Covid-19 के लिए चाइना ने India को ठहराया जिम्मेदार

Covid-19 के लिए चाइना ने India को ठहराया जिम्मेदार

नयी दिल्ली: कोविड-19 वायरस ( Covid-19 ) को पूरे विश्व में फैलाने के लिए चाइना (China) को उत्तरदायी माना जाता है, लेकिन चाइना लगातार बिना कोई सबूत दिए इसके लिए इटली और अमेरिका समेत कई राष्ट्रों को दोषी ठहरा चुका है अब चीनी वैज्ञानिकों (Chinese scientists) ने Covid-19 (Covid-19) की आरंभ के लिए हिंदुस्तान को उत्तरदायी बताया है

भारत में जानवरों से इंसानों में जाने का दावा
चाइनीज एकेडमी ऑफ साइंसेज (Chinese Academy of Sciences) के शोधकर्ताओं की एक टीम ने दावा किया कि Covid-19 (COVID-19) वायरस पिछले वर्ष गर्मियों में हिंदुस्तान में पैदा हुआ था यह वायरस पहले जानवरों में फैला और फिर दूषित पानी से इंसानों में चला गया यहीं से कोविड-19 वायरस ( Covid-19 ) चाइना के वुहान (Wuhan) पहुंचा था, जहां वायरस के बारे में पहली बार पता चला था

ग्लासगो यूनिवर्सिटी ने दावों को किया खारिज
चाइना के इस दावे को ब्रिटेन के ग्लासगो यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर डेविड राबर्ट्सन ने सिरे से नकार दिया है साथ ही चीनी शोधकर्ताओं द्वारा प्रस्तावित सिद्धांत को 'बहुत त्रुटिपूर्ण' बताया है उन्होंने बोला है कि चाइना के दावों में कोई दम नहीं है और इसमें Covid-19 से जुड़ी कोई भी नयी बात पता नहीं चलती है

डीएनए में हर बार होते हैं छोटे परिवर्तन
चीनी टीम ने Covid-19 (Covid-19) की उत्पत्ति का पता लगाने के लिए फाइलोजेनेटिक विश्लेषण का उपयोग किया है डेलीमेल की रिपोर्ट के अनुसार, सभी कोशिकाओं की तरह वायरस, प्रजनन करते समय उत्परिवर्तित होते हैं, जिसका अर्थ है कि उनके डीएनए में हर बार छोटे बदलाव होते हैं

चीनी वैज्ञानिकों ने दिया अजीब तर्क
चीनी शोधकर्ताओं ने अपनी स्टडी में अजीब तर्क दिया है उनका बोलना है कि हिंदुस्तान और बांग्लादेश दोनों स्थान कोविड-19 वायरस ( Covid-19 ) के स्वरूप में कम यानी हल्की परिवर्तन हुआ और दोनों देश भौगोलिक रूप से भी एक दूसरे के नजदीकी हैं, इसलिए संभव है कि कोविड-19 का पहला संक्रमण का केस वहीं सामने आया हो

चीन पहले इन राष्ट्रों पर लगा चुका है आरोप
यह पहली बार नहीं है कि चाइना ने कोविड-19 वायरस ( Covid-19 ) की उत्पत्ति को लेकर बिना सबूत दिए इटली और अमेरिका पर भी आरोप लगा चुका है अब हिंदुस्तान और चाइना के बीच पूर्वी लद्दाख में एलएसी (LAC) पर चल रहे सीमा विवादके बीच हिंदुस्तान पर कोविड-19 वायरस की उत्पत्ति के लिए उत्तरदायी ठहराया है

वुहान से आया था कोविड-19 वायरस
इससे पहले कई वैज्ञनिकों ने दावा किया था कि कोविड-19 वायरस चाइना के शहर वुहान (Wuhan) से आया था हालांकि वैज्ञानिकों ने बोला था कि कोविड-19 के उत्पत्ति स्थल यानि ओरिजन प्वाइंट को लेकर बांग्लादेश, अमेरिका, ग्रीस, ऑस्ट्रेलिया, भारत, इटली, चेक रिपबल्कि, रूस या सर्बिया जैसे आठ राष्ट्रों को भी अपने स्तर पर पड़ताल करनी चाहिए


राष्ट्रपति पद छोड़ने से पहले समर्थकों का भला करना नहीं भूले ट्रंप

राष्ट्रपति पद छोड़ने से पहले समर्थकों का भला करना नहीं भूले ट्रंप

वाशिंगटन: जो बाइडेन ने बुधवार को अमेरिका के 46वें राष्ट्रपति के तौर पर शपथ ग्रहण किया। इसी के साथ अमेरिका में आज से बाइडेन युग की शुरुआत हो गई है।

जो बाइडेन के अलावा कमला हैरिस भी उपराष्ट्रपति पद की शपथ ले चुकी हैं। वो इस पद पर काबिज होने वाली अमेरिका की पहली महिला हैं। राष्ट्रपति और उप राष्ट्रपति दोनों का शपथ ग्रहण समारोह कैपिटल हिल में हुआ।

इस दौरान अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति जॉर्ज बुश, बिल क्लिंटन और बराक ओबामा ने भी शपथ ग्रहण कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई। कड़ी सुरक्षा के बीच अमेरिका में ये पूरा कार्यक्रम हुआ।

हालांकि डोनाल्ड ट्रंप इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हुए। ट्रंप, अपने कार्यकाल के समापन पर जो बाइडन के शपथ ग्रहण समारोह से पहले वाशिंगटन से रवाना हो गए थे। ट्रंप के साथ विमान में उनके परिवार के लोग भी थे। इस वक्त डोनाल्ड ट्रंप फ्लोरिडा में हैं।

कार्यकाल के आखिरी दिन भी अपने समर्थकों को नहीं भूले ट्रंप, 143 लोगों को दिया क्षमादान
डोनाल्ड ट्रंप का अपने समर्थकों के साथ कितना ज्यादा लगाव था। इस बात को आप ऐसे भी समझ सकते हैं कि अपने कार्यकाल के आखिरी दिनों में भी ट्रंप अपने समर्थकों का याद करना नहीं भूले। ट्रंप उनका भला करने के बारें में ही सोचते रहे।

उन्होंने राष्ट्रपति का पद छोड़ने से पहले कुल 143 लोगों को क्षमादान दिलवाया। जिसमें उनके समधी, भ्रष्ट राजनेता, रक्षा सौदों के दलाल और उनके पूर्व रणनीतिकार व सहयोगी शामिल हैं।

ट्रंप के फैसले की जमकर आलोचना
उनके इस कदम को शक्ति का दुरुपयोग बताया गया। जमकर आलोचना भी हुई। लेकिन ये ट्रंप का काम करने का अपना अलग स्टाइल है, वे जब भी कोई निर्णय ले लेते थे। उसके बाद लोग उसके बारें में क्या बोलेंगे। उसकी वे कभी भी परवाह नहीं करते थे हे।

इस बार भी ट्रंप ने ऐसा ही किया। आलोचनाओं पर ध्यान न देते हुए बुधवार दोपहर से पहले वे व्हाइट हाउस छोड़कर फ्लोरिडा चलें गए।


सोर्स कोड में छिपा रहस्य, टेक्निकल टीम ने बनाई नई वेबसाइट       राष्ट्रपति पद छोड़ने से पहले समर्थकों का भला करना नहीं भूले ट्रंप       करोड़पति बना मछुआरा, समुद्र ने बना दिया इसे इतना अमीर       चीन-WHO का काला सच, लाखों मौत की वजह आई सामने       इतिहास में पहली बार, अमेरिका में होगा ऐसा शपथ ग्रहण       नमाज पर इकट्ठा भीड़, हमले से कांपा अफगानिस्तान       सांसद-विधायक निलंबित, पाक चुनाव आयोग ने की कड़ी कार्रवाई, फंस गए इमरान खान       भारतीय रंग में रंगेगा कैपिटल हिल       राष्ट्रपति ट्रंप ने जाते-जाते चीन को दी चेतावनी       US में नई सरकार, आज बाइडेन का शपथ ग्रहण       क्या होगा जो बाइडेन का एजेंडा, ओबामा की राह पर चलेंगे या अलग होगी रणनीति       बाइडेन सरकार में 20 भारतीय, प्रशासन में होंगे असरदार       वर्चुअल मीटिंग करते दिखें अलीबाबा के फाउंडर, लापता जैक मा आए सामने       तबाही की और दुनिया, कोरोना के बाद इनसे होगा सामना       इतिहास रचने को तैयार भारत की बेटी, इस गांव में जश्न       महातबाही से कांपी दुनिया, 18 महीनों का अंधकार युग       बर्फीले तूफान का कहर, एक दूसरे से टकराए 130 वाहन       दुनिया पर होगा असर, राष्ट्रपति बनते ही बाइडन लेंगे ये बड़े फैसले       राष्ट्रपति बनते ही जो बिडेन ने सबसे पहले कहीं ये बात       सेंट्रल मैड्रिड में ब्लास्ट: धमाके में गिरी इमारत, निकाली जा रही लाशें