OH NO! स्कूल में बच्ची से बार बार करता रहा दुष्कर्म

OH NO! स्कूल में बच्ची से बार बार करता रहा दुष्कर्म

हैदराबाद: स्कूलों को शिक्षा का मंदिर कहा जाता है लेकिन यदि वहां पर ही हमारे भविष्य की बुनियाद साजिश की शिकार हो जाए, उसका भविष्य असुरक्षित हो जाए तो इससे भयानक कुछ नहीं हो सकता। सरकारों को बच्चों का भविष्य सुरक्षित करने के लिए मानसिक विकृतियों के शिकार लोगों को चिह्नित करने की जरूरत है। केवल सजा या कठोर दंड से इसका निदान नहीं हो सकता है।

अक्टूबर 2017 की है घटना
यह घटना हैदराबाद की है। जहां एक अदालत ने गुरुवार, 7 जनवरी को एक स्कूल के चौकीदार को कई मौकों पर एक छात्रा का यौन उत्पीड़न करने के मामले में 20 साल कैद की सजा सुनाई है। अदालत ने अक्टूबर 2017 के मामले में अपना फैसला दिया है। बच्ची की मां ने चौकीदार कमल भान पर आरोप लगाया था कि वह उसकी बेटी का स्कूल के बेसमेंट की पार्किंग में इंटरवल, दोपहर के भोजन के घंटों और स्कूल के घंटों के बाद यौन उत्पीड़न करता था।

आरोपी ने लड़की को धमकाया, कहा किसी को न बताये
आरोपी ने लड़की को किसी को भी इसका खुलासा न करने की धमकी दी थी। अभियोजन पक्ष के अनुसार, बच्ची ने मुख्य परीक्षा के दौरान घटना को बताया और आरोपी की पहचान की, जिससे उसके खिलाफ अपराध स्थापित हो गए।

लड़की मानसिक और शारीरिक पीड़ा से गुजरी
30 वर्षीय चौकीदार को यौन अपराधों से बच्चों के संरक्षण (POCSO) अधिनियम, 2012 और धारा 376 (2) (i) की धारा 6 (एल) (एम) (ओ) के तहत दंडनीय पाया गया है। भारतीय दंड संहिता की 506 POCSO के लिए एक विशेष न्यायाधीश ने कहा कि लड़की यौन उत्पीड़न की लगातार घटनाओं के कारण गंभीर मानसिक और शारीरिक पीड़ा से गुजरी।


न्यायाधीश ने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण (DLSA) को लड़की और उसके परिवार को मुआवजा प्रदान करने का आदेश दिया। अदालत ने अभियुक्त को 20 साल के सश्रम कारावास और 1000 के जुर्माने के साथ तीन महीने के साधारण कारावास का आदेश दिया, यदि जुर्माना राशि बकाया है। अदालत ने आरोपी को एक साल के सश्रम कारावास की सजा भी सुनाई और धारा 506 आईपीसी के तहत दंडनीय अपराध के लिए 1,000 का जुर्माना लगाया।


गुलेरिया ने कहा- डेढ़ से दो माह में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर

गुलेरिया ने कहा- डेढ़ से दो माह में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर

 अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के निदेशक डाॅ. रणदीप गुलेरिया ने कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि लाॅकडाउन खत्म होने के बाद लोगों ने एक बार फिर बचाव के नियमों का ठीक से पालन करना बंद कर दिया है। भीड़ भी एकत्रित होने लगी है। इसलिए तीसरी लहर जरूर आएगी। यदि यही स्थिति रही तो डेढ़ से दो माह (छह से आठ सप्ताह) में तीसरी लहर आ सकती है। इसलिए बचाव के नियमों का सख्ती से पालन करना होगा।

एम्स निदेशक ने कहा- लोगों ने पहली व दूसरी लहर से नहीं लिया कोई सबक 

एम्स निदेशक ने एक बयान में कहा कि अनलाॅक शुरू होने के बाद लोगों में कोरोना से बचाव के व्यवहार में कमी देखी जा रही है। ऐसा लगता है कि लोगों ने पहली व दूसरी लहर से कोई सबक नहीं लिया। सामान्य तौर पर नई लहर तीन माह के अंतराल पर आती है, लेकिन यह इस पर भी निर्भर करेगा कि लोग बचाव के नियमों का कितना पालन करते हैं और भीड़ को नियंत्रित करने के लिए किस तरह के कदम उठाए जाते हैं। मामले बढ़ने में थोड़ा समय लगेगा, लेकिन तीसरी लहर तीन माह के अंतराल से थोड़ा पहले आ सकती है।

गुलेरिया ने कहा- जब तक टीका नहीं लग जाता, संक्रमण बढ़ने का खतरा बना रहेगा

उन्होंने कहा कि देश की बड़ी आबादी को जल्द टीका लगाना सबसे बड़ी चुनौती है, जब तक टीका नहीं लग जाता, संक्रमण बढ़ने का खतरा बना रहेगा। वायरस में म्युटेशन होने के बाद ही नया स्ट्रेन बाहर से भारत आया और पूरे देश में दूसरी लहर फैल गई। वायरस में अब भी म्यूटेशन हो रहा है। इसलिए नए म्यूटेशन का पता लगाने के लिए अध्ययन करना होगा।

गुलेरिया ने कहा- संक्रमण रोकने का पूरे देश में लाॅकडाउन से बेहतर विकल्प नहीं

उन्होंने कहा कि संक्रमण रोकने का पूरे देश में लाॅकडाउन से बेहतर विकल्प नहीं है। इससे आर्थिक गतिविधियां प्रभावित होती हैं। इसलिए संक्रमण की निगरानी जरूरी है, यदि कहीं संक्रमण बढ़ता है तो कंटेनमेंट जोन में लाॅकडाउन किया जाना चाहिए।

संक्रमण से बचाव के लिए मास्क जरूरी, शारीरिक दूरी के नियम का हो पालन

संक्रमण दर पांच फीसद से अधिक होने पर मिनी लाॅकडाउन होना चाहिए। संक्रमण से बचाव के लिए जरूरी है कि लोग मास्क का इस्तेमाल जरूर करें और शारीरिक दूरी के नियम का पालन करते रहें। 


IIT Kanpur बना रहा यूपी और दिल्ली में कोरोना संक्रमण की तीसरी लहर रोकने का प्लान       गंगा दशहरा पर बिठूर के घाटों में आस्था की डुबकी, स्नान-ध्यान और किया दान       सब्जी विक्रेता की मौत पर भीड़ ने शिवराजपुर थाना घेरा, बवाल की आशंका पर फोर्स तैनात       औसत से तीन गुना अधिक बरसा पानी, अभी पांच द‍िन तक रुक-रुककर होती रहेगी बार‍िश       ऐसे तो फिर डूबेगा गोरखपुर, रेनकट भरे गए न बंधों की हुई मरम्मत- अभी से जवाब देने लगे बंधे       गेट से लौटाए जा रहे भर्ती होने आने वाले मरीज, छह द‍िन में केवल चार मरीज हुआ भर्ती       रिकार्ड स्तर पर पहुंचा चिकन का भाव, दो माह में दो गुना हुआ मूल्य       कल से गुलजार होेंगे मॉल एवं रेस्टोरेंट, इस बार मेन्यू में होंगे यह खास डिश       गेहूं का ऐसा बीज जिसे खाद की जरूरत नहीं, उत्पादन में भी 15 से 35 फीसद तक की बढ़ोतरी       अब बरसात में भी लीजिए वन्य जीव विहार में रुकने का मजा, जान‍िए क्‍या है यूपी वन न‍िगम की तैयारी       CM योगी का एलान, जिले में एक हफ्ते तक नहीं मिला कोरोना संक्रम‍ित तो करेंगे पुरस्कृत       लखनऊ का ठग अब दुबई से चला रहा जालसाजी का नेटवर्क       पश्‍च‍िमी उत्तर प्रदेश में रोहि‍ंग्या के मददगारों के भी मिले सुराग, एटीएस ने तेज की छानबीन       लखनऊ में स्‍कूल का अवैध न‍िर्माण प्रशासन ने ढहाया, अराजकता से परेशान थे कालाकाकर कॉलोनी न‍िवासी       यूपी में एक ही रंग की होंगी शहर के मुख्य मार्गों की इमारतें, सीएम योगी ने प्रस्ताव को दी मंजूरी       पिता के सपने को बनाया अपनी जिंदगी का लक्ष्य, आगरा की बेटी ने थल सेना में अफसर बन दी सच्‍ची श्रद्धांजलि       18 साल बाद प्रेसीडेंशियल ट्रेन से यात्रा करेंगे राष्ट्रपति, जानिए-स्पेशल ट्रेन की खास बातें       गजब, बरेली में एक शख्स को अपने पालतू कुत्ते से इतना प्यार कि उसका ध्यान रखने के लिए छोड़ दी शराब       UP में दो से अधिक बच्चे वालों की सुविधाओं में होगी कटौती, सरकारी योजनाओं के लाभ से किया जा सकता है वंचित       MLC एके शर्मा को लेकर सभी अटकलें समाप्त, यूपी भाजपा के 18 प्रदेश उपाध्यक्ष में शामिल