आज महेश नवमी पर पढ़ें यह व्रत कथा, जानें इसका महत्व

आज महेश नवमी पर पढ़ें यह व्रत कथा, जानें इसका महत्व

महेश नवमी का पर्व विशेषतौर पर माहेश्वरी समाज मनाता है। मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव के वरदान से माहेश्वरी समाज की उत्पत्ति हुई थी, अतः इस दिन माहेश्वरी समाज धूम-धाम से भगवान शिव और मां पार्वती का पूजन-अर्चन करता है। प्रत्येक वर्ष ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की नवमी तिथि को महेश नवमी के नाम से मनाया जाता है। इस वर्ष यह तिथि आज 19 जून को है। इस दिन विधिपूर्वक पूजन करने के साथ महेश नवमी की कथा का पाठ किया जाता है। आइए जानते है महेश नवमी व्रत की कथा के बारे में।

महेश नवमी की व्रत कथा

बहुत समय पहले खडगलसेन नाम का एक प्रतापी राजा राज करता था, परन्तु उसकी कोई संतान नहीं थी। राजा को पुत्रकामेष्टी यज्ञ से पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई। राजा ने अपने पुत्र का नाम कुंवर सुजान रखा। परन्तु ऋषियों ने 20 वर्ष तक राजा को अपने पुत्र को उत्तर दिशा में न जाने देने को कहा।

राजा का पुत्र एक दिन शिकार खेलते हुए उत्तर दिशा में सूरज कुण्ड की ओर चल पड़ा। सैनिकों के मना करने पर भी नहीं रूका और वहां कुछ ऋषियों को यज्ञ करता देख क्रोधित हो गया। राजकुमार ने ऋषियों को उस उत्तर दिशा में न आने देने की बात पर बुरा भला कहा और सैनिकों से यज्ञ में विघ्न उत्पन्न करवाया, जिससे क्रोधित हो कर ऋषियों ने श्राप दे दिया और राजकुमार समेत सभी सैनिक पत्थर हो गये।

समाचार सुनकर राजा खडगलसेन का निधन हो गया, सभी रानियां विधवा हो गईं। राजकुमार की पत्नी चन्द्रावती सभी सैनिकों की पत्नियों के साथ ऋषियों के पास गईं और क्षमा-याचना की। ऋषियों ने उन्हें उमापति भगवान महेश की पूजा करने को कहा। रानी चन्द्रावती की तपस्या से प्रसन्न हो कर भगवान शिव ने ऋषियों के श्राप को निष्फल कर दिया और उसे अखण्ड सौभाग्यवती होने का वरदान दिया।


बड़े-बुजुर्गों के आशीर्वाद से बन जाते हैं सारे काम, होती है बड़ी शक्ति

बड़े-बुजुर्गों के आशीर्वाद से बन जाते हैं सारे काम, होती है बड़ी शक्ति

अक्सर आप जब भी किसी बड़े काम के लिए निकले तो बड़े-बुजुर्गों का आशीर्वाद लेकर निकलना चाहिए। अगर उनका आशीर्वाद मिल जाता है तो काम सफल हो जाता है। ऐसे में कई लोग इस बात को झूठ मानते हैं और उन्हें लगता है यह सब फ़ालतू काम है।

एक सद्गृहस्थ ऋषि के घर में बालक का जन्म हुआ. उसके ग्रह-नक्षत्रों का अध्ययन कर ऋषि ङ्क्षचतित हो उठे। ग्रह के अनुसार बालक अल्पायु होना चाहिए था। उन्होंने अपने गुरुदेव से उपाय पूछा। उन्होंने कहा, ''यदि बालक वृद्धजनों को प्रणाम कर उनका आशीर्वाद प्राप्त करता रहे तो ग्रह-नक्षत्र बदलने की संभावना हो सकती है। ''एक बार संयोग से उधर सप्त ऋषि आ निकले।

उसने सप्त ऋषियों को हाथ जोड़कर उनका अभिवादन किया। सप्त ऋषियों ने बालक की विनम्रता से गद्गद होकर आशीर्वाद दिया 'आयुष्मान भव'-दीर्घ जीवी हो। सप्त ऋषियों ने उसे आशीर्वाद तो दे दिया पर उसी क्षण वे समझ गए कि यह ऋषि पुत्र तो अल्पायु है परंतु उन्होंने इसे दीर्घजीवी होने का आशीर्वाद दे दिया है।

अब उनका वचन असत्य निकला तो क्या होगा। अचानक ब्रह्मा जी ने उनका संशय दूर करते हुए कहा, ''वृद्धजनों का आशीर्वाद बहुत शक्तिशाली होता है। इस बालक ने असंख्य वृद्धजनों से दीर्घजीवी होने का आशीर्वाद प्राप्त कर अल्पायु होने वाले ग्रहों को बदल डाला है।