कोरोना वैक्सीन लगवाना चाहते हैं तो जाने वैक्सीनेशन की पूरी प्रक्रिया

कोरोना वैक्सीन लगवाना चाहते हैं तो जाने वैक्सीनेशन की पूरी प्रक्रिया

कोरोनावायरस ने पूरी दुनिया को एक साल तक हलकान किया है, अब इस पर काबू पाने का समय आ गया है। देश में जल्द ही वैक्सीनेशन की प्रक्रिया शुरू होने जा रही है। कोरोना का वैक्सीन इस वायरस पर काबू पाने का एक मात्र बेहतर तरीका है। इस वैक्सीन को आप भी लगवाने जा रहे हैं तो आपको किस-किस प्रक्रिया से गुजरना होगा उसके बारे में जानना बेहद जरूरी है। टीकाकरण अभियान में आपको किन-किन कठिनाईयों का सामना करना होगा उसके बारे में हम आपको पूरी जानकारी देते हैं।

कोविन ऐप की जानकारी रखना जरूरी:

कोरोना का टीका लगाने जा रहे हैं तो कोविन एप क्या है इसके बारे में जरूर जानें। कोविन ऐप ऐसा ऐप है जिसे भारत सरकार और स्वास्थ्य मंत्रालय ने मिलकर बनाया है। इस ऐप के माध्यम से ही वैक्सीन की पूरी प्रक्रिया को अंजाम दिया जाएगा। टीका लगाने की पूरी प्रक्रिया को इस ऐप के माध्यम से ही पूरा किया जाएगा। इस ऐप में पूरी प्रक्रिया की जानकारी रखी जाएगी। टीका लगवाने के रजिस्ट्रेशन से लेकर टीका लगने तक की सारी क्रिया इस ऐस के माध्यम से की जाएगी। सरकार की ये सारी तैयारी इसलिए है ताकि वैक्सीनेशन प्रक्रिया के दौरान किसी तरह की समस्या न खड़ी हो। आप इस कोविन ऐप को डिजिटल प्लेटफॉर्म से फ्री में डाउनलोड कर सकते हैं।

वैक्सीन लेना है तो खुद को कराएं रजिस्टर: 

कोरोना वैक्सीन लगवाने वाले हर इंसान को सबसे पहले खुद को ऐप के माध्यम से रजिस्टर कराना होगा। उसके बाद व्यक्ति के मोबाइल पर एक मैसेज आएगा जिसमें उसे सूचित किया जाएगा कि किस सेंटर पर जाकर उसे टीका लगवाना है। टीका लगवाने वाले हर एक व्यक्ति को एक यूनिक आईडी दी जाएगी और साथ ही इस कोड को सरकार के डिजी लॉकर ऐप में सुरक्षित रखा जाएगा।

वैक्सीनेशन प्रक्रिया:

जिस सेंटर पर आपको वैक्सीन लगवानी है वहां जब आप पहुंचेगे तो सबसे पहले आपकी थर्मल स्कैनिंग की जाएगी और फिर आपको अपना रजिस्ट्रेशन नंबर बताना होगा। इसके बाद उसका मिलान आवेदन की सूची से होगा और मिलान के बाद आपको फोन पर आया मैसेज भी दिखाना होगा। इसके बाद दूसरी टेबल पर जाकर अपना आईडी प्रूफ (जैसे- आधार कार्ड, वोटर कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस आदि) दिखाना होगा। आपकी पहचान का मिलान होने के बाद ही आगे की प्रक्रिया प्रारंभ होगी।

वैक्सीन कैसे और कितनी देर में लगेगी:

रजिस्ट्रेशन और पहचान का मिलान होने के बाद सबसे आखिरी प्रक्रिया है टीका लगवाने की। सबसे अंत में आपको तीसरी टेबल यानी वहां भेजा जाएगा जहां पर वैक्सीन लगेगी। वैक्सीन लगाने में पांच से सात मिनट का समय लगता है। इसके बाद जब वैक्सीन लग जाएगी तो आधे घंटे तक आपको वहीं देखरेख में रखा जाएगा। इसके बाद जब आप सामान्य हो जाते हैं तब आपको घर भेज दिया जाएगा। 


सर्दी में एलर्जी से परेशान हैं तो जानिए बचाव के उपाय

सर्दी में एलर्जी से परेशान हैं तो जानिए बचाव के उपाय

सर्दी में लोगों को एलर्जी बेहद परेशान करती है। किसी को प्रदूषण से एलर्जी है तो किसी को खाने-पीने की चीजों, पेट डॉग या फिर खास महक से एलर्जी होती है। सर्द मौसम में तापमान में गिरावट के कारण हवा से एलर्जी के तत्व जल्दी नहीं हटते जिससे, सर्दी, खांसी, नाक बहना, स्किन एलर्जी, अस्थमा और भी कई तरह की एलर्जी हो सकती है। सर्दी में हम ठंड से बचने के लिए बंद जगह पर ज्यादा वक्त गुजारना पसंद करते है, जो एलर्जी का सबसे बड़ा कारण बनता है। लंबे समय तक बंद घर में रहने से हवा में मौजूद धूल के कण, फफूंद, पालतू जानवरों की रूसी और कॉकरोच ड्रॉपिंग एलर्जी का कारण बनते हैं। संवेदनशील स्किन वाले लोगों को स्किन एलर्जी होने का खतरा ज्यादा रहता है। सर्दी में रक्त नलिकाएं सिकुड़ जाती हैं जिससे हाथ व पैर में ब्लड सर्कुलेशन बाधित होता है। खून की कमी से ही हाथ या पैर की उंगलियों में सूजन होने लगती है। इस मौसम में फंगल इन्फेक्शन होने से खाज या खुजली होने की आशंका रहती है।


एलर्जी क्या है?

एलर्जी किसी खाने की चीज, पालतू जानवर, मौसम में बदलाव, कोई फूल-फल-सब्जी के सेवन, खुशबू, धूल, धुआं, दवा यानी किसी भी चीज से हो सकती है। इस स्थिति में हमारा इम्यून सिस्टम कुछ खास चीजों को स्वीकार नहीं कर पाता और नतीजा ऐसे रिऐक्शन के रूप में दिखता है।

एलर्जी के लक्षण:

सर्दी में गले की सर्दी, नाक बहना, सर्दी जुकाम होना एलर्जी के लक्षण है। एलर्जी की वजह से शरीर में लाल-लाल चकत्ते, नाक और आंखों से पानी बहना, जी मितलाना, उलटी होना या फिर सांस तेज-तेज चलने से लेकर बुखार तक हो सकता है।


सर्दी में खाने की चीजों से एलर्जी:

कुछ लोगों को खाने की चीजों जैसे कि मूंगफली, दूध, अंडा आदि खाने से एलर्जी हो सकती है। जिस चीज से एलर्जी है, उसे खाने के बाद जी मिचलाना, शरीर में खुजली होना या पूरे शरीर पर दाने और चकत्ते निकलने जैसी समस्या हो सकती है। एक्सपर्ट की माने तो गांवों में रहनेवालों के मुकाबले शहरों में रहने वाले लोगों में एलर्जी की समस्या ज्यादा होती है। उनके शरीर का इम्यून सिस्टम ज्यादा डिवेलप नहीं हो पाता।


कैसे बचाव करें:

अगर आपको धूल मिट्टी या फिर धुएं से एलर्जी है तो घर से बाहर निकलते समय नाक पर रुमाल या फिर मास्क का इस्तेमाल करें। घर में साफ-सफाई के लिए वैक्यूम क्लीनर का इस्तेमाल करें।
सर्दी में अपनी डाइट का विशेष ध्यान रखें। मौसमी फल, हरी सब्जी, गाजर आदि का सेवन करें, और पानी पर्याप्त मात्रा में पीएं।
स्किन को एलर्जी से बचाने के लिए रात में सोने से पहले बॉडी पर मॉइश्चराइजर लगाएं, इससे त्वचा में नमी बरकरार रहेगी।
पर्दे, चादर, बेडशीट व कालीन को नमी से बचाने के लिए धूप में रखें, ताकि इस्तेमाल होने वाली इन चीजों से आपको एलर्जी नहीं हो सके।
पालतू जानवरों से दूर रहें, जानवरों को एलर्जी है, तो घर में नहीं रखें।
सर्दी में धूप में बैठे, घर को हमेशा बंद न रखें, घर को हवादार बनाएं, ताकि साफ हवा आती रहे।
घर की साफ-सफाई का विशेष ख्याल रखें। खिड़कियों में महीन जाली लगवाएं और जाली वाली खिड़कियों को हमेशा बंद रखें क्योंकि खुली खिड़की से कीड़े और मच्छर आपके घर में घुस सकते हैं। 


भयानक विस्फोट से दहला कर्नाटक, धमाके से टूट गई सड़कें       अभी ठंड से नहीं मिलेगी राहत, इस राज्यों में होगी भारी बारिश       छत्तीसगढ़: कबड्डी मैच के दौरान खिलाड़ी की मौत       टूटे सभी रिकॉर्ड, पेट्रोल-डीजल के दामों में तेजी से बढ़ोत्तरी       MP पुलिस ने शव के साथ किया ऐसा, हाथरस कांड की याद हुई ताजा       Flipkart Big Saving Days शुरू, सस्ते में खरीदें ये स्मार्टफोन       Reliance Jio का ऑफर, 250 रुपये में हर दिन 2 जीबी डेटा       सस्ती फैमिली कार, ऑटो मोबाइल कंपनियों ने किया लॉन्च       इंडिया में लांच हुआ Vivo Y31, मिल रहे बेहतरीन फीचर       इन 3 राशियों के बनेंगे काम, ये 2 राहु से रहेंगे परेशान, जानें       इस दिन मांं करें निर्जला उपवास, संतान को मिलेगा लंबी उम्र का वरदान       आपकी तरक्की में बाधक हैं ये पौधे, घरों में कभी न लगाएं       जानिए लाल और काली चींटियों का घर में आने का संकेत, शुभ या अशुभ       प्यार, परिवार और व्यापार के लिए कैसा रहेगा शुक्रवार, जानें अपना राशिफल       मतदाता दिवस की तैयारीः पीलीभीत में मनाया जाएगा ऐसे       अभी अभी: लालू यादव की बिगड़ी तबियत       भूगर्भ जल रिचार्ज के लिए सीएम योगी करा रही चेकडैम-तालाबों का निर्माण       नड्डा ने लखनऊ आते ही संभाला मोर्चा, देर रात बैठक       परमाणु बटन का खेल: किसके हाथ में ये कमान, जो ले सकता है एक्शन       तेज दिमाग पाने के लिए रोजाना इस तेल का करें इस्तेमाल