चीन की सायनोफार्म वैक्सीन खरीदेगा पाकिस्तान, फरवरी तक 12 लाख डोज मिलने की उम्मीद

चीन की सायनोफार्म वैक्सीन खरीदेगा पाकिस्तान, फरवरी तक 12 लाख डोज मिलने की उम्मीद

पाकिस्तान सरकार ने चीन की सायनोफार्म वैक्सीन खरीदने का फैसला कर लिया है। प्रधानमंत्री इमरान खान के स्पेशल असिस्टेंट फैसल सुल्तान के मुताबिक, लंबी बातचीत के बाद केंद्र सरकार ने चीनी वैक्सीन खरीदने का फैसला किया है। सुल्तान के मुताबिक, फरवरी तक 12 लाख डोज पाकिस्तान पहुंच जाएंगे। पाकिस्तानी मीडिया में पहले ही यह कयास लगाए जा रहे थे कि सरकार के पास दूसरा कोई रास्ता नहीं है इसलिए, वो चीनी वैक्सीन ही खरीदेगी।

कीमत का खुलासा नहीं
‘जियो न्यूज’ के मुताबिक, इमरान खान ने मंगलवार को कैबिनेट मीटिंग की। इसके बाद डॉक्टर फैसल सुल्तान ने चीन से वैक्सीन खरीदने की जानकारी दी। हालांकि, उन्होंने यह नहीं बताया कि इस वैक्सीन की कीमत क्या होगी। यह जानकारी जरूर दी गई कि फरवरी तक 12 लाख डोज पाकिस्तान पहुंच जाएंगे। फैसल के मुताबिक, मार्च के पहले हफ्ते से वैक्सीनेशन प्रॉसेस शुरू हो सकता है।

पहले फ्रंटलाइन वर्कर्स को मिलेगी
सुल्तान ने कहा- वैक्सीन के लिए दुनिया की कई कंपनियों से बातचीत की गई थी। हमें चीन की वैक्सीन ही मुफीद लगी। नेशनल कमांड एंड ऑपरेशन सेंटर ने फ्रंटलाइन वर्कर्स का रजिस्ट्रेशन शुरू कर दिया है। ये वे लोग हैं जिन्हें पहले फेज में वैक्सीनेट किया जाएगा। पहले फेज में 12 लाख वैक्सीन आएंगी। इसके बाद हम कुछ और ऑर्डर जारी करेंगे।

आम लोगों को सितंबर से मिलेगी वैक्सीन
पाकिस्तान सरकार ने प्राइवेट सेक्टर के लिए रजिस्ट्रेशन और कीमत अलग रखने का फैसला किया है। इसके लिए ड्रग रेग्युलेट्री अथॉरिटी ऑफ पाकिस्तान को जिम्मेदारी सौंपी गई है। सरकार का कहना है कि आम लोगों का वैक्सीनेशन जून के बाद ही शुरू किया जाएगा। साथ ही यह उम्मीद भी जताई कि सितंबर तक इसे पूरा कर लिया जाएगा।


बाइडेन के राष्ट्रपति बनने से नाराज लोगों ने जलाए अमेरिकी झंडे

बाइडेन के राष्ट्रपति बनने से नाराज लोगों ने जलाए अमेरिकी झंडे

अमेरिका के कोलार्डो राज्य में स्थित डेनवर (Denver) के कोलार्डो स्टेट कैपिटल बिल्डिंग के बाहर कुछ लोगों ने विरोध दर्ज कराते हुए अमेरिकी झंडे जलाए हैं. ऐसा उस समय हुआ जब वाशिंगटन डीसी में बुधवार को नए राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) का शपथ ग्रहण समारोह चल रहा था. इस मामले की जानकारी देते हुए लोक सूचना अधिकारी ने बताया कि उन्हें अभी तक नहीं पता कि कोई गिरफ्तार हुआ है या नहीं. लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि जब अमेरिकी झंडो को जलाया जा रहा था, तब वहां 40 से 50 प्रदर्शनकारी मौजूद थे. घटना के बाद से ही डेनवर में सुरक्षा इंतजामों को सख्त किया गया है और सरकारी इमारतों के बाहर भी सुरक्षा बढ़ा दी गई|

एफबीआई ने ये जानकारी दी थी कि शपथ ग्रहण समारोह के दौरान ‘सभी 50 राज्यों’ में हथियारबंद प्रदर्शन हो सकते हैं. इससे पहले 6 जनवरी को भी अमेरिकी संसद यानी कैपिटल हिल की इमारत में दंगाइयों ने हिंसक तरीके से प्रवेश किया था. इस हिंसा में एक पुलिसकर्मी सहित पांच लोगों की मौत हो गई थी. लोगों की इस भीड़ को ट्रंप समर्थक बताया गया है. इस हिंसा के लिए भी ट्रंप को ही जिम्मेदार मानते हुए डेमोक्रेटिट पार्टी उनके खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव लेकर आई थी. घटना उस समय हुई जहां यहां इलेक्टोरल कॉलेज के वोटों की गिनती हो रही थी|

दोपहर के वक्त किया प्रदर्शन
कोलार्डो की पुलिस का कहना है कि प्रदर्शनकारियों ने स्थानीय समयानुसार दोपहर करीब 12.45 बजे झंडों को जलाना शुरू किया था. ऐसा 15 मिनट तक जारी रहा. जिस समय प्रदर्शनरी ये सब कर रहे थे तब वहां मीडिया भी मौजूद था. इस घटना से जुड़े कई वीडियो और तस्वीरें इस समय सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. शपथ ग्रहण के दौरान वाशिंगटन डीसी में सुरक्षा के बेहद कड़े इंतजाम किए गए थे. किसी भी प्रकार की हिंसा से बचने के लिए यहां करीब 25 हजार सैनिकों की तैनाती की गई थी|

ट्रंप को क्यों माना जा रहा जिम्मेदार?
कैपिटल हिंसा के बाद से ही ऐसी आशंका जताई जाती रही थी कि ट्रंप समर्थक एक बार फिर हिंसक विरोध प्रदर्शन कर सकते हैं. जब अमेरिका में नवंबर महीने में चुनाव हुए थे, तब ट्रंप ने मतदान वाले दिन ही कह दिया था कि वह जीतने वाले हैं. लेकिन जब वह चुनाव में हार गए तो उन्होंने लगातार ट्वीट कर ये आरोप लगाए कि चुनावों में धांधली हुई है. एक रिपोर्ट के अनुसार, कैपिटल हिंसा से करीब एक हफ्ते पहले ट्रंप ने अपने समर्थकों को संबोधित करते हुए ‘कैपिटल तक मार्च’ करने को भी कहा था. इसके बाद लोग सच में यहां पहुंच भी गए|


पाकिस्तान के बलूचिस्तान में बम धमाके से सेना के 11 लोग घायल       बाइडेन के राष्ट्रपति बनने से नाराज लोगों ने जलाए अमेरिकी झंडे       रिटायर होने के बाद अब डोनाल्ड ट्रंप को इतने करोड़ रुपये मिलेगी पेंशन       पाकिस्तानी एंकर को इन मामलों में भारत की तारीफ करना पड़ा भारी       कोरोना वैक्सीन लेने के बाद 106 साल की महिला को आई स्पैनिश फ्लू की याद       अमेरिका का वो इकलौता राष्ट्रपति जिसने दिया परमाणु हमले का आदेश       पाक में बेगुनाहों की जान की कीमत नहीं: बलूचिस्तान के गांव पर ‘दाग’ दी मिसाइलें       पहले सीरिया में मचाया आतंक, अब पैसों के बदले दूसरे देशों में मचा रहे तबाही       बिडेन की चेतावनी, राष्ट्रपति बनते ही चीन-पाक पर दिखें सख्त       बन रही नई वैक्सीन, कोरोना के नए स्ट्रेन पर होगी असरदार       राष्ट्रपति बाइडेन के दो दुश्मन, शपथ के बाद किया एलान       राष्ट्रपति बिडेन का पहला भाषण, लिखा इस भारतीय ने, जानें       भारत होगा बहुत ताकतवर, बिडेन सहयोगी साबित होंगे       सोर्स कोड में छिपा रहस्य, टेक्निकल टीम ने बनाई नई वेबसाइट       राष्ट्रपति पद छोड़ने से पहले समर्थकों का भला करना नहीं भूले ट्रंप       करोड़पति बना मछुआरा, समुद्र ने बना दिया इसे इतना अमीर       चीन-WHO का काला सच, लाखों मौत की वजह आई सामने       इतिहास में पहली बार, अमेरिका में होगा ऐसा शपथ ग्रहण       नमाज पर इकट्ठा भीड़, हमले से कांपा अफगानिस्तान       सांसद-विधायक निलंबित, पाक चुनाव आयोग ने की कड़ी कार्रवाई, फंस गए इमरान खान