चौधरी अजित सिंह ने कहा कि पिता की एक आवाज पर छोड़ दिया अमरीका

चौधरी अजित सिंह ने कहा कि पिता की एक आवाज पर छोड़ दिया अमरीका

पश्चिमी उत्तर प्रदेश (Western Uttar Pradesh) में किसानों की राजनीति (Politics) के साथ उनके मसीहा के तौर पर अपनी अलग पहचान बनाने वाले चौधरी अजित सिंह (Chaudhary Ajit Singh) ने अपने पिता स्व चरण सिंह (father charan singh ) की राजनीतिक विरासत को एक लंबे समय तक संभालने का काम किया। पिछले चार दशकों तक किसानों की राजनीति में एक बड़ा नाम चौधरी अजित सिंह का रहा। राजनीति के चतुर खिलाड़ी कहे जाने वाले चौ अजित सिंह का 1989 में जनता दल की सरकार में मुख्यमंत्री के तौर पर नाम भी उभरा था पर अंतिम समय मुलायम सिंह यादव के चरखा दांव ने उनको पीछे कर दिया। इसके बाद इन दोनों नेताओं के बीच राजनीतिक दोस्ती दुश्मनी का एक लंबा दौर चलता रहा।

राष्ट्रीय लोक दल के अध्यक्ष और पश्चिम यूपी के लोकप्रिय जाट नेता अजित सिंह का जन्म 12 फरवरी 1939 को मेरठ में हुआ था और वे पूर्व प्रधानमंत्री और देश के बड़े किसान नेता चौ चरण सिंह के बेटे थे। वे भारतीय राजनीति के एक बड़े चेहरे थे। मौजूदा समय में वे किसान नेताओं के बड़े नेताओं में शुमार थें। चै अजित सिंह तो अमरीका में रहा करते थे पर 1981 में पिता चौ चरण सिंह के कहने पर वह भारत लौटे और फिर सक्रिय राजनीति में उतरे। चौ अजित सिंह 6 बार लोकसभा और एक बार राज्यसभा सांसद रहे। इसके अलावा 4 प्रधानमंत्रियों की कैबिनेट में मंत्री भी रहे।

बेहद सुनहरा रहा है राष्ट्रीय लोकदल का अतीत
राष्ट्रीय लोकदल के अतीत की बात करें तो चौ अजित सिंह के पिता चौ चरण सिंह ने किसानों के हित के लिए कांग्रेस मंत्रिमंडल से इस्तीफा दिया। इसके बाद उन्होंने भारतीय क्रांति दल की स्थापना इसी साल की। बाद में 1974 में उन्होंने इसका नाम लोकदल करने के बाद 1977 में जनता पार्टी में विलय कर लिया । इसके बाद जनता पार्टी जब 1980 में टूटी तो चौधरी चरण सिंह ने जनता पार्टी एस का गठन किया। 1980 में हुए लोकसभा चुनाव में इस दल का नाम बदलकर दलित मजदूर किसान पार्टी हो गया और इसी बैनर तले चुनाव लड़ा गया। पार्टी में विवाद के चलते हेमवती नन्दन बहुगुणा इससे अलग हो गये और 1985 में चौधरी चरण सिंह ने लोकदल का गठन किया।

1987 में तेजी से राजनीति में सक्रिय हुए चौ अजित सिंह

इसी बीच 1987 में चौ अजित सिंह के राजनीतिक हस्तक्षेप के चलते पार्टी में फिर विवाद हुआ और लोकदल (अ) का गठन किया गया। इसके बाद लोकदल (अ) का 1988 में जनता दल में विलय हो गया। जब जनता दल में आपसी टकराव शुरूहुआ तो 1987 लोकदल (अ) और लोकदल (ब) बन गया। किसानों की कही जाने वाले इस दल का 1988 में जनता पार्टी में विलय हो गया। फिर जब जनता दल बना तो चै अजित सिंह का दल उसके साथ हो गया।


अजित सिंह राजनीति में जाना माना नाम (फोटो: सोशल मीडिया)

कभी विलय किया तो कभी अलग दल बनाया

लोकदल (अ) यानी चौ अजित सिंह के दल का 1993 मेें कांग्रेस में विलय हो गया। चै अजित सिंह ने एक बार फिर कांग्रेस से अलग होकर 1996 में किसान कामगार पार्टी का गठन किया। इसके बाद 1998 में चै चरण सिंह की विचारधारा पर चलने वाले इस दल का नाम उनके पुत्र चौ अजित सिंह ने बदलकर राष्ट्रीय लोकदल कर दिया। जहां तक मुलायम सिंह की बात है तो उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत ही चौ चरण सिंह के साथ की। मुलायम सिंह ने 1967 में संयुक्त सोशलिस्ट पार्टी से चुनाव जीतने के बाद फिर 1969 में वह चै चरण सिंह से जुड़ गए। चौ चरण सिंह ने जब लोकदल का गठन किया तो मुलायम सिंह यादव को प्रदेश अध्यक्ष पद की जिम्मेदारी सौंपी। प्रदेश में जब जनता पार्टी की सरकार बनी तो मुलायम सिंह को सहकारिता मंत्री की जिम्मेदारी सौंपी गई। चौ चरण सिंह ने मुलायम सिंह को यूपी विधानसभा में वीर बहादुर सिंह की सरकार में नेता विरोधी दल बनाने का काम किया। 1987-88 में जनता दल के गठन के बाद मुलायम सिंह को प्रदेश अध्यक्ष की जिम्मेदारी मिली तो अजित सिंह मुलायम सिंह यादव के साथ थें। पर मुख्यमंत्री पद को लेकर दोनों नेताओं के समर्थको में हुए टकराव के बाद इन नेताओं की राहें अलग हो गई।

चौधरी अजित सिंह के प्रभाव वाले जिलें
चै अजित सिंह की राजनीति जिन जिलों में अधिक प्रभावी रही उनमें मेरठ, गाजियाबाद, बुलंदशहर, गौतमबुद्वनगर, बागपत, मुजफ्फरनगर, सहारनपुर, बिजनौर, मुरादाबाद, जेपी नगर, रामपुर, आगरा, अलीगढ, मथुरा, फिरोजाबाद, महामायानगर, एटा, मैनपुरी, बरेली, बदायूं,पीलीभीत,शाहजहांपुर है।


गुलेरिया ने कहा- डेढ़ से दो माह में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर

गुलेरिया ने कहा- डेढ़ से दो माह में आ सकती है कोरोना की तीसरी लहर

 अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) के निदेशक डाॅ. रणदीप गुलेरिया ने कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि लाॅकडाउन खत्म होने के बाद लोगों ने एक बार फिर बचाव के नियमों का ठीक से पालन करना बंद कर दिया है। भीड़ भी एकत्रित होने लगी है। इसलिए तीसरी लहर जरूर आएगी। यदि यही स्थिति रही तो डेढ़ से दो माह (छह से आठ सप्ताह) में तीसरी लहर आ सकती है। इसलिए बचाव के नियमों का सख्ती से पालन करना होगा।

एम्स निदेशक ने कहा- लोगों ने पहली व दूसरी लहर से नहीं लिया कोई सबक 

एम्स निदेशक ने एक बयान में कहा कि अनलाॅक शुरू होने के बाद लोगों में कोरोना से बचाव के व्यवहार में कमी देखी जा रही है। ऐसा लगता है कि लोगों ने पहली व दूसरी लहर से कोई सबक नहीं लिया। सामान्य तौर पर नई लहर तीन माह के अंतराल पर आती है, लेकिन यह इस पर भी निर्भर करेगा कि लोग बचाव के नियमों का कितना पालन करते हैं और भीड़ को नियंत्रित करने के लिए किस तरह के कदम उठाए जाते हैं। मामले बढ़ने में थोड़ा समय लगेगा, लेकिन तीसरी लहर तीन माह के अंतराल से थोड़ा पहले आ सकती है।

गुलेरिया ने कहा- जब तक टीका नहीं लग जाता, संक्रमण बढ़ने का खतरा बना रहेगा

उन्होंने कहा कि देश की बड़ी आबादी को जल्द टीका लगाना सबसे बड़ी चुनौती है, जब तक टीका नहीं लग जाता, संक्रमण बढ़ने का खतरा बना रहेगा। वायरस में म्युटेशन होने के बाद ही नया स्ट्रेन बाहर से भारत आया और पूरे देश में दूसरी लहर फैल गई। वायरस में अब भी म्यूटेशन हो रहा है। इसलिए नए म्यूटेशन का पता लगाने के लिए अध्ययन करना होगा।

गुलेरिया ने कहा- संक्रमण रोकने का पूरे देश में लाॅकडाउन से बेहतर विकल्प नहीं

उन्होंने कहा कि संक्रमण रोकने का पूरे देश में लाॅकडाउन से बेहतर विकल्प नहीं है। इससे आर्थिक गतिविधियां प्रभावित होती हैं। इसलिए संक्रमण की निगरानी जरूरी है, यदि कहीं संक्रमण बढ़ता है तो कंटेनमेंट जोन में लाॅकडाउन किया जाना चाहिए।

संक्रमण से बचाव के लिए मास्क जरूरी, शारीरिक दूरी के नियम का हो पालन

संक्रमण दर पांच फीसद से अधिक होने पर मिनी लाॅकडाउन होना चाहिए। संक्रमण से बचाव के लिए जरूरी है कि लोग मास्क का इस्तेमाल जरूर करें और शारीरिक दूरी के नियम का पालन करते रहें। 


कल से गुलजार होेंगे मॉल एवं रेस्टोरेंट, इस बार मेन्यू में होंगे यह खास डिश       गेहूं का ऐसा बीज जिसे खाद की जरूरत नहीं, उत्पादन में भी 15 से 35 फीसद तक की बढ़ोतरी       अब बरसात में भी लीजिए वन्य जीव विहार में रुकने का मजा, जान‍िए क्‍या है यूपी वन न‍िगम की तैयारी       CM योगी का एलान, जिले में एक हफ्ते तक नहीं मिला कोरोना संक्रम‍ित तो करेंगे पुरस्कृत       लखनऊ का ठग अब दुबई से चला रहा जालसाजी का नेटवर्क       पश्‍च‍िमी उत्तर प्रदेश में रोहि‍ंग्या के मददगारों के भी मिले सुराग, एटीएस ने तेज की छानबीन       लखनऊ में स्‍कूल का अवैध न‍िर्माण प्रशासन ने ढहाया, अराजकता से परेशान थे कालाकाकर कॉलोनी न‍िवासी       यूपी में एक ही रंग की होंगी शहर के मुख्य मार्गों की इमारतें, सीएम योगी ने प्रस्ताव को दी मंजूरी       पिता के सपने को बनाया अपनी जिंदगी का लक्ष्य, आगरा की बेटी ने थल सेना में अफसर बन दी सच्‍ची श्रद्धांजलि       18 साल बाद प्रेसीडेंशियल ट्रेन से यात्रा करेंगे राष्ट्रपति, जानिए-स्पेशल ट्रेन की खास बातें       गजब, बरेली में एक शख्स को अपने पालतू कुत्ते से इतना प्यार कि उसका ध्यान रखने के लिए छोड़ दी शराब       UP में दो से अधिक बच्चे वालों की सुविधाओं में होगी कटौती, सरकारी योजनाओं के लाभ से किया जा सकता है वंचित       MLC एके शर्मा को लेकर सभी अटकलें समाप्त, यूपी भाजपा के 18 प्रदेश उपाध्यक्ष में शामिल       CM योगी का समीक्षा के बाद निर्देश, सोमवार से विवाह में अधिकतम 50 लोगों को शामिल होने की अनुमति       कुंभ राशि वालों को बिजनेस में सफलता मिलेगी, आर्थिक पक्ष मजबूत होगा       दूसरे से तुलना कर खुद को हीन न समझें, पढ़ें गुलाब के पत्ते की प्रेरक कथा       जानिए आखिर शेर कैसे बना मां दुर्गा की सवारी?       आज है महेश नवमी, जानें पूजा मुहूर्त एवं क्यों यह दिन है माहेश्वरी समाज के लिए महत्वपूर्ण       आज महेश नवमी पर पढ़ें यह व्रत कथा, जानें इसका महत्व       शनिवार को न करें ये काम, शनि देव हो सकते हैं नाराज