12 वर्षीय बच्चे के संपर्क में रहे अब तक 61 लोगों का निपाह टेस्ट आया नेगेटिव: केरल स्वास्थ्य मंत्री

12 वर्षीय बच्चे के संपर्क में रहे अब तक 61 लोगों का निपाह टेस्ट आया नेगेटिव: केरल स्वास्थ्य मंत्री

केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने गुरुवार को कहा कि निपाह के कारण दम तोड़ने वाले 12 वर्षीय बच्चे के निकट संपर्क में आए 61 लोगों के टेस्ट परिणाम अब तक नकारात्मक रहे हैं। एक प्रेस विज्ञप्ति में, मंत्री ने कहा कि संपर्क सूची में 15 और व्यक्तियों के नमूने नकारात्मक आए हैं। अब तक संपर्क में आए कुल 61 लोगों के टेस्ट किोए गए, जो नेगेटिव ही हैं। उन्होंने यह भी कहा कि दिन के दौरान और नमूनों का परीक्षण किया जाएगा और वर्तमान में 64 व्यक्तियों को कोझीकोड मेडिकल कालेज में निगरानी में रखा गया है और उनका स्वास्थ्य स्थिर है। बुधवार के दिन शाम तक नकारात्मक परीक्षण करने वालों की कुल संख्या 46 रही।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने पिछले हफ्ते बताया था कि कोझीकोड जिले में निपाह वायरस के संक्रमण से 12 वर्षीय एक बच्चे की मौत के बाद केंद्र से एक टीम को केरल भेजा गया है। बच्चे के नमूने पुणे नेशनल इंस्टीट्यूट आफ वायरोलाजी को भेजे गए थे, जिसमें निपाह वायरस की उपस्थिति की पुष्टि की गई।


केंद्र द्वारा कुछ तत्काल सार्वजनिक स्वास्थ्य उपायों की सलाह दी गई है। मंत्रालय ने कहा कि इसमें संदिग्ध को आइसोलेशन में रखना और प्रयोगशाला परीक्षण के लिए नमूनों का संग्रह शामिल है। बता दें कि निपाह वायरस चमगादड़ों की लार से फैलता है। केरल के कोझीकोड और मलप्पुरम जिलों में 2018 में भी निपाह वायरस का प्रकोप देखा गया था। दक्षिण भारत में निपाह वायरस रोग (एनआइवी) का प्रकोप केरल के कोझीकोड जिले में 19 मई, 2018 को दर्ज किया गया था। राज्य में एक जून, 2018 तक 17 मौतें और 18 पुष्ट मामले देखे गए थे।


बताया गया कि यह वायरस संक्रमित चमगादड़ों और सूअर के संपर्क में आने से फैलता है। मलेशिया में यह सूअर से फैला था वहीं, सिंगापुर में इसका मामला सामने आने की वजह चमगादड़ थी। भारत और बांग्‍लादेश में भी इसकी यही वजह रही है। निपाह वायरस से संक्रमित व्‍यक्ति को बुखार, सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, गले में खराश होना और उल्‍टी होना, चक्‍कर आना, एटिपिकल निमोनिया होता है।

निपाह से मुकाबला कर सकती है कोविशील्ड जैसी वैक्सीन


हाल ही में अंतरराष्ट्रीय शोधकर्ताओं की टीम ने एक अच्छी जानकारी दी है कि निपाह वायरस में कोविशील्ड जैसी वैक्सीन कारगर हो सकती हैं। विज्ञानियों ने इसका सफल प्रयोग बंदरों पर किया है।


मनोरमा महापात्र के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताया दुख, बोले...

मनोरमा महापात्र के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जताया दुख, बोले...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रख्यात लेखक और पत्रकार मनोरमा महापात्रा के निधन पर दुख व्यक्त किया। साथ ही कहा कि उन्होंने मीडिया में कई योगदान दिए हैं। उन्होंने कई मुद्दों को कवर किया। उन्हें उनके लेखन के लिए याद किया जाएगा।

पीएम ने कहा,' प्रसिद्ध साहित्यकार मनोरमा महापात्र जी के निधन से दुखी हूं। उन्हें कई मुद्दों पर उनके लेखन के लिए याद किया जाएगा। उन्होंने मीडिया में भी समृद्ध योगदान दिया और व्यापक सामुदायिक सेवा की। उनके परिवार और प्रशंसकों के प्रति संवेदना। ओम शांति ।

ओडिया दैनिक 'द समाज' के पूर्व संपादक मनोरमा महापात्रा का कलकत्ता में एससीबी मेडिकल कालेज और अस्पताल में निधन हो गया था। महापात्रा को सीने में दर्द की शिकायत के बाद उनका इलाज चल रहा था। वह 87 वर्ष की थीं। ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने भी उनके निधन पर शोक व्यक्त किया।


पटनायक ने कहा, 'मैं प्रमुख लेखिका और डेली न्यूजपेपर समाज की पूर्व संपादक मनोरमा महापात्रा के निधन के बारे में जानकर दुखी हूं। पत्रकारिता, सामाजिक कार्य, शिक्षा और महिला सशक्तिकरण में उनका योगदान अतुलनीय है।" बता दें कि मनोरमा 1934 में जन्मी थी। वह 1984 में साहित्य अकादमी पुरस्कार भी मिला था।

उधर, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को मिले उपहारों आनलाइन नीलामी चल रही है। इसको लेकर लोगों में जबरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है। पीएम मोदी ने रविवार को नागरिकों को उनके द्वारा प्राप्त उपहारों और स्मृति चिन्हों की ई-नीलामी में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया।


पीएम मोदी ने ट्विटर पर लिखा, 'समय के साथ, मुझे कई उपहार और स्मृति चिन्ह मिले हैं जिनकी नीलामी की जा रही है। इसमें हमारे ओलंपिक नायकों द्वारा दिए गए विशेष स्मृति चिन्ह शामिल हैं। नीलामी में भाग लें। इससे मिलने वाला पैसा नमामि गंगे पहल में जाएगा। पीएम मोदी ने ई-नीलामी के लिए निर्धारित पोर्टल का लिंक भी साझा किया।