पीएम मोदी की यूएई की यात्रा स्थगित, जानिए क्या है वजह?

पीएम मोदी की यूएई की यात्रा स्थगित, जानिए क्या है वजह?

अगले महीने पीएम नरेंद्र मोदी की संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) की प्रस्तावित यात्रा स्थगित कर दी गई है. घटनाक्रम से जुड़े लोगों ने बुधवार को यह जानकारी दी. उन्होंने बताया कि पीएम का छह जनवरी के आसपास रणनीतिक रूप से जरूरी खाड़ी देश की यात्रा का प्रोग्राम था.

मुद्दे के जानकार लोगों ने बोला कि Covid-19 के ओमीक्रोन स्वरूप के बढ़ते मामलों के मद्देनजर यात्रा स्थगित की गई है और अब यह फरवरी में हो सकती है.

भारत और यूएई दोनों स्थान ओमीक्रोन के मुद्दे बढ़ते देखे जा रहे हैं. दोनों देश अगले साल अपने कूटनीतिक संबंधों के 50 वर्ष पूरे करने जा रहे हैं और इसी पृष्ठभूमि में यात्रा प्रस्तावित थी. दुनिया एक बार फिर कोविड-19 वायरस की चपेट में आती दिख रही है. नया वेरिएंट हर देश में तेजी से अपने पैर पसार रहा है. लिहाजा सभी देश सतर्कतापूर्ण कदम उठा रहे हैं. इसी क्रम में दुबई इंटरनेशनल एयरपोर्ट अब कुछ उड़ानों में आने वाले यात्रियों का रैन्डम पीसीआर टेस्ट करेगा.

भारतीय यात्रियों की टेस्टिंग अनिवार्यनए आदेश के मुताबिक ब्राजील, भारत, बांग्लादेश, रूस और पाक जैसे कुछ राष्ट्रों से आने वाले यात्रियों को जरूरी टेस्टिंग से गुजरना होगा. हालांकि दुबई मीडिया कार्यालय के प्रतिनिधि ने पुष्टि की है कि स्क्रीनिंग लिस्ट में न होने वाली फ्लाइट से आने वाली यात्रियों की भी अलावा टेस्टिंग की जा रही है. इसके अतिरिक्त ब्रिटेन से आने वाले यात्रियों ने भी पुष्टि की है कि आगमन पर दुबई एयरपोर्ट पर उनकी टेस्टिंग की गई. लेकिन ब्रिटेन उन राष्ट्रों की सूची में शामिल नहीं है जिनमें पीसीआर टेस्टिंग जरूरी है.

किया जा सकता है रैन्डम पीसीआर टेस्टदुबई मीडिया ने खलीज टाइम्स को दिए गए एक बयान में बोला कि एमिरेट्स वेबसाइट पर दर्ज उड़ानों के लिए पीसीआर टेस्ट जरूरी है. बयान के मुताबिक अलावा सावधानी ी तरीकों के अनुसार दुबई एयरपोर्ट कुछ उड़ानों के अराइवल पर रैन्डम टेस्ट कर सकता है. ब्रिटेन से दुबई आने वाले सभी यात्रियों के पास एक निगेटिव Covid-19 पीसीआर टेस्ट रिपोर्ट होना जरूरी है, जो उड़ान से अधिकतम 72 घंटे पहले प्राप्त की गई हो.


पाकिस्तान: नवाज की वापसी पर गृह मंत्री शेख रशीद का बड़ा बयान, कहा- 'बेमतलब की बातें'

पाकिस्तान: नवाज की वापसी पर गृह मंत्री शेख रशीद का बड़ा बयान, कहा- 'बेमतलब की बातें'

पूर्व पीएम नवाज शरीफ की संभावित वापसी की अफवाहों के बीच, पाक के गृह मंत्री शेख रशीद अहमद ने बुधवार को बोला कि शरीफ के लौटने की बातें बेमतलब की हैं जो विपक्ष मीडिया का ध्यान आकर्षित करने के लिए कर रहा है.

एक न्यायालय ने शरीफ को करप्शन के मुद्दे में कारागार की सजा सुनाई थी जिसके बाद लाहौर हाई कोर्ट ने 2019 में उन्हें चिकित्सकीय आधार पर चार हफ्ते के लिए लंदन जाने की इजाजत दी थी.

हालांकि, लंदन जाने के बाद से शरीफ पाक नहीं लौटे हैं. उनकी पार्टी का बोलना है कि डॉक्टरों की सलाह पर 71 वर्षीय शरीफ देश वापस लौटेंगे. गृह मंत्री ने कहा, 'शरीफ के वापस आने को बेवजह तूल दिया जा रहा है.' रावलपिंडी में रशीद ने मीडिया से व्यंग्यात्मक लहजे में बोला कि शरीफ के लिए पाक लौटने का एक तरफ का टिकट देने का उनका प्रस्ताव आज भी है. उन्होंने यह भी बोला कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि जिन लोगों ने अपनी ज्यादातर जीवन पाक में गुजारी वह देश को प्यार करने की बजाय उसे छोड़कर चले गए

सेना के साथ 'बेहतर' हुआ शरीफ का तालमेल पाकिस्तान में अगले आम चुनाव से पहले पीएमएल-एन सुप्रीमो और पूर्व पीएम नवाज शरीफ की संभावित वापसी की अफवाहों को लेकर तीखी बहस छिड़ गई है. पीएमएल-एन के अध्यक्ष शहबाज शरीफ, जो पूर्व पीएम के भाई भी हैं, उन्होंने साफ तौर पर बोला कि नवाज शरीफ पूरी तरह से ठीक होने तक वापस नहीं आएंगे. नवाज शरीफ की वापसी की अटकलें ऐसे समय पर लगाई जा रही हैं जब बोला जा रहा है कि सेना के साथ उनका तालमेल फिर से ठीक हो गया है.


'नवाज शरीफ से हार गई नकली सरकार'शनिवार को जारी एक बयान में, शहबाज शरीफ ने बोला कि नवाज शरीफ ब्रिटेन में कानूनी रूप से तब तक रह सकते हैं जब तक कि ब्रिटिश गृह ऑफिस द्वारा वीजा बढ़ाने की अस्वीकृति के विरूद्ध उनकी अपील पर आव्रजन न्यायाधिकरण नियम नहीं बनाते. इस बीच, पीएमएल-एन की उपाध्यक्ष मरियम नवाज ने एक ट्वीट में बोला , 'इस नकली सरकार ने नवाज शरीफ से अपनी हार स्वीकार कर ली है, जो पाक का वर्तमान और भविष्य है. एक बड़े व्यक्तित्व को निशाना बनाकर, एक पिग्मी का कद ऊंचा नहीं किया जा सकता है.'