष पहले 4 दिसंबर 2006 को मैंने कोलकाता में 26 दिन की भूख हड़ताल प्रारम्भ की थी मेरी मांग थी कि कृषि भूमि का जबरन अधिकरण न किया जाए मैं उन सभी किसानों के प्रति एकजुटता व्‍यक्‍त करती हूं, जो केन्द्र द्वारा बिना चर्चा किए लाए गए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं '


ममता बनर्जी के आदेश पर टीएमसी के राज्‍यसभा सांसद भी शुक्रवार को सिंघु बॉर्डर पर किसानों से मिलने पहुंचे उन्‍होंने किसानों के बीच करीब 4 घंटे बिताए इस दौरान उन्‍होंने किसानों से उनके मुद्दों पर बात की साथ ही ममता बनर्जी का किसानों से एकजुटता जताने के लिए धन्‍यवाद दिया ममता बनर्जी ने वहां फोन पर कई किसान नेताओं से बात की है


PCB ने किया ऐलान! इस देश में खेला जाएगा एशिया कप 2021       अजीत अगरकर के नाम दर्ज हैं कई रिकॉर्ड       भारत की हुई जीत, ऑस्ट्रेलिया 11 रनों से हारा       इस नए नियम से भारत को मिली संजीवनी, जानिए इसके बारे में       टीम में न होने पर भी चहल बने हीरो, भारत को ऐसे जिताया पहला टी-20       NCB अफसरों पर एक्शन, ड्रग्स केस में भारती समेत इनसे जुड़े तार       कंगना से भिड़े दिलजीत, गुस्से में बोले पंजाबी सिंगर       नेहा-रोहनप्रीत का TV शो, शादी के बाद पहली बार दिखें साथ       किसानों के मुद्दे पर मीका सिंह ने कंगना को सुनाई खरी-खोटी       सैफ की चाहत, बेटे की इस एक्टर की तरह बॉलीवुड में हो धमाकेदार एंट्री       दिलजीत दोसांझ से पंगा लेना कंगना को पड़ा भारी       इस एक्ट्रेस ने पहनी ऐसी ड्रेस, सोशल मीडिया पर हुईं ट्रोल       जावेद जाफरी की ये बातें नहीं जानते होंगे आप       कंगना और दलजीत के फैंस में हुआ बड़ा जंग, ट्विटर पर किए ये कमेंट       इस एक्ट्रेस का सबसे बड़ा खुलासा, कहा...       बॉलीवुड के नेचुरल एक्टर, काजोल की नानी से था रिश्ता       फैशनेबल युग फैशन प्रीन्योर, चौंका दिया सबको       किसानों के प्रदर्शन पर धर्मेंद्र ने ट्वीट किया डिलीट, लोगों ने किया ट्रोल       किसानों पर बयान के बाद निशाने पर कंगना       ओम प्रकाश शर्मा ने कहा कि धांधली से चुनाव जीती BJP, 13 को करेंगे आंदोलन का ऐलान