दिल की हिफ़ाजत दिल से करें ताकि आपका दिल रहें महफूज

दिल की हिफ़ाजत दिल से करें ताकि आपका दिल रहें महफूज

आयुर्वेद में हर बीमारी से बचने के उपाय मौजूद है। प्राचीन काल से ही आयुर्वेदिक पद्धति का इस्तेमाल करके बीमारी का इलाज किया जाता था। दिल की बीमारी का इलाज भी आयुर्वेदिक तरीके से किया जा सकता है। अगर आयुर्वेद के कुछ नुस्खे अपनाएं जाएं तो दिल के रोगों से महफूज रहा जा सकता है। किसी व्यक्ति को हार्ट अटैक आजाए उस वक्त आयुर्वेद की दवा काम नहीं करेगी, लेकिन अगर आयुर्वेद के कुछ नुस्खे अपनाए जाए तो हार्ट अटैक की नौबत ही नहीं आएगी। आयुर्वेद में दिल को तंदुरुस्त रखने के लिए कई नुस्खे बताए गए हैं।

आयुर्वेद की मदद से बिना एंजियोप्लास्टी के करीब 80 फीसदी हार्ट अटैक की संभावना को टाला जा सकता है। इससे दिल की दूसरी बीमारियां भी कम हो जाती है। दिल की बीमारियां एसिडिटी के कारण होती है पेट में जब एसिडिटी अधिक हो जाती है तो एसिड खून में मिल जाता है और रक्त वाहिनियों में एसिड ब्लड आगे नहीं बह पाता और ब्लॉकेज की समस्या उत्पन्न होती है। आप भी अपने दिल की हिफाजत करना चाहते हैं तो आयुर्वेदिक तरीके से करें दिल की सेहत का ख्याल। अपनी डाइट में ऐसी चीज़ों को शामिल करें जिससे दिल की बीमारी से महफूज रहा जा सके।


पुदीना और तुलसी पत्ते सुबह खाएं:

हम सब जानते हैं कि तुलसी में कई बीमारियों को सही करने की शक्ति है। हम सब इसका सेवन करते भी हैं, लेकिन अगर किसी का दिल स्वस्थ नहीं है तो रोजोना तुलसी और पुदीने की कुछ पत्तियां का सुबह में सेवन करें, तो दिल को हमेशा के लिए तंदुरुस्त रखा जा सकता है। आयुर्वेदाचार्य बताते हैं कि इससे ब्लड का पीएच लेवल सामान्य बना रहता है, जिससे रक्त धमनियों में ब्लॉकेज नहीं होता और हार्ट अटैक से बचाव होता है।

हल्दी धमनियों की गांठ हटाने में कारगर:

कोरोना काल के इस दौर में आयुष मंत्रालय की गाइडलाइन के अनुसार हल्दी दूध पीने की सलाह दी गई है, लेकिन हल्दी हार्ट अटैक से बचाने में भी बेहद कारगर है। हल्दी की कुछ गांठों को चार दिनों तक चूने के पानी में भिगोकर रखने के बाद इसे सुखा लीजिए। जब ये गांठें अच्छी तरह सूख जाएं तो इन्हें बारीक़ पीसकर चूर्ण बना लें। अब इस चूर्ण को एक-एक ग्राम की मात्रा सुबह-शाम गुनगुने पानी में सेवन करें। इससे खून की जो धमनियां ब्लॉकेज हो गई हैं, वे खुल जाएंगी। 

लौकी करती है दिल का इलाज

हार्ट अटैक का आयुर्वेदिक तरीके से इलाज करने के लिए क्षारिय वस्तुएं खाने की सलाह दी जाती है। इसे खाने से ब्लॉकेज खुल जाते हैं। लौकी की सब्जी और लौकी का जूस दिल के लिए बेहद फायदेमंद है। लौकी के जूस में तुलसी के पत्ते मिलाकर भी पिया जा सकता है। आप इस जूस में सेंधा नमक मिलाकर भी पी सकते हैं जिससे इसका स्वाद बढ़ेगा।   


सर्दी में एलर्जी से परेशान हैं तो जानिए बचाव के उपाय

सर्दी में एलर्जी से परेशान हैं तो जानिए बचाव के उपाय

सर्दी में लोगों को एलर्जी बेहद परेशान करती है। किसी को प्रदूषण से एलर्जी है तो किसी को खाने-पीने की चीजों, पेट डॉग या फिर खास महक से एलर्जी होती है। सर्द मौसम में तापमान में गिरावट के कारण हवा से एलर्जी के तत्व जल्दी नहीं हटते जिससे, सर्दी, खांसी, नाक बहना, स्किन एलर्जी, अस्थमा और भी कई तरह की एलर्जी हो सकती है। सर्दी में हम ठंड से बचने के लिए बंद जगह पर ज्यादा वक्त गुजारना पसंद करते है, जो एलर्जी का सबसे बड़ा कारण बनता है। लंबे समय तक बंद घर में रहने से हवा में मौजूद धूल के कण, फफूंद, पालतू जानवरों की रूसी और कॉकरोच ड्रॉपिंग एलर्जी का कारण बनते हैं। संवेदनशील स्किन वाले लोगों को स्किन एलर्जी होने का खतरा ज्यादा रहता है। सर्दी में रक्त नलिकाएं सिकुड़ जाती हैं जिससे हाथ व पैर में ब्लड सर्कुलेशन बाधित होता है। खून की कमी से ही हाथ या पैर की उंगलियों में सूजन होने लगती है। इस मौसम में फंगल इन्फेक्शन होने से खाज या खुजली होने की आशंका रहती है।


एलर्जी क्या है?

एलर्जी किसी खाने की चीज, पालतू जानवर, मौसम में बदलाव, कोई फूल-फल-सब्जी के सेवन, खुशबू, धूल, धुआं, दवा यानी किसी भी चीज से हो सकती है। इस स्थिति में हमारा इम्यून सिस्टम कुछ खास चीजों को स्वीकार नहीं कर पाता और नतीजा ऐसे रिऐक्शन के रूप में दिखता है।

एलर्जी के लक्षण:

सर्दी में गले की सर्दी, नाक बहना, सर्दी जुकाम होना एलर्जी के लक्षण है। एलर्जी की वजह से शरीर में लाल-लाल चकत्ते, नाक और आंखों से पानी बहना, जी मितलाना, उलटी होना या फिर सांस तेज-तेज चलने से लेकर बुखार तक हो सकता है।


सर्दी में खाने की चीजों से एलर्जी:

कुछ लोगों को खाने की चीजों जैसे कि मूंगफली, दूध, अंडा आदि खाने से एलर्जी हो सकती है। जिस चीज से एलर्जी है, उसे खाने के बाद जी मिचलाना, शरीर में खुजली होना या पूरे शरीर पर दाने और चकत्ते निकलने जैसी समस्या हो सकती है। एक्सपर्ट की माने तो गांवों में रहनेवालों के मुकाबले शहरों में रहने वाले लोगों में एलर्जी की समस्या ज्यादा होती है। उनके शरीर का इम्यून सिस्टम ज्यादा डिवेलप नहीं हो पाता।


कैसे बचाव करें:

अगर आपको धूल मिट्टी या फिर धुएं से एलर्जी है तो घर से बाहर निकलते समय नाक पर रुमाल या फिर मास्क का इस्तेमाल करें। घर में साफ-सफाई के लिए वैक्यूम क्लीनर का इस्तेमाल करें।
सर्दी में अपनी डाइट का विशेष ध्यान रखें। मौसमी फल, हरी सब्जी, गाजर आदि का सेवन करें, और पानी पर्याप्त मात्रा में पीएं।
स्किन को एलर्जी से बचाने के लिए रात में सोने से पहले बॉडी पर मॉइश्चराइजर लगाएं, इससे त्वचा में नमी बरकरार रहेगी।
पर्दे, चादर, बेडशीट व कालीन को नमी से बचाने के लिए धूप में रखें, ताकि इस्तेमाल होने वाली इन चीजों से आपको एलर्जी नहीं हो सके।
पालतू जानवरों से दूर रहें, जानवरों को एलर्जी है, तो घर में नहीं रखें।
सर्दी में धूप में बैठे, घर को हमेशा बंद न रखें, घर को हवादार बनाएं, ताकि साफ हवा आती रहे।
घर की साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखें। खिड़कियों में महीन जाली लगवाएं और जाली वाली खिड़कियों को हमेशा बंद रखें क्योंकि खुली खिड़की से कीड़े और मच्छर आपके घर में घुस सकते हैं। 


भयानक विस्फोट से दहला कर्नाटक, धमाके से टूट गई सड़कें       अभी ठंड से नहीं मिलेगी राहत, इस राज्यों में होगी भारी बारिश       छत्तीसगढ़: कबड्डी मैच के दौरान खिलाड़ी की मौत       टूटे सभी रिकॉर्ड, पेट्रोल-डीजल के दामों में तेजी से बढ़ोत्तरी       MP पुलिस ने शव के साथ किया ऐसा, हाथरस कांड की याद हुई ताजा       Flipkart Big Saving Days शुरू, सस्ते में खरीदें ये स्मार्टफोन       Reliance Jio का ऑफर, 250 रुपये में हर दिन 2 जीबी डेटा       सस्ती फैमिली कार, ऑटो मोबाइल कंपनियों ने किया लॉन्च       इंडिया में लांच हुआ Vivo Y31, मिल रहे बेहतरीन फीचर       इन 3 राशियों के बनेंगे काम, ये 2 राहु से रहेंगे परेशान, जानें       इस दिन मांं करें निर्जला उपवास, संतान को मिलेगा लंबी उम्र का वरदान       आपकी तरक्की में बाधक हैं ये पौधे, घरों में कभी न लगाएं       जानिए लाल और काली चींटियों का घर में आने का संकेत, शुभ या अशुभ       प्यार, परिवार और व्यापार के लिए कैसा रहेगा शुक्रवार, जानें अपना राशिफल       मतदाता दिवस की तैयारीः पीलीभीत में मनाया जाएगा ऐसे       अभी अभी: लालू यादव की बिगड़ी तबियत       भूगर्भ जल रिचार्ज के लिए सीएम योगी करा रही चेकडैम-तालाबों का निर्माण       नड्डा ने लखनऊ आते ही संभाला मोर्चा, देर रात बैठक       परमाणु बटन का खेल: किसके हाथ में ये कमान, जो ले सकता है एक्शन       तेज दिमाग पाने के लिए रोजाना इस तेल का करें इस्तेमाल