अफगानिस्तान की मस्जिद में चल रही थी नमाज़, आकस्मित हुआ ब्लास्ट और बिछ गई लाशें

अफगानिस्तान की मस्जिद में चल रही थी नमाज़, आकस्मित हुआ ब्लास्ट और बिछ गई लाशें

काबुल: अफगानिस्तान में तालिबान राज प्रारम्भ होने के बाद भी देश को बम विस्फोटों से छुटकारा नहीं मिला है. तानाशाही और अस्थिरता के साथ ही बम ब्लास्ट अफगानिस्तान का नसीब बन गया है. आलम ये है कि वहाँ से आए दिन धमाकों की खबरें आ रही हैं. इसी कड़ी में शुक्रवार (12 नवंबर 2021) को नंगरहार प्रांत के स्पिनघर जिला स्थित एक मस्जिद में जुमे की नमाज के दौरान विस्फोट हुआ, जिसमें कम-से-कम तीन लोगों की जान चली गई है. इस ब्लास्ट में कई अन्य लोगों के जख्मी होने की भी समाचार है.

रिपोर्ट के अनुसार, इस धमाके में नमाज पढ़ा रहे मस्जिद के मौलवी समेत एक दर्जन लोग बुरी तरह से जख्मी हो गए हैं. तालिबान के एक ऑफिसर ने मीडिया से वार्ता करते हुए बम ब्लास्ट की पुष्टि की है. ऑफिसर ने बोला कि, 'मैं स्पिनघर जिले में एक मस्जिद के भीतर जुमे की नमाज के दौरान हुए धमाके की पुष्टि करता हूँ. इसमें मृत्यु भी हुई है और लोग जख्मी भी हुए हैं.' नंगरहार प्रांत के सरकारी प्रतिनिधि कारी हनीफ ने मीडिया को बताया कि ऐसा लगता है कि बम मस्जिद में रखा गया था.

वहीं, इलाके के निवासी अटल शिनवारी ने मीडिया को बताया कि ब्लास्ट लोकल समयानुसार दोपहर करीब 1:30 बजे (09:00 GMT) हुआ था. लोकल हॉस्पिटल के एक डॉक्टर ने मीडिया को बताया कि इस ब्लास्ट में कम-से-कम तीन लोग मारे गए हैं, जबकि 15 लोग जख्मी हुए हैं. अभी तक इस ब्लास्ट की जिम्मेवारी किसी ने नहीं ली है, लेकिन इस्लामिक स्टेट (IS) पर संदेह जताया जा रहा है.


पाकिस्तान: नवाज की वापसी पर गृह मंत्री शेख रशीद का बड़ा बयान, कहा- 'बेमतलब की बातें'

पाकिस्तान: नवाज की वापसी पर गृह मंत्री शेख रशीद का बड़ा बयान, कहा- 'बेमतलब की बातें'

पूर्व पीएम नवाज शरीफ की संभावित वापसी की अफवाहों के बीच, पाक के गृह मंत्री शेख रशीद अहमद ने बुधवार को बोला कि शरीफ के लौटने की बातें बेमतलब की हैं जो विपक्ष मीडिया का ध्यान आकर्षित करने के लिए कर रहा है.

एक न्यायालय ने शरीफ को करप्शन के मुद्दे में कारागार की सजा सुनाई थी जिसके बाद लाहौर हाई कोर्ट ने 2019 में उन्हें चिकित्सकीय आधार पर चार हफ्ते के लिए लंदन जाने की इजाजत दी थी.

हालांकि, लंदन जाने के बाद से शरीफ पाक नहीं लौटे हैं. उनकी पार्टी का बोलना है कि डॉक्टरों की सलाह पर 71 वर्षीय शरीफ देश वापस लौटेंगे. गृह मंत्री ने कहा, 'शरीफ के वापस आने को बेवजह तूल दिया जा रहा है.' रावलपिंडी में रशीद ने मीडिया से व्यंग्यात्मक लहजे में बोला कि शरीफ के लिए पाक लौटने का एक तरफ का टिकट देने का उनका प्रस्ताव आज भी है. उन्होंने यह भी बोला कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि जिन लोगों ने अपनी ज्यादातर जीवन पाक में गुजारी वह देश को प्यार करने की बजाय उसे छोड़कर चले गए

सेना के साथ 'बेहतर' हुआ शरीफ का तालमेल पाकिस्तान में अगले आम चुनाव से पहले पीएमएल-एन सुप्रीमो और पूर्व पीएम नवाज शरीफ की संभावित वापसी की अफवाहों को लेकर तीखी बहस छिड़ गई है. पीएमएल-एन के अध्यक्ष शहबाज शरीफ, जो पूर्व पीएम के भाई भी हैं, उन्होंने साफ तौर पर बोला कि नवाज शरीफ पूरी तरह से ठीक होने तक वापस नहीं आएंगे. नवाज शरीफ की वापसी की अटकलें ऐसे समय पर लगाई जा रही हैं जब बोला जा रहा है कि सेना के साथ उनका तालमेल फिर से ठीक हो गया है.


'नवाज शरीफ से हार गई नकली सरकार'शनिवार को जारी एक बयान में, शहबाज शरीफ ने बोला कि नवाज शरीफ ब्रिटेन में कानूनी रूप से तब तक रह सकते हैं जब तक कि ब्रिटिश गृह ऑफिस द्वारा वीजा बढ़ाने की अस्वीकृति के विरूद्ध उनकी अपील पर आव्रजन न्यायाधिकरण नियम नहीं बनाते. इस बीच, पीएमएल-एन की उपाध्यक्ष मरियम नवाज ने एक ट्वीट में बोला , 'इस नकली सरकार ने नवाज शरीफ से अपनी हार स्वीकार कर ली है, जो पाक का वर्तमान और भविष्य है. एक बड़े व्यक्तित्व को निशाना बनाकर, एक पिग्मी का कद ऊंचा नहीं किया जा सकता है.'