असम के जोरहाट में नाव डूबने से एक की मौत, 84 को बचाया गया

असम के जोरहाट में नाव डूबने से एक की मौत, 84 को बचाया गया

असम के जोरहाट जिले में बुधवार को स्टीमर से टक्कर के बाद यात्रियों से भरी एक नाव ब्रह्मपुत्र नदी में डूब गई। उसमें 120 से ज्यादा लोग सवार थे। हादसे में एक की मौत हो गई, जबकि 33 से ज्यादा यात्री लापता हैं। अंतर्देशीय जल परिवहन (आइडब्ल्यूटी) विभाग के तीन अधिकारियों को लापरवाही के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। एनडीआरएफ व एसडीआरएफ की टीमें राहत और बचाव कार्य में लगातार लगी हुई हैं।

एक निजी नाव 'मां कमला' निमती घाट से यात्रियों और वाहनों को लेकर माजुली की तरफ रवाना हुई थी। कुछ ही दूरी पर वह सरकारी फेरी स्टीमर त्रिपकाई से टकरा गई। आइडब्ल्यूटी विभाग के एक अधिकारी ने कहा, 'नाव में 120 यात्री सवार थे। इनमें से कई को त्रिपकाई में मौजूद लाइफगार्ड की मदद से बचाया गया।' एसडीआरएफ के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ज्ञानेंद्र त्रिपाठी ने कहा कि बचाई गई एक महिला की इलाज के दौरान मौत हो गई।

जोरहाट के पुलिस अधीक्षक अंकुर जैन ने बताया, 'हमें 33 से ज्यादा लोगों के लापता होने की जानकारी मिली है। राहत व बचाव अभियान पूरी रात जारी रहेगा।' उपायुक्त अशोक बर्मन ने कहा कि अब तक 42 लोगों को बचाया गया है। उन्होंने बताया, 'डूबने के बाद नाव बहती हुई करीब डेढ़ किलोमीटर दूर चली गई थी। नाव पलट गई है और हम उसे सीधा नहीं कर पा रहे हैं। सीधा करने के बाद ही पता चल पाएगा कि उसमें कोई फंसा हुआ है या नहीं। सेना कुछ अत्याधुनिक मशीनों के साथ गुरुवार को अभियान में शामिल होगी।'

मुख्यमंत्री हिमंता बिस्व सरमा ने दुर्घटना पर चिंता जताते हुए माजुली व जोरहाट जिला प्रशासन को राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) व राज्य आपदा मोचन बल (एसडीआरएफ) की मदद से बचाव कार्य तेज करने का निर्देश दिया। उन्होंने मंत्री बिमल बोरा को भी मौके पर भेजा और अपने प्रधान सचिव समीर कुमार सिन्हा को राहत व बचाव कार्य पर चौबीसों घंटे निगरानी रखने को कहा है। वह गुरुवार को निमती घाट का दौरा करेंगे।

राष्ट्रपति व प्रधानमंत्री ने जताया दुख, मदद का दिया भरोसा

राष्ट्रपति राम नाथ कोविन्द, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, जहाजरानी मंत्री सर्बानंद सोनोवाल, असम के राज्यपाल जगदीश मुखी व कांग्रेस नेता राहुल गांधी आदि ने हादसे पर गहरा दुख जताया है। पीएम मोदी ने ट्वीट किया, 'असम में हुए नाव हादसे से स्तब्ध हूं। यात्रियों को बचाने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं।' केंद्रीय गृह मंत्री शाह ने असम के सीएम सरमा से फोन पर बात कर बचाव कार्यो के संबंध में जानकारी ली।


मनोरमा महापात्र के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताया दुख, बोले...

मनोरमा महापात्र के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताया दुख, बोले...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रख्यात लेखक और पत्रकार मनोरमा महापात्रा के निधन पर दुख व्यक्त किया। साथ ही कहा कि उन्होंने मीडिया में कई योगदान दिए हैं। उन्होंने कई मुद्दों को कवर किया। उन्हें उनके लेखन के लिए याद किया जाएगा।

पीएम ने कहा,' प्रसिद्ध साहित्यकार मनोरमा महापात्र जी के निधन से दुखी हूं। उन्हें कई मुद्दों पर उनके लेखन के लिए याद किया जाएगा। उन्होंने मीडिया में भी समृद्ध योगदान दिया और व्यापक सामुदायिक सेवा की। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदना। ओम शांति ।

ओडिया दैनिक 'द समाज' के पूर्व संपादक मनोरमा महापात्रा का कलकत्ता में एससीबी मेडिकल कालेज और अस्पताल में निधन हो गया था। महापात्रा को सीने में दर्द की शिकायत के बाद उनका इलाज चल रहा था। वह 87 वर्ष की थीं। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी उनके निधन पर शोक व्यक्त किया।


पटनायक ने कहा, 'मैं प्रमुख लेखिका और डेली न्यूजपेपर समाज की पूर्व संपादक मनोरमा महापात्रा के निधन के बारे में जानकर दुखी हूं। पत्रकारिता, सामाजिक कार्य, शिक्षा और महिला सशक्तिकरण में उनका योगदान अतुलनीय है।" बता दें कि मनोरमा 1934 में जन्मी थी। वह 1984 में साहित्य अकादमी पुरस्कार भी मिला था।

उधर, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मिले उपहारों आनलाइन नीलामी चल रही है। इसको लेकर लोगों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है। पीएम मोदी ने रविवार को नागरिकों को उनके द्वारा प्राप्त उपहारों और स्मृति चिन्हों की ई-नीलामी में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया।


पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा, 'समय के साथ, मुझे कई उपहार और स्मृति चिन्ह मिले हैं जिनकी नीलामी की जा रही है। इसमें हमारे ओलंपिक नायकों द्वारा दिए गए विशेष स्मृति चिन्ह शामिल हैं। नीलामी में भाग लें। इससे मिलने वाला पैसा नमामि गंगे पहल में जाएगा। पीएम मोदी ने ई-नीलामी के लिए निर्धारित पोर्टल का लिंक भी साझा किया।