शक्तिशाली भूकंप के झटकों से दक्षिण पश्चिम मेक्सिको दहला, एक की मौत

शक्तिशाली भूकंप के झटकों से दक्षिण पश्चिम मेक्सिको दहला, एक की मौत

दक्षिण-पश्चिमी मेक्सिको में मंगलवार को अकापुल्को के समुद्र तट रिसॉर्ट के पास एक शक्तिशाली भूकंप आया, जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई। बात दें कि भूकंप की तीव्रता 7.0 नापी गई है। भूकंप का झटका इतना तेज था कि, ऊंची इमारतें देखते ही देखते मलबों का ढेर बन गई। भूकंप के झटके का ऐहसास होते ही लोगों में अफरा-तफरी मच गई। झटके के बीच कई लोग मैक्सिकन हॉलिडे डेस्टिनेशन की सड़कों पर जमा हो गए।

7.0 तीव्रता का भूकंप, जो अकापुल्को से 11 मील (17.7 किमी) उत्तर पूर्व में आया, ने शहर के चारों ओर की पहाड़ियों को हिला दिया। भूकंप इतना तीव्र था कि जगह जगह पर पेड़ गिर गए और सड़कों पर बड़े-बड़े पत्थर फैल गए, जिससे कई राज्यों में बिजली गुल हो गई।

भूकंप की भयानक झटके में एक व्यक्ति की मौत हो गई। ग्युरेरो राज्य के गवर्नर हेक्टर एस्टुडिलो ने स्थानीय टेलीविजन को बताया कि अकापुल्को के पश्चिम में एक छोटे से शहर कोयुका डी बेनिटेज़ में एक गिरती चौकी से एक व्यक्ति की मौत हो गई।


भूकंप की आपबीती बताते हुए जेसिका एरियस ने कहा, जो मेक्सिको सिटी, राजधानी से आने वाले आठ लोगों के समूह का हिस्सा थी। उन्होंने कहा कि 'हम केवल होटल में जाँच कर रहे थे, इसलिए हमारे पास हमारी सारी चीज़ें मौजूद हैं।' उन्होंने बताया कि भूकंप इतना तीव्र था कि, अभी भी होटल में प्रवेश करना सुरक्षित नहीं है। वहीं अन्य लोगों ने कहा कि जब भूकंप आया तो वे रात का खाना खा रहे थे, या सिनेमा हॉल में थे।


एंड्रिया डेल वैले जो एक सिनेमाघर से बाहर निकलने के बाद अपने साथी के साथ फुटपाथ पर बैठी थी, ने कहा कि 'हम सदमे में थे, भूकंप का कोई अलार्म नहीं था, इसलिए हमने इसे महसूस किया जब यह पहले से ही हो रहा था।'

तेज भूकंप के झटके के कारण भारी नुकसान हुआ है। अधिकारियों ने एक कैफे में गैस रिसाव के साथ-साथ एक होटल और एक सार्वजनिक अस्पताल को नुकसान पहुंचाने की सूचना दी है। वहीं राहत की खबर देते हुए राष्ट्रपति एंड्रेस मैनुअल लोपेज ओब्रेडोर ने कहा कि भूकंप से ग्युरेरो, पड़ोसी क्षेत्र ओक्साका, मैक्सिको सिटी या किसी अन्य क्षेत्र में कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ है। 


प्रधानमंत्री मोदी की ढाका यात्रा के दौरान हिंसा भड़काने वाला आतंकी गिरफ्तार

प्रधानमंत्री मोदी की ढाका यात्रा के दौरान हिंसा भड़काने वाला आतंकी गिरफ्तार

ढाका मेट्रोपोलिटन पुलिस की खुफिया शाखा ने आतंकी संगठन हिफाजत-ए-इस्लाम (Hefazat-e-Islam) से जुड़े रिजवान रफीक (Rezwan Rafiquee)  को गिरफ्तार किया है। उस पर मार्च में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की बांग्लादेश यात्रा के दौरान ढाका में हिंसा भड़काने का आरोप है।

खुफिया शाखा के अतिरिक्त आयुक्त एकेएम हाफिज अख्तर (A.K.M. Hafiz Akhter)  ने बताया कि रफीक को शुक्रवार की रात मुग्दा (Mugda) इलाके से गिरफ्तार किया गया है। ढाका में 26 मार्च को हुई हिंसा के सिलसिले में उसके खिलाफ पलटन थाने (Paltan Police Station) में मुकदमा दर्ज किया गया था। वह पीएम मोदी के बांग्लादेश दौरे का विरोध कर रहा था। अख्तर ने बताया कि रिजवान ने फेसबुक व अन्य सोशल मीडिया प्लेटफार्म पर  भड़काऊ पोस्ट साझा की थी और दूसरे इंटरनेट मीडिया प्लेटफार्म पर भी उसने आतंकी संगठनों के शीर्ष सरगनाओं का समर्थन किया था।


इसी साल मार्च में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांग्लादेश का दो दिवसीय दौरा किया। कोरोना काल शुरू होने के बाद यह उनकी पहली विदेश यात्रा रही। अपनी इस यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री बांग्लादेश की आजादी की 50वीं सालगिरह के जश्न में भी शामिल हुए। इस अवसर पर ढाका में आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने भारत-बांग्लादेश संबंधों, दोनों देशों की साझी विरासतों और साझा लक्ष्यों पर विस्तार से बात की। प्रधानमंत्री मोदी ने बांग्लादेश की आजादी में भारत की भूमिका, भारतीय सैनिकों के बलिदान और तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की भूमिका का भी उल्लेख किया।


इसके अलावा प्रधानमंत्री ने मुक्ति संग्राम के दौरान पाकिस्तानी सेना के अत्याचारों और नरसंहार का जिक्र कर कहा कि उन अत्याचारों और दमन की दुनिया में उतनी चर्चा नहीं होती, जितनी होनी चाहिए। दोनों देशों के मजबूत संबंधों का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि भारत और बांग्लादेश दोनों ही लोकतांत्रिक देश हैं और हमारी विरासत भी साझी है, हमारा विकास भी साझा है, हमारे लक्ष्य भी साझे हैं और हमारी चुनौतियां भी साझा हैं। व्यापार और उद्योग में हमारे सामने एक जैसी संभावनाएं हैं तो आतंकवाद जैसे समान खतरे भी हैं।