जिद्द पर अड़े ट्रंप, सत्ता छोड़ने के लिए रखी ये शर्त

जिद्द पर अड़े ट्रंप, सत्ता छोड़ने के लिए रखी ये शर्त

अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव से शुरू हुई रार अभी थमती नजर नहीं आ रही है। अबतक हार स्वीकार करने से लगातार इनकार कर रहे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अब कहा है कि वह व्हाइट हाउस छोड़ देंगे अगर इलेक्टोरल कॉलेज जो बाइडन के अगला राष्ट्रपति बनने की पुष्टि कर देगा।

इलेक्टोरल कॉलेज के वोट पर टिका फैसला
गुरुवार यानी कल ट्रंप से पूछा गया था कि अगर 14 दिसंबर के इलेक्टोरल कॉलेज के वोट में वो हारते हैं तो क्या व्हाइट हाउस छोड़ने पर राज़ी हो जाएंगे। इसपर ट्रंप ने कहा है कि निश्चित रूप से मैं करूंगा और आप ये जानते हैं। हालांकि उन्होंने इलेक्टोरल कॉलेज पर सवाल उठाते हुए कहा कि अगर वो ऐसा करते हैं (यानी जो बाइडन का चुनाव), तो वो ग़लती करेंगे।

 ट्रंप की बातचीत से लगता है कि वो अभी तक अड़ियल रुख पर कायम हैं। उन्होंने कहा ये चीज़ (यानी हार) स्वीकार करना बहुत मुश्किल होगा। ट्रंप के पास हालांकि कोई सबूत नहीं है लेकिन फिर भी वह जोरदारी से चुनाव के दौरान “बड़ी धांधली” होने के दावों को दोहरा रहे हैं।

 ऐसे होता है इलेक्टोरल चुनाव
अमेरिकी चुनाव प्रणाली में मतदाता राष्ट्रपति का चुनाव सीधे नहीं करते हैं। वह अमेरिकी राज्यों की आबादी के आधार पर कुल 538 उम्मीदवारों के लिए मतदान करते हैं। इन उम्मीदवारों की संख्या हर राज्य से अलग-अलग होती है। ये इलेक्टोरल तक़रीबन हमेशा उस उम्मीदवार को वोट देते हैं जिसने उनके राज्यों के ज़्यादातर वोट जीते होते हैं। संभावना ये भी है कि इनमें से कुछ मतदाताओं के चुनाव की अनदेखी करें लेकिन अब तक का इतिहास यही बताता है कि नतीजों में उलटफेर नहीं हुआ है।

अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में जो बाइडन को अब तक 306 जबकि ट्रंप को उनसे कम काफी कम 232 वोट मिले हैं। जीत के लिए 270 मतों की ज़रूरत होती है। बाइडन इसे हासिल कर चुके हैं। अगर कुल मतों के हिसाब से देखें तो बाइडन ट्रंप से 60 लाख मतों से आगे हैं।

इलेक्टोरल कॉलेज मतों पर आख़िरी फ़ैसला करने के लिए अगले महीने बैठक करेगा। यह बैठक 14 दिसंबर को होनी है जिसमें अमेरिकी इलेक्टोरल कॉलेज बाइडन की जीत की पुष्टि कर देगा। इसके बाद बाइडन 20 जनवरी को राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे।

ट्रंप और उनके समर्थक नतीजों को नकारते हुए कई मुकदमे दर्ज करा चुके हैं लेकिन उनको कामयाबी हासिल नहीं हुई है। अनिश्चितता के कई हफ्तों के बाद अब ट्रंप ने अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन की टीम को औपचारिक रूप से सत्ता हस्तांतरण की प्रक्रिया शुरू करने की अनुमति देने पर सहमति जताई है।

बाइडन 20 जनवरी को राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे
इसका मतलब है कि 20 जनवरी को शपथ ग्रहण करने जा रहे बाइडन अब शीर्ष स्तर पर सुरक्षा अधिकारियों से जानकारी ले सकेंगे और प्रमुख सरकारी अधिकारियों और लाखों डॉलर के फंड के मामले में भी उनकी पहुंच हो जाएगी।


भारत-नेपाल हुए एक, वैक्सीन लाई करीब

भारत-नेपाल हुए एक, वैक्सीन लाई करीब

नई दिल्ली. भारत में वैक्सीनेशन शुरू होने के साथ ही केंद्र की मोदी सरकार ने नेपाल में कोरोना की वैक्सीन सप्लाई करने वाली है। माना जा रहा है कि अगले हफ्ते तक भारत नेपाल को वैक्सीन मुहैया कराना शुरू कर सकता है। बता दें कि हाल ही नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप ज्ञ्याली भारत के दौरे पर थे, इस दौरान विदेश मंत्री सुब्रह्मण्यम जयशंकर से उनकी द्विपक्षीय बातचीत हुई थी और वैक्सीन की मांग की थी, जिसपर सरकार ने नेपाल को वैक्सीन देने का वादा किया था।

मोदी सरकार नेपाल को करेगी वैक्सीन की सप्लाई
भारत और नेपाल के बीच सीमा तनाव और नए मैप को लेकर जारी विवाद के बीच कोरोना संकट से निपटने की पहल पर दोनों देश एक साथ आये है। हाल में नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप ज्ञ्याली नई दिल्ली आये थे। इस दौरान भारत के प्रतिनिधि संग उनकी द्विपक्षीय वार्ता हुई। इस दौरान भले ही भारत में कोरोना वैक्सीनेशन के बड़े अभियान के चलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नेपाली विदेश मंत्री संग मुलाक़ात नहीं हो सकी लेकिन उनके इस दौरे को काफी अहम माना गया।

नेपाली विदेश मंत्री प्रदीप ज्ञ्याली भारत दौरे पर
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने नई दिल्ली में ज्ञ्याली की अगवानी की। वहीं सूत्रों के मुताबिक, भारत सरकार ने नेपाल की आपातकालीन जरूरतों को देखते हुए कोरोना की वैक्सीन सप्लाई करने का वादा किया है।दोनो देशों के प्रतिनिधियों की द्विपक्षीय वार्ता के दौरान टीकाकरण कार्यक्रम की ट्रेनिंग और मॉड्यूल को लेकर चर्चा हुई।

भारत-नेपाल द्विपक्षीय वार्ता में वैक्सीन पर चर्चा
वैसे इसके अलावा मोदी सरकार देश के अन्य पड़ोसी देशों जैसे भूटान, बांग्लादेश, म्यांमार, मालदीव को भी कोरोना वायरस वैक्सीन सप्लाई करेगा। बताया जा रहा है कि वैक्सीन की सप्लाई के बाद नेपाल के फ्रंटलाइन वर्करों को प्राथमिकता के आधार पर टीका लगाया जाएगा।

नेपाल में कोरोना वायरस संक्रमण के अबतक 2 लाख 67 हजार से ज्यादा मामले सामने आए हैं, जबकि महामारी में 1 हजार 954 लोगों की मौत हो चुकी है।


Big Boss 14: एजाज की रुबीना-अर्शी से जमकर हुई लड़ाई       भानुप्रिया ने साउथ के साथ ही हिंदी फिल्मों पर भी किया राज       शाहिद का नाम लेकर चिढ़ा रहे थे रणबीर, इस एक्ट्रेस ने ऐसे कर दी बोलती बंद       बाॅलीवुड एक्टर सोनू सूद बने ट्रेलर, फ्री में सिल रहे कपड़े       देवदास ने दिलाई सुचित्रा को हिंदी सिनेमा में पहचान       भीम सेना पर भड़की ये एक्ट्रेस, जीभ काटने के ऐलान पर दिया ये जवाब       ‘तांडव’ वेब सीरीज पर हंगामे को लेकर साक्षी महराज बोले...       फैंस हो जाएं अलर्टः बॉलीवुड में बढ़ी हैकिंग क्राइम, अब इस एक्ट्रेस का इंस्टाग्राम अकाउंट हैक       ‘तांडव’ पर मचा घमासान: बीजेपी करेगी विरोध प्रदर्शन, नेता बोले...       सौमित्र चटर्जी का फिल्मों तक सफर, इस नाटक से आया टर्निंग पाइंट       इस बड़ी एक्ट्रेस के खिलाफ पूर्व राज्यपाल ने दर्ज कराई FIR       सीएम योगी, कैबिनेट मंत्री सुरेश राणा के पिता को दी श्रद्धांजलि       यूपी में बची इतनी वैक्सीन, 22 जनवरी को फिर टीकाकरण       वैक्सीन से मौत! टीका लगवाने के 24 घंटे बाद तोड़ा दम, UP में हड़कंप       लखनऊ में कोरोना हारा, 6 महीने में सिर्फ इतने संक्रमित       लखनऊ में रेल हादसा, पटरी से उतरे ट्रेन के डिब्बे       यूपी कैबिनेट विस्तार, 26 जनवरी के बाद कई मंत्रियों की छुट्टी       पाकिस्तान में मोदी-मोदी, अलग सिंधु देश की उठी मांग       भारत-नेपाल हुए एक, वैक्सीन लाई करीब       मुल्ला ने जारी किए आदेश, जबकि खुद की है दो बेगम