पीएलआइ योजना से कपड़ा उत्पादन का वैश्विक केंद्र बनना चाहता है भारत : PM मोदी

पीएलआइ योजना से कपड़ा उत्पादन का वैश्विक केंद्र बनना चाहता है भारत : PM मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने बुधवार को कहा कि कपड़ा क्षेत्र के लिए उत्पादन आधारित प्रोत्साहन (पीएलआइ) योजना, कपड़ा क्षेत्र के साथ ही आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को मजबूती देगी और इसके जरिये भारत कपड़ा उत्पादन क्षेत्र के वैश्विक केंद्र के रूप में उभरना चाहता है। वहीं, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने पीएलआइ योजना को प्रधानमंत्री मोदी का दूरदर्शी फैसला करार दिया और कहा कि इससे वैश्विक बाजार में भारत का प्रभुत्व बढ़ेगा और देश में रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे।

केंद्रीय मंत्रिमंडल ने बुधवार को कपड़ा क्षेत्र के लिए 10,683 करोड़ रुपये की पीएलआइ योजना को मंजूरी दी। प्रधानमंत्री ने एक ट्वीट में कहा, 'हमारा कपड़ा क्षेत्र अर्थव्यवस्था में अहम भूमिका निभाता है। इसे और गति देने और आत्मनिर्भर भारत बनाने के हमारे संकल्प को मजबूती प्रदान करने के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल ने कपड़ा क्षेत्र के लिए पीएलआइ योजना को मंजूरी दी।' एक अन्य ट्वीट में उन्होंने कहा, 'पीएलआइ योजना महिला सशक्तीकरण को मजबूती देगी और आकांक्षी जिलों की प्रगति की गति बढ़ाएगी।' एमएसपी में वृद्धि को लेकर प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, 'किसान भाइयों और बहनों के हित में एक और बड़ा फैसला लेते हुए सरकार ने रबी की सभी फसलों के लिए एमएसपी में वृद्धि को मंजूरी दी है। इससे अन्नदाताओं के लिए जहां अधिकतम लाभकारी मूल्य सुनिश्चित होगा, बल्कि फसलों की विभिन्न किस्मों को बोने का प्रोत्साहन भी मिलेगा।'


गृह मंत्री शाह ने सिलसिलेवार ट्वीट में कहा कि पिछले सात वर्षो में कपड़ा क्षेत्र को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रधानमंत्री मोदी ने कई सार्थक कदम उठाए हैं और उसी दिशा में एक और कदम आगे बढ़ाते हुए केंद्रीय मंत्रिमंडल ने कपड़ा क्षेत्र के लिए 10,683 करोड़ रुपये की पीएलआइ योजना को मंजूरी दी है। इस दूरदर्शी निर्णय से वैश्विक कपड़ा बाजार में भारत का प्रभुत्व बढ़ेगा, साथ ही ग्रामीण क्षेत्र में लगभग 7.5 लाख रोजगार के नए अवसर पैदा होंगे जिससे विशेषकर महिलाएं और सशक्त होंगी।'


मनोरमा महापात्र के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताया दुख, बोले...

मनोरमा महापात्र के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताया दुख, बोले...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रख्यात लेखक और पत्रकार मनोरमा महापात्रा के निधन पर दुख व्यक्त किया। साथ ही कहा कि उन्होंने मीडिया में कई योगदान दिए हैं। उन्होंने कई मुद्दों को कवर किया। उन्हें उनके लेखन के लिए याद किया जाएगा।

पीएम ने कहा,' प्रसिद्ध साहित्यकार मनोरमा महापात्र जी के निधन से दुखी हूं। उन्हें कई मुद्दों पर उनके लेखन के लिए याद किया जाएगा। उन्होंने मीडिया में भी समृद्ध योगदान दिया और व्यापक सामुदायिक सेवा की। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदना। ओम शांति ।

ओडिया दैनिक 'द समाज' के पूर्व संपादक मनोरमा महापात्रा का कलकत्ता में एससीबी मेडिकल कालेज और अस्पताल में निधन हो गया था। महापात्रा को सीने में दर्द की शिकायत के बाद उनका इलाज चल रहा था। वह 87 वर्ष की थीं। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी उनके निधन पर शोक व्यक्त किया।


पटनायक ने कहा, 'मैं प्रमुख लेखिका और डेली न्यूजपेपर समाज की पूर्व संपादक मनोरमा महापात्रा के निधन के बारे में जानकर दुखी हूं। पत्रकारिता, सामाजिक कार्य, शिक्षा और महिला सशक्तिकरण में उनका योगदान अतुलनीय है।" बता दें कि मनोरमा 1934 में जन्मी थी। वह 1984 में साहित्य अकादमी पुरस्कार भी मिला था।

उधर, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मिले उपहारों आनलाइन नीलामी चल रही है। इसको लेकर लोगों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है। पीएम मोदी ने रविवार को नागरिकों को उनके द्वारा प्राप्त उपहारों और स्मृति चिन्हों की ई-नीलामी में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया।


पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा, 'समय के साथ, मुझे कई उपहार और स्मृति चिन्ह मिले हैं जिनकी नीलामी की जा रही है। इसमें हमारे ओलंपिक नायकों द्वारा दिए गए विशेष स्मृति चिन्ह शामिल हैं। नीलामी में भाग लें। इससे मिलने वाला पैसा नमामि गंगे पहल में जाएगा। पीएम मोदी ने ई-नीलामी के लिए निर्धारित पोर्टल का लिंक भी साझा किया।