आपकी तरक्की में बाधक हैं ये पौधे, घरों में कभी न लगाएं

आपकी तरक्की में बाधक हैं ये पौधे, घरों में कभी न लगाएं

सभी अपने घरों में भी पेड़-पौधे लगाना पसंद करते हैं ताकि घर का माहौल अच्छा रहें। हिंदू धर्म में पेड़-पौधों का विशेष महत्व हैं और इनका पूजन किया जाता हैं। लेकिन आप कौनसा पौधा लगा रहे हैं इसका भी ध्यान करना चाहिए क्योंकि कुछ पौधे ऐसे हैं जो अवनति का कारण बन सकते हैं। कुछ पौधे ऐसे हैं जिनपर श्रापित होने का कलंक हैं और इन्हें घर में लगाने से मां लक्ष्मी रुष्ठ जाती हैं। जानते हैं उन पौधों के बारे में जिन्हें घर में लगाने से बचना चाहिए।

तरक्की में बाधक

*घर में लोग साज सजावट के लिए बौनजाई पौधे लगाते हैं लेकिन इन्हें घर में रखना मतलब घर में नकारात्मकता का वास करवाना है क्योंकि इससे घर के किसी भी सदस्य की तरक्की नहीं होती। जैसे इस पौधों को बढ़ने से पहले ही काट कर बोना कर दिया जाता है वैसे ही यह घर के लोगों की तरक्की भी रोक देता है।

 शुभ होते हुए घर में लगाना अशुभ

*बांस का प्लांट घर में लगाना भले ही शुभ माना जाता है लेकिन यह पेड़ आपके घर के सामने नहीं होना चाहिए। घर में इसे उत्तर दिशा में लगाना शुभ माना जाता है।

पैसा नहीं टिकता

*खजूर खाने में भले ही मीठी स्वादिष्ट हो, लेकिन इसका पेड़ जिनके घरों में होता हैं वह परेशानियों से घिरे रहते हैं। उस घर में पैसा नहीं टिकता और फिजूलखर्ची बढ़ी रहती है।

झगड़ा और विवाद

*धार्मिक दृष्टि से देखा जाए तो घर में कांटेदार पौधा लड़ाई झगड़ा और विवाद लेकर आता है। सदस्यों में अनबन रहती है। अगर आप कांटेदार पौधे लगाते भी हैं तो इन्हें घर के अंदर नहीं बाहर रखें क्योंकि इसका संबंध माता अलक्ष्मी से है।

*कुछ ऐसे पौधे जिनके फूलों व तनों से दूध निकलता है। ऐसे पौधों को घर में लगाने से बचे क्योंकि शास्त्रों व मान्यताओं के अनुसार इन पौधों पर श्रापित अप्सराएं वास करती हैं जो अपने साथ नकारात्मकता लेकर आती हैं ऐसे में ये पौधे घर में लगाने से घर की शांति भंग हो जाती हैं पति-पत्नी की आपस में नहीं बनती बच्चे का पढ़ाई में मन नहीं लगता। दूसरा कारण कुछ दूध वाले पौधे जहरीले होते हैं जो आपकी सेहत के लिए हानिकारक हो सकते हैं। घर में छोटे बच्चे हैं तो उनके लिए भी यह काफी नुकसान देह साबित हो सकता है।

विघ्नकारी पौधा

*घर के बाहर बेर का पौधा है तो इसे तुरंत हटवा लें क्योंकि वास्तुशास्त्र के अनुसार, इस पौधे पर सबसे ज्यादा नाकारत्मकता शक्तियां वास करती हैं। ऐसे पौधा पैसे की किल्लत , काम में विघ्न, सेहत की परेशानी साथ लेकर आता है।

मां लक्ष्मी को नहीं पसंद

*बबूल का पौधा भी कांटेदार हैं भले ही इस पौधे के बहुत सारे आयुर्वेदिक गुण होते हैं लेकिन इसका वास घर में नहीं होना चाहिए। दूसरा इसके कांटे बहुत बड़े होते हैं यह वृक्ष जल्दी फैल जाता है जो घर ना होकर बाहर खुले जगल में ही होना चाहिए। मां लक्ष्मी को सुगंधित फूलों वाले पौधे प्रिय हैं।

बीमारियों की वजह

*घर के सामने या घर में इमली का पौधा नहीं लगा होना चाहिए। माना जाता है कि यह भी घर की तरक्की रोकने व परिवारिक सदस्यों की बीमारियों की वजह बनते हैं।


प्रदोष व्रत एवं भीष्म द्वादशी आज, पढ़ें 24 फरवरी 2021 का पंचांग

प्रदोष व्रत एवं भीष्म द्वादशी आज, पढ़ें 24 फरवरी 2021 का पंचांग

हिन्दू कैलेंडर के अनुसार, आज माघ मास के शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि है। आज 24 फरवरी 2021 और दिन बुधवार है। आज माघ मास के शुक्ल पक्ष का प्रदोष व्रत है। आज के दिन भगवान शिव की विधि विधान से पूजा की जाती है। आज भीष्म द्वादशी भी है। आज के दिन पितामह भीष्म की याद में व्रत रखा जाता है और भगवान श्रीकृष्ण की पूजा की जाती है। कहते हैं कि भीष्म ने माघ शुक्ल अष्टमी को प्राण त्यागे थे लेकिन द्वादशी को उनके सभी अंतिम कार्य किए गए थे, इस​लिए इसे भीष्म द्वादशी कहा गया। इस तिथि को भीष्म निर्वाण दिवस भी मनाया जाता है। आज बुधवार के दिन आपको विघ्नहर्ता श्री गणेश जी की पूजा करनी चाहिए। आज के पंचांग में राहुकाल, शुभ मुहूर्त, दिशाशूल के अलावा सूर्योदय, चंद्रोदय, सूर्यास्त, चंद्रास्त आदि के बारे में भी जानकारी दी जा रही है।

आज का पंचांग

दिन: बुधवार, माघ मास, शुक्ल पक्ष, द्वादशी तिथि।


आज का दिशाशूल: उत्तर।

आज का राहुकाल: दोपहर 12:00 बजे से 01:30 बजे तक।

आज का पर्व एवं त्योहार: प्रदोष व्रत, भीष्म द्वादशी।

विक्रम संवत 2077 शके 1942 उत्तरायन, दक्षिणगोल, शिशिर ऋतु माघ मास शुक्ल पक्ष की द्वादशी 18 घंटे 06 मिनट तक, तत्पश्चात् त्रयोदशी पुनर्वसु नक्षत्र 13 घंटे 17 मिनट तक, तत्श्चात् पुष्य नक्षत्र सौभाग्य योग 27 घंटे 09 मिनट तक, तत्पश्चात् शोभन योग मिथुन में चंद्रमा 07 घंटे 10 मिनट तक तत्पश्चात् कर्क में।


सूर्योदय और सूर्यास्त

आज के दिन सूर्योदय प्रात:काल 06 बजकर 51 मिनट पर हुआ है, वहीं सूर्यास्त शाम को ठीक 06 बजकर 18 मिनट पर होगा।

चंद्रोदय और चंद्रास्त

आज का चंद्रोदय दोपहर 03 बजकर 13 मिनट पर होगा। चंद्र का अस्त अगले दिन 25 फरवरी को प्रात:: 05 बजकर 32 मिनट पर होगा।

आज का शुभ समय

अभिजित मुहूर्त: आज ऐसा कोई मुहूर्त प्राप्त नहीं हो रहा है।


अमृत काल: सुबह 10 बजकर 49 मिनट से दोपहर 12 बजकर 28 मिनट तक।

विजय मुहूर्त: दोपहर 02 बजकर 29 मिनट से दोपहर 03 बजकर 15 मिनट तक।

आज माघ शुक्ल द्वादशी है। आज बुधवार के दिन गणेश जी को दूर्वा अर्पित करें और मोदक का भोग लगाएं। गणेश चालीसा और गणेश मन्त्रों का जाप करने से कल्याण होता है। आज आप कोई नया कार्य करना चाहते हैं तो शुभ मुहूर्त का ध्यान रखें।


मदरसे आतंकियों का ठिकाना, पाकिस्तान पर US का बड़ा दावा       62 कैदियों की मौत, तीन शहरों की जेलों में गैंगवार       भारत से बातचीत पर कही इतनी बड़ी बात, इमरान ने श्रीलंका में भी अलापा कश्मीर राग       ट्रांसजेंडर कंफर्मेशन सर्जरी, दुनिया में पहली बार हुआ ऐसा       राष्ट्रपति बाइडेन ने पलटा ट्रंप का ये फैसला, भारतीयों के लिए बड़ी खुशखबरी!       भाजपा को मिला हमले का बड़ा मौका, राहुल के सेल्फ गोल से मुसीबत में कांग्रेस       सोशल मीडिया पर बड़ी खबर! सरकार ला रही ये नया नियम       टूटा 15 सालों का रिकॉर्ड, राजधानी में लोगों का हाल-बेहाल       बेटा बना IAS अधिकारी, पिता ने घर बेचकर पढ़ाया       भारत को विश्व स्तर के बुनियादी ढांचे की जरूरत : PM मोदी       यहां जानिए किन-किन सेवाओं पर पड़ेगा असर, देश भर में कल भारत बंद       करोड़पति हुआ मजदूर, खुदाई में मिली ऐसी बेशकीमती चीज       LoC पर बड़ी खबर: भारत-पकिस्तान के बीच हुई ये बात       बरामद 40 करोड़ की ड्रग्स: NCB की ताबड़तोड़ कार्रवाई जारी, तस्करों में मची खलबली       खत्म Board Exam की टेंशन: सरकार का बड़ा फैसला, अब पास होंगे सभी छात्र       भीष्म द्वादशी, जानें शुभ मुहूर्त और महत्व       प्रदोष व्रत एवं भीष्म द्वादशी आज, पढ़ें 24 फरवरी 2021 का पंचांग       कब है माघ पूर्णिमा? जानें तिथि, मुहूर्त एवं महत्व       आज है प्रदोष व्रत, जानें कब है माघ पूर्णिमा       कई रोगों से रहते हैं घिरे, ब्रह्म मुहूर्त में गलती से भी न करें ये काम