जानिए, सेहत के लिए कितने फायदेमंद है ये पौधे

जानिए, सेहत के लिए कितने फायदेमंद है ये पौधे

स्मॉग ने एक बार फिर हमारे शहरों में दस्तक देनी शुरू कर दी है. आने वाले कुछ दिनों में पिछले वर्षों की तरह इस साल भी स्मॉग से लोगों का बुरा हाल होगा. डीजल वाहनों की बढ़ती संख्या, फैक्टरियों, बिजलीघरों से निकलने वाला धुआं, उत्तर भारत में पराली जलाने की घटनाओं के कारण हर कोई वायु प्रदूषण को लेकर परेशान रहता है.

कई लोगों को लगता है कि केवल अपने घर के खिड़की-दरवाजे बंद करना ही इससे छुटकारा पाने का इकलौता विकल्प है. बिगड़ते हालात के कारण एयर प्यूरिफायर जैसे गैजेट्स भी महानगरों के घरों में जगह बनाने लगे हैं. सोचने का विषय यह है कि क्या केवल घर को बंद रखने या गैजेट्स खरीद लेना काफी है? ऐसा कतई नहीं है. घर के भीतर लगाए जा सकने वाले अनेक ऐसे इंडोर प्लांट्स हैं जो हमारे घर को शुद्ध हवा का ठिकाना बना सकते हैं.

मनी प्लांट

इसे गोल्डन पोथोस या डेविल्स आईवी के नाम से भी जाना जाता है. मनी प्लांट की हरी-भरी पत्तियां दिल के आकार की होती हैं, जिनमें स्वर्णिम रंग की हल्की सी झलक होती है. मनी प्लांट्स घर के भीतर इस्तेमाल किए जाने वाले प्लांट्स में सबसे आम हैं. चूंकि यह प्लांट रात के वक्त भी ऑक्सीजन देता है इसलिए इसे लिविंग रूम की ही तरह बेडरूम में भी रखा जा सकता है. मनी प्लांट को पानी और ठोस सतह (मिट्टी) पर भी लगाया जा सकता है. इसके अलावा अगर आपके बगीचे में पहले से ही मनी प्लांट मौजूद है तो आपको केवल उसका एक हिस्सा मिट्टी या पानी में लगाना है और यह अपने-आप बढ़ने लगता है. आपको केवल एक ही बात याद रखनी है कि अगर यह पानी में पनप रहा है तो हर हफ्ते पानी बदलते रहें. मनी प्लांट के कारण घर से कार्बन मोनोऑक्साइड, बेंजीन, फॉर्मेल्डाइड, जाइलिन, टूलिन जैसी गैसें और यौगिक खत्म हो जाते हैं.
पीस लिली

बड़ी हरी पत्तियों वाला यह प्लांट घर के भीतर से बेंजीन, ट्राइक्लोइथेन, फॉर्मेल्डाइड को खत्म करता है.

स्नेक प्लांट

वाइपर्स बोस्ट्रिंग हेम्प के भी नाम से मशहूर यह पौधा हवा से जाइलिन, बेंजीन और टूलिन जैसे टॉक्सिन्स और यौगिकों को खत्म करता है. मनी प्लांट की ही तरह स्नेक प्लांट भी रात को ऑक्सीजन देता है. इन प्लांट्स को ज्यादा देखभाल की जरूरत नहीं होती. यह कई दिन बिना पानी के जिंदा रह सकते हैं.

एरेका पाम

इसे येलो पाम और गोल्डन केन प्लांट के नाम से भी जाना जाता है. नासा की रिसर्च के मुताबिक यह प्लांट हवा से फॉर्मेल्डेहाइड को हटाने के लिहाज से शीर्ष 10 प्लांट्स में आता है. यह प्लांट एक अच्छा ह्यूमिडिफायर है. एक छह फीट का एरेका पाम ट्री केवल 24 घंटे में एक लीटर पानी दे सकता है. फॉर्मेल्डाइड के अलावा यह प्लांट हवा से कार्बन मोनोऑक्साइड, बेंजीन, जाइलिन और ट्राइक्लोरोएथिलिन को हटा सकता है.

रबर प्लांट

इसे रबर बुश प्लांट के नाम से भी जाना जाता है. यह हवा में मौजूद वाष्पशील कार्बनिक यौगिकों और बायो एफ्लुएंट्स हटा देता है. अगर आपके घर में पालतु पशु हैं तो कृपया यह प्लांट न लगाएं, क्योंकि कुछ पशुओं के लिए यह टॉक्सिक होता है.

एलो वेरा

हम सभी जानते हैं कि एलोवेरा की पत्तियों के भीतर मौजूद जेल का घावों और जली हुई जगहों के इलाज में इस्तेमाल किया जाता है. कई लोग इसे मॉइस्चराइजर के तौर पर भी इस्तेमाल करते हैं लेकिन बहुत कम लोग जानते हैं कि एलोवेरा हवा को साफ करने में भी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. यह हवा से बेंजीन और फॉर्मेल्डेहाइड को हटाता है और यह भी रात को ऑक्सीजन का उत्सर्जन करता है.

वीपिंग फिग प्लांट

इसे बेंजामिन फिग और फिकस ट्री के नाम से भी जाना जाता है. नासा द्वारा किए गए एक अध्ययन के मुताबिक यह प्लांट बेंजीन, जाइलिन, टूलीन, ट्राइक्लोरोएथिलिन और फॉर्मेल्डेहाइड का हवा से सफाया करता है. रबर प्लांट की ही तरह यह भी कुछ पालतु पशुओं के लिए जहरीला होता है.

कॉमन आइवी

इसे इंग्लिश आइवी, यूरोपियन आइवी और आइवी के नाम से भी जाना जाता है. यह हवा से जाइलिन, बेंजीन, टूलीन और फॉर्मेल्डाइड को हटाती है. इसके अलावा इस प्लांट को हवा से अस्थमा के मरीजों को परेशान करने वाले कुछ कणों को हटाने के लिए भी जाना जाता है.

चाइनीज एवरग्रीन प्लांट

यह हवा से कार्बन मोनोऑक्साइड, बेंजीन, ट्राइक्लोरोएथिलिन और फॉर्मेल्डेहाइड को हटाता है. यह याद रखिएगा कि इस प्लांट के लिए कमरे का तापमान 16 डिग्री सेल्सियस या उससे ज्यादा होना चाहिए. यह प्लांट ठंड को बिल्कुल भी सहन नहीं कर पाता.


तुलसी, लहसुन और गिलोय से करें चिकनगुनिया का घरेलू इलाज

तुलसी, लहसुन और गिलोय से करें चिकनगुनिया का घरेलू इलाज

एक बार फिर बारिश के साथ चिकनगुनिया का खतरा बढ़ रहा है। हर साल देश में 100-200 नहीं बल्कि हज़ारों लोग चिकनगुनिया बुखार के शिकार हो जाते हैं। चिकनगुनिया में जोड़ों में होने वाला दर्द मरीज़ को बुखार ठीक हो जाने के बाद भी कई समय तक परेशान करता है।

चिकनगुनिया के लक्षण :

- एडिस मच्छर के काटने के दो-तीन दिन बाद ही चिकनगुनिया के लक्षण नजर आते हैं।

- इसमें तेज बुखार और जोड़ों में दर्द होता है। मुख्य रूप से हाथ व पैरों की अंगुलियों में ज्यादा दर्द होता है। 

- सिर में दर्द और मांसपेशियों में जकड़न महसूस होती है।

- मरीज को न्यूरोलॉजिकल समस्या भी हो सकती है।

- जी-मचलना जैसा महसूस होगा और भूख कम लगती है।

- इस बीमारी में शरीर पर जगह-जगह लाल रंग के दाने उभर आते हैं।

डेंगू और चिकनगुनिया में क्या है अंतर

डेंगू में बुखार के साथ-साथ हाथ-पैर में दर्द रहता है, भूख कम लगती है, जी मिचलाना और उल्टी जैसा भी महसूस कर सकते हैं। डेंगू के बुखार का खास लक्षण है सिर और आंखों में तेज दर्द होना। डेंगू के बुखार में प्लेटलेट्स कम होने की वजह से मरीज़ को बहुत कमजोरी हो जाती है। 

वहीं, चिकनगुनिया के लक्षण भी डेंगू से मिलते जुलते हैं, लेकिन इसमें प्लेटलेट्स काउंट कम नहीं होते हैं इसलिए मरीज को डेंगू की तुलना में कमजोरी कम लगती है। तेज बुखार के साथ जोड़ों में दर्द चिकनगुनिया का सामान्य लक्षण है। हालांकि इस बुखार में जोड़ो में दर्द होना सबसे बड़ी परेशानी होती है।

ऐसे करें चिकनगुनिया का घरेलू इलाज

1. गिलोय

गिलोय एक आयुर्वेदिक औषधी है। इसका पौधा कई तरह की बीमारियों में मददगार साबित होता है। इसमें एंटी-इंफ्लामेटरी, एंटी-आर्थराइटिस और इम्यूनोमॉड्यूलेटरी गुण पाए जाते हैं, जो चिकनगुनिया बुखार से राहत दिलाते हैं।

 2. तुलसी

 इसमें तुलसी के पत्ते काफी फायदेमंद साबित होते हैं। तुलसी की गुणकारी पत्तियां बुखार को कम कर, शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार करती हैं। आयुर्वेद में तुलसी की पत्तियों का इस्तेमाल कई प्रकार की दवाइयां बनाने में होता है। इन पत्तियों में एंटीमाइक्रोबियल गुण होता है, जो बीमारी से जल्द उबरने में मदद करता है।

3. लहसुन 

 जोड़ों के दर्द से राहत दिलाने में लहसुन का कोई मुकाबला नहीं है। जिस जगह दर्द है इसे वहां जितना ज्यादा हो सके लगाएं। यह न सिर्फ दर्द से राहत दिलाएगा, बल्कि सूजन को कम करके रक्त संचार को बेहतर भी बनाएगा।


25 जनवरी 2021 का राशिफल: मकर राशि वालों के चल या अचल संपत्ति में वृद्धि होगी, लेकिन...       Share Market Tips: बजट से पहले भी बाजार में आ सकती है अच्छी खासी गिरावट       नई शिक्षा नीति पर अमल को सरकार दे सकती है अलग से फंड, शिक्षा मंत्रालय ने वित्त मंत्रालय को दिया है प्रस्ताव       Post Office के सुकन्या समृद्धि, आरडी और पीपीएफ खाते में ऑनलाइन जमा कर सकते हैं रुपये, जानें       Yes Bank के संस्थापक राणा कपूर को हाई कोर्ट से भी नहीं मिली जमानत       बैंक के नाम पर आने वाले फर्जी मैसेज की कैसे करें पहचान       गिर गई सोने की कीमतें, चांदी में आई उछाल, जानिए क्या हो गए हैं भाव       Home First Finance के IPO को मिला अच्छा-खासा समर्थन, बोली के आखिरी दिन तक हुआ 26.57 गुना सब्सक्राइब       इंग्लैंड ने भारत को छोड़ा पीछे, टेस्ट सीरीज में श्रीलंका का क्लीन स्वीप कर बनाया ये रिकॉर्ड       पाकिस्तान के पूर्व बल्लेबाजी कोच ने की रिषभ पंत की तारीफ, कही...       ऑस्ट्रेलिया के इस दिग्गज तेज गेंदबाज पर टीम से बाहर होने का खतरा       IPL की वजह से हुआ बदलाव, ICC ने वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल किया स्थगित       भारतीय स्पिनर का खुलासा, ऑस्ट्रेलिया दौरे पर हुआ भेदभाव, नहीं थी उनके साथ लिस्ट में जाने की अनुमति       गणतंत्र दिवस के मौक़े पर आयी फ़िल्मों ने जब बॉक्स ऑफ़िस पर भी मचाया धमाल       The Family Man के मेकर्स के साथ ओटीटी डेब्यू के लिए तैयार शाहिद कपूर       शेखर कपूर ने कहा कि फूलन ने बैंडिट क्वीन देखकर कहा था कि मुझे लगा फिल्म में गाने होंगे       इस एक्टर की दुल्हनियां बनी नताशा दलाल, अब इस दिन होगा वरुण नताशा का ग्रैंड रिसेप्शन       Republic Day 2021: देशभक्ति से जुड़े ये गाने आपकी भी आंखें कर देंगे नम       शादी के बाद वरुण धवन ने शेयर कीं अपनी हल्दी सेरेमनी की फोटोज़, देखें एक्टर का कूल अंदाज़       Republic Day पर लौट रही है विक्की कौशल की 'उरी- द सर्जिकल स्ट्राइक', सिनेमाघरों में फिर गूंजेगा Hows The Josh