कोरोना के मामलों में उतार-चढ़ाव जारी, 30,773 नए मामलों के साथ 309 लोगों की मौत

कोरोना के मामलों में उतार-चढ़ाव जारी, 30,773 नए मामलों के साथ 309 लोगों की मौत

देश में कोरोना वायरस के नए मामलों में उतार-चढ़ाव जारी है। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, आज सुबह जारी किए गए ताजा आंकड़ों की बात करें तो पिछले 24 घंटों में भारत में 30,773 नए कोरोना के मामले दर्ज हुए हैं। इसके साथ ही 309 नए लोगों की कोरोना से मौत हुई है। वहीं लगातार मरीज कोरोना को मात भी दे रहे हैं। नए 38,945 मरीज कोरोना से ठीक भी हुए हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसकी जानकारी दी है।

जानें- देश में कोरोना के सक्रिय मामले के साथ ठीक होने वालों की संख्या

नए मामलों के दर्ज होने के साथ ही देश में सक्रिय मामलों की संख्या 3,32,158 हो गई है। वहीं कुल संक्रमितों की संख्या 3,34,48,163 तक पहुंच गई है। जानलेवा कोरोना वायरस से अबतक देश में 4,44,838 लोगों की जान गई है। जिस तेजी से मामले दर्ज हो रहे हैं उसी तेजी से कोरोना के मरीज ठीक भी हो रहे हैं। अबतक देश में 3,26,71,167 मरीजों ने कोरोना को मात दी है। कोरोना से लड़ने के लिए देश में टीकाकरण का कार्य भी तेजी से चल रहा है। देश में कुल 80,43,72,331 लोगों को टीका लग चुका है। पिछले 24 घंटे में देश में 85,42,732 लोगों को टीका लगा है।


देश में केरल राज्य की कोरोना संक्रमण लगातार बढ़ रहा है। यहां से सबसे ज्यादा मामले दर्ज हो रहे हैं। हालांकि, केरल में शनिवार को संक्रमण के नए मामलों में गिरावट देखने को मिली और संक्रमण के 19,352 नए मामले सामने आने के साथ ही कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 44 लाख 88 हजार 840 हो गई। वहीं 143 मरीजों की मौत के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 23,439 हो गई। बता दें कि शुक्रवार को संक्रमण के 23,260 नए मामले यहां पर दर्ज हुए थे।


दुनिया में कोरोना एक्टिव केस मामले में दुनिया में भारत अब 8वें स्थान पर है। वहीं कुल संक्रमितों की संख्या के मामले में भारत दूसरे स्थान पर है। जबकि अमेरिका, ब्राजील के बाद सबसे ज्यादा मौत भारत में हुई हैं।


MP में प्याज घोटाला: 2300 रुपयों में उद्यानिकी विभाग ने खरीदा 1100 का बीज, EOW की जाँच शुरू

MP में प्याज घोटाला: 2300 रुपयों में उद्यानिकी विभाग ने खरीदा 1100 का बीज, EOW की जाँच शुरू

भोपाल मध्य प्रदेश में प्याज घोटाले (Onion scam) की जाँच अब ईओडब्ल्यू (EOW) ने प्रारम्भ कर दी है इस जाँच की रडार पर उद्यानिकी विभाग के कमिश्नर आ गए हैं आरोप है कि अप्रमाणित बीज (Uncertified seeds) खरीद कर सरकार को आर्थिक नुकसान और घोटाला किया गया प्रमाणित बीज के जो रेट तय किए गए थे उससे भी अधिक दर पर विभाग ने अप्रमाणित बीज खरीदा प्रदेश शासन ने  प्याज के उस बीज को इसलिए प्रतिबंधित कर दिया था क्योंकि इससे पैदावार कम होती थी इसकी स्थान पर अब प्रमाणित हाइब्रिड बीज को अनुमति दी गई है लेकिन नियमों को ताक पर रखकर विभाग ने घोटाला करते हुए अप्रमाणित बीज की खरीदा

ये है पूरा मामला
प्रदेश शासन ने उद्यानिकी नर्सरियों पर प्रमाणित बीजों की बिक्री दर 1100 रुपये प्रति किलो तय की थी इसके बाद भी  उद्यानिकी विभाग ने अप्रमाणित खरीफ प्याज बीज दोगुने से भी अधिक दाम 2300 रुपए प्रति किलो की दर पर खरीद लिया यह बीज एमपी एग्रो की स्थान दूसरी संस्थाओं से खरीदा गया राष्ट्रीय बागवानी मिशन में इसी वर्ष पहली बार खरीफ प्याज को शामिल किया गया है इसके बाद विभाग ने दो करोड़ रुपए में 90 क्विंटल प्याज बीज को खरीद लिया उद्यानिकी को एमआईडीएच योजना में संकर सब्जी बीज के नाम पर केंद्र सरकार से 2 करोड़ रुपए मिले थे इस राशि से नियमों को ताक पर रखकर निम्न गुणवत्ता के अप्रमाणित प्याज बीज की प्रजाति एग्री फाउंड डार्क रेड की खरीदी कर ली गई

ऐसे हुआ घोटाला
उद्यानिकी विभाग के 29 सितंबर 2020 को जारी पत्र के अनुसार सब्जी बीज की दरें ( 2020-21) में 1100 रुपए प्रति किलो थी लेकिन बगैर टेंडर बुलाए सीधे एनएचआरडीएफ इन्दौर से 2300 रुपए प्रति किलो की दर पर प्याज का बीज खरीद लिया गया यह खरीदी तब कर ली गई जब नेफेड और एमपीएसी समेत अन्य कई मान्यता प्राप्त निजी संस्थाएं इसे कम मूल्य पर सप्लाई करने के लिए तैयार थीं

EOW ने प्रारम्भ की जांच
इस मुद्दे की कम्पलेन आईटीआई कार्यकर्ताओं और दूसरी संस्थाओं ने सबसे पहले विभाग के मंत्री से की इसके बाद अब इस मुद्दे की कम्पलेन जब EOW पहुंची तो एजेंसी ने इस पूरे मुद्दे की जाँच प्रारम्भ कर दी विभाग के संबंधित और उत्तरदायी ऑफिसरों को नोटिस भेजकर जबाव तलब किया जा रहा है