COVID-19: कोरोना से लड़ने के लिए राज्यों को दी जा रही हर संभव मदद - स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन

COVID-19: कोरोना से लड़ने के लिए राज्यों को दी जा रही हर संभव मदद -  स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन

देश भर में बढ़ रहे COVID-19 मामलों के बीच, केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने रविवार को आश्वासन दिया कि COVID-19 से लड़ने के लिए राज्यों को हर संभव समर्थन दिया जा रहा है। इसमें रेमडेसिविर दवा का दोगुना उत्पादन और आपूर्ति करना, निर्बाध ऑक्सीजन की आपूर्ति सुनिश्चित करना, COVID-19 टीकों की निरंतर आपूर्ति और स्वास्थ्य सेवा के बुनियादी ढांचे में वृद्धि शामिल है।

देश भर में टीकाकरण अभियान को मजबूत करने के लिए किए जा रहे उपायों के बारे में सूचित करते हुए उन्होंने पॉइंटर्स में निम्नलिखित चरणों पर प्रकाश डाला और ट्वीट किया- छोटे राज्यों की COVID-19 वैक्सीन की आपूर्ति हर 7 दिन और हर 4 दिनों में बड़े राज्यों में की जा रही है। उपलब्ध टीकों की संख्या को जल्दी से बढ़ाने के लिए कहा गया है। सितंबर 2021 तक कोवैक्सीन का उत्पादन 10 गुना बढ़ा दिया जाएगा।भारत का टीकाकरण अभियान 16 जनवरी को शुरू हुआ।


स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा कि कोरोना रोगियों के लिए अस्पताल की बेड क्षमता बढ़ाने के लिए अस्थायी अस्पताल स्थापित करना और केंद्रीय मंत्रालयों के तहत अस्पतालों में वार्ड समर्पित करना होगा। स्वास्थ्य मंत्री ने यह भी ट्वीट किया कि अतिरिक्त वेंटिलेटर भारत सरकार द्वारा उपलब्ध कराए जा रहे हैं, जो उन्होंने राज्यवार आंकड़ों के साथ पढ़ा, जिसमें लिखा था- महाराष्ट्र -1121, यूपी -1700, झारखंड -500, गुजरात -600, मध्य प्रदेश -152 और छत्तीसगढ़ -230।


उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन के उत्पादन को औद्योगिक उपयोग से अधिकतम उपयोग और डायवर्ट किया जा रहा है, देश भर में 162 पीएसए संयंत्रों की स्थापना में तेजी आई हैऔर 24 घंटे समन्वय सेल राज्यों की सहायता कर रहे हैं। इसके अलावा उन्होंने कहा कि रेमेडिसविर की आवश्यकता को पूरा करने के लिए, भारत सरकार निम्नलिखित उपाय कर रही है: "उत्पादन मई तक दोगुना होकर 74.1L / महीना हो सकता है। उत्पादन बढ़ाने के लिए 20 विनिर्माण संयंत्रों को दी गई एक्सप्रेस अनुमति। निर्यात निषिद्ध। कीमतें छायांकित। किसी भी अंकुश लगाने के लिए सख्त निगरानी।


केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय का पत्र

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक पत्र लिखकर सभी केंद्रीय मंत्रालयों और सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों (पीएसयू) को उनके अधीन राज्यों / संघ राज्य क्षेत्रों में # COVID19 प्रबंधन के लिए अपने अस्पताल के बिस्तर समर्पित करने को लिखा है। समर्पित अस्पताल के वार्डों / ब्लॉकों को सहायक / सहायक सेवाओं सहित ऑक्सीजन समर्थित बेड, आईसीयू बेड, वेंटिलेटर, विशेष सीसीयू (जहाँ भी उपलब्ध हो), प्रयोगशाला / इमेजिंग सेवाओं, रसोई आदि के साथ समर्पित स्वास्थ्य कार्यबल, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के साथ सुसज्जित किया जाना है।


जनता के प्राण जाएँ पर पीएम की कर वसूली ना जाए : राहुल

जनता के प्राण जाएँ पर पीएम की कर वसूली ना जाए : राहुल

कांग्रेस पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कोविड-19 वैक्सीन पर जीएसटी को लेकर नरेन्द्र मोदी सरकार पर निशाना साधा है। दरअसल, केन्द्र कोविड-19 वैक्सीन पर राज्यों से पांच प्रतिशत जीएसटी ले रही है। राहुल गांधी ने इसी का विरोध किया है। इससे पहले राजस्थान और छत्तीसगढ़ सरकार भी वैक्सीन पर जीएसटी लगाए जाने का विरोध कर चुकी हैं।

बता दें कि देश में कोविड-19 के चलते रोज़ाना मृत्यु की संख्या बढ़ रही है। बीते 24 घंटे में 4187 लोगों की जान गई हैं। अभी तक 1 दिन में कोविड-19 की वजह से हुई यह सबसे अधिक मौतें हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, पूरे देश में 24 घंटे के दौरान 4,01,078 आदमी कोविड-19 संक्रमित पाए गए हैं। अब तक 2 करोड़ 18 लाख 92 हजार 676 लोग कोविड-19 संक्रमित हो चुके हैं। एक दिन पहले राहुल गांधी ने प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखते हुए बोला था कि सरकार के पास कोविड-19 के विरूद्ध टीकाकरण को लेकर कोई स्पष्ट रणनीति नहीं है। उन्होंने हिंदुस्तान को अत्यधिक खतरनाक स्थिति में डाल दिया है। उन्होंने यह भी बोला कि सरकार की नाकामी के चलते के कारण देश एक बार फिर से राष्ट्रीय स्तर के लॉकडाउन की कगार पर खड़ा हो गया है और ऐसे में गरीबों को तत्काल आर्थिक सहायता दी जाए ताकि उन्हें गत साल की तरह पीड़ा से नहीं गुजरना पड़े।

बता दें कि एक महीने के भीतर पीएम को यह उनका दूसरा पत्र है। उन्होंने पहले 9 अप्रैल को प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी को लिखा था कि टीकाकरण के लिए हर किसी को इसकी जरूरत है और टीका निर्यात पर फ़ौरन रोक लगाने का आहवान किया गया था। यदि इसी गति से टीकाकरण जारी रहा तो इकॉनमी पर विध्वंसक असर पड़ेगा।


अच्छा तो इस वजह से प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए वरदान है तुलसी       मच्छरों से होने वाले मलेरिया से बचना है तो अपनाएं ये घरेलू उपाय       औरतों को जरूर पीना चाहिए पपीते का जूस       गर्भवती महिलाओं के लिए बहुत फायदेमंद होता है चीकू, जानें       बच्चों को एलर्जी और एक्ज़िमा की समस्या से बचाती है मूंगफली       पाइल्स की समस्या से छुटकारा दिलाते है अशोक के बीज       सुबह उठते ही लगातार आती है छींक तो करें ये उपाय       शारीरिक बिमारियों में फायदेमंद है नीम का तेल       मानसिक तनाव को दूर करता है केले का फूल       मूली के जूस पीने के भी है कई फायदे       जलने पर करें ये उपाय, तुरन्त मिलेगा ये फायदा       सर्दी जुकाम में बन्द नाक से राहत देते है ये घरेलु इलाज       हार्ट अटैक की संभावना को कम करती है बड़ी इलायची       अगर निगल गए है च्युइंगम तो हो सकती है समस्याएं       शुगर लेवल को कण्ट्रोल करता है हरा प्याज       हमारी सेहत के लिए फायदेमंद होता है शहद का सेवन       सूखी खांसी के लिए अपनाएं ये घरेलू नुस्खे       अगर आप भी करती हैं ये काम तो हो जाएँ सावधान!       मसूड़ों की समस्याओ से आराम दिलाती है लौंग की चाय       यूरीन इंफेक्शन से बचने के लिए करें ये घरेलु उपाय