अमेरिका के विरूद्ध कानूनी लड़ाई की तैयारी में TikTok

अमेरिका के विरूद्ध कानूनी लड़ाई की तैयारी में TikTok

वाशिंगटन: मैसेजिंग एप वी चैट (WeChat) व वीडियो शेयिरिंग एप (TikTok) के विरूद्ध हुई कार्रवाई को लेकर बीजिंग परेशान है। चाइना ने अमेरिका पर दमनात्मक कार्रवाई करने का आरोप लगाया है। इसी दौरान टिकटॉक की ओर से शुक्रवार को धमकी दी गई है कि कंपनी ट्रंप के उस कार्यकारी आदेश को अमेरिकी न्यायालय में कानूनी चुनौती देगी जिसमें स्पष्ट रूप से लिखा है कि चीनी ऐप टिकटॉक अगले 45 दिनों तक 
प्रतिबंधित रहेगा व इसके संचालन की अनुमति अमेरिकी कानून के आधार पर ही मिलेगी।

चीन (China ) सरकार के मुताबिक ट्रंप प्रशासन अपने मनमाने रवैये से सियासी हथकंडों का प्रयोग उसकी कानूनन वैध गतिविधियों का दमन करने के लिए कर रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति की ओर से आए
वर्तमान आदेश के फौरन बाद आई चीनी रिएक्शन में खुद को बचाने के लिए कानूनी रास्तों का सहारा लेने की बात कही गई है।  

वहीं अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने बोला था कि TikTok सभी यूजर्स की जानकारियां एक ऑटोमेटिक सिस्टम के जरिए हासिल करता है जिसमें लोकेशन से लेकर ब्राउसिंग के साथ सर्च हिस्ट्री की भी जानकारी शामिल होती है।
इससे पहले ट्रंप ने टिकटॉक को 15 सितंबर की मोहलत दी थी, ताकि वो अमेरिकी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट के साथ अपनी सेल डीड का कार्य पूरा कर सके।

यूके (UK) के फाइनेंशियल टाइम्स ( Financial Times) ने गुरुवार को एक रिपोर्ट प्रकाशित की थी जिसमें माइक्रोसॉफ्ट को इस वीडियो शेयरिंग कंपनी के खरीदने का इच्छुक बताया गया था।   इससे पहले अमेरिका के सरकारी कर्मचारियों को TikTok का प्रयोग करने से रोकने के लिए सीनेट में वोटिंग हुई थी। व अब इसी बिल को अनुमोदन के लिए सदन प्रतिनिधि सभा ( House of Representatives) भेजा जाएगा।