कम समय में अधिक पैसा कमाने की चाह ने पहुंचाया जेल

कम समय में अधिक पैसा कमाने की चाह ने पहुंचाया जेल

मध्य प्रदेश के जबलपुर के गोहलपुर थाना क्षेत्र में दिनदहाड़े व्यापारी से हुई 24 लाख 20 हजार रुपए की डकैती का पुलिस ने खुलासा कर दिया है. घटना को 5 आरोपियों ने मिलकर अंजाम दिया था. पुलिस ने सभी आरोपियों को अरैस्ट कर लिया है. साथ ही आरोपियों से डकैती के 20 लाख रुपए भी बरामद कर लिए हैं. शेष 3 लाख की बरामदी के लिए टीम रवाना कर दी गई हैं. पकड़े गए आरोपियों में से किसी ने ऋण चुकाने तो किसी ने जल्द अमीर बनने की चाहत में डकैती की वारदात को अंजाम दिया था.

गोहलपुर निवासी अंशुल चौधरी (31) और कृष्णा कॉलोनी के कमलेश (20) झारिया डकैती के मुख्य आरोपी हैं. बता दें कि दोनों ने शिवम चौरसिया, सुमित बेन और गौरव चौरसिया के साथ मिलकर डकैती की वारदात को अंजाम दिया था. पुलिस ने बताया कि कमलेश और अंशु उर्फ अशुंल चौधरी आदतन क्रिमिनल हैं. जो कम समय में अधिक पैसा कमाना चाहते थे. दोनों के विरूद्ध अगल-अलग थानों में मर्डर का प्रयास, हाथापाई और एनडीपीएस एक्ट के जैसे गंभीर क्राइम दर्ज हैं.

कर्ज में डूबे थे आरोपी

पुलिस ने बताया कि आरोपी शिवम चौरसिया उर्फ मोदी की तुलाराम चौक पर हार्डवेयर और सुमित बेन की मदनमहल में चिकिन बिरियानी की दुकान है. दोनों ऋण में डूबे हुए थे. अपना कर्जा चुकाने के लिए डकैती की है. पूछताछ पर आरोपियों ने सिलसिलेवार घटनाक्रम बताया कि बेलबाग निवासी गौरव चौरसिया (22) जयंती कॉम्प्लेक्स स्थित मोबाइल दुकान में काम करता है जिसे मालूम था कि राजकुमार तिवारी व्यापरियों से पैसा इकट्ठा कर मोबाइल एसेसिरिज खरीदने दिल्ली जाता है. गौरव चौरसिया ने यह बात अपने साथी शिवम चौरसिया को बताई जो संबंध का भाई लगता है. 

शिवम चौरसिया ने अपने साथी सुमित बेन और कमलेश को बताई. फिर योजना के मुताबिक जयंती कॉम्पेक्स में रेकी करते हुए राजकुमार तिवारी जब जयंती का कॉम्प्लेक्स स्थित दुकानदारों से रुपए इकट्ठा कर बैग में रखकर निकला, तो गौरव ने इसकी जानकारी अपने साथियों को दी. वहीं एक एक्सिस पर कमलेश और अंशु और दूसरे एक्सिस पर शिवम और सुमित, मोटर साइकिल से जा रहे राजकुमार तिवारी का पीछा करने लगे. कमलेश और अंशु राजकुमार के ठीक पीछे चल रहे थे. मौका मिलते ही अमखेरा रोड में कन्हैया डेरी के पास हैण्डिल में टंगा बैग छीनकर कमलेश और अंशु भागते हुए खजरी खिरिया होते हुए बेलखाडू पहुंचे, जहां शिवम और सुमित भी पीछे-पीछे पहुंच गए. बेलखाडू से चारों मझोली क्षेत्र के जंगल में पहुंचे और आपस में छीने हुए रुपए बांट लिए थे.

CCTV फुटेज-मोबाइल लोकेशन ट्रेस कर उठा पर्दा

इधर घटना की जानकारी मिलते ही एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने बेरिकेड लगाकर वाहनों की चेकिंग करने के निर्देश दे दिए थे. दूसरी ओर सीसीटीवी फुटेज में कैद हुए आरोपियों का भागते हुए रूट देखने और मोबाइल की लोकेशन ट्रेस कर पल-पल की अपडेट के कारण पुलिस जल्द ही बदमाशों तक पहुंच गई