मुजफ्फरपुर: मीडिया के इस सवाल पर भड़के नीतीश कुमार, कहा- 'यहां से निकल जाइए'

मुजफ्फरपुर: मीडिया के इस सवाल पर भड़के नीतीश कुमार, कहा- 'यहां से निकल जाइए'

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार वैसे तो गंभीर और शांत रहने के लिए जाने जाते हैं। वो अपने कार्यक्रमों में भी इसका पूरा ख्याल रखते हैं, लेकिन कभी-कभी उनका गुस्सा भी सामने आ जाता है। समाज सुधार न्याय यात्रा के दौरान भी कुछ ऐसा ही दिखा। मुजफ्फरपुर में नीतीश कुमार मीडिया पर जमकर भड़ास निकाली

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बिहार में समाज सुधार अभियान चला रहे हैं। बुधवार को समाज सुधार यात्रा  मुजफ्फरपुर पहुंची। इस दौरान नीतीश कुमार समाज सुधार के बारे में कुछ बोल रहे थे, तभी पत्रकारों ने उनसे कुछ सवाल पूछे। इससे वह बेहद नाराज हो गए। उन्होंने मीडिया से कहा कि अगर आप लोगों को समाज सुधार अभियान से नफरत है तो यहां से चले जाइए। अगर इधर-उधर करना है तो कार्यक्रम से बाहर निकल जाइए। नीतीश कुमार का मीडिया पर नाराज होने का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। 

नीतीश कुमार ने मीडिया पर निकाली भड़ास
मुजफ्फरपुर में नीतीश कुमार समाज सुधार अभियान को संबोधित कर रहे थे। इसी दौरान कुछ जेडीयू कार्यकर्ता कार्यक्रम में पहुंच गए। पुलिसकर्मी ने उन्हें रोकने का प्रयास किया, लेकिन वह अंदर आना चाह रहे थे। मीडिया का कैमरा भी पुलिस और कार्यकर्ताओं के बीच हो रही बहस पर चला गया। यह देख सीएम नीतीश कुमार गुस्सा गए। उन्होंने कहा, 'लोग मेरी बात सुन रहे हैं और आप मेरे पीछे जाकर हो-हो कर रहे हैं। ये आप लोग क्या कर रहे हैं ये फोटो? ये मीडिया वाले किधर जा रहे हैं? कौन क्या बोलता है बोलने दीजिए। अगर आपको समाज सुधार अभियान से नफरत है तो यहां से चले जाइए बाहर। अगर इधर-उधर करना है तो कार्यक्रम से बाहर निकल जाइए।'


बिहार में किसी को शराब पीने की अनुमति नहीं
समाज सुधार अभियान को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि शराब पीना किसी का मौलिक अधिकार नहीं है। शराबबंदी कानून को तोड़ने वालों को जेल जाना होगा। नीतीश कुमार ने इस दौरान विपक्ष पर भी निशाना साधा। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोगों को समाज सुधार से कोई लेना-देना नहीं है। शराब जैसी खतरनाक चीजों को भी सही बताने में लगे हैं और इसपर बहस करते हैं। वैसे लोगों के लिए साफ संदेश है कि बिहार में किसी को भी शराब पीने की इजाजत नहीं दी जाएगी।


मगध विवि के कुलपति के खिलाफ जांच भूल जाओ, नहीं तो उल्टा लटका देंगे, SP को फोन पर मिली धमकी

मगध विवि के कुलपति के खिलाफ जांच भूल जाओ, नहीं तो उल्टा लटका देंगे, SP को फोन पर मिली धमकी

गया स्थित मगध विवि के कुलपति समेत अन्य अधिकारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार व वित्तीय गड़बड़ी के मामले की जांच कर रहे विशेष निगरानी इकाई (एसवीयू) के एसपी जेपी मिश्रा को गुरुवार को दो अलग-अलग मोबाइल नंबरों से कॉल कर धमकी दी गयी. एसपी ने बताया कि फोन करने वाले ने कहा कि कुलपति के खिलाफ चल रही जांच को भूल जाओ. अगर कभी गया आ गये, तो उल्टा लटका देंगे. धमकी देने वाले ने अपनी ऊंची पहुंच की धौंस भी दी. इसके बाद एक अन्य व्यक्ति ने भी फोन पर एसपी को धमकी दी है.

एसवीयू के एसपी ने बोधगया के एसडीपीओ अजय प्रसाद को इस मामले की जानकारी दी है. एसपी ने बताया कि मुझे फोन पर धमकी देने वाले ने मगध विश्वविद्यालय कार्यालय में जाकर हंगामा भी किया है. एसडीपीओ ने भी स्वीकार किया कि निगरानी के एसपी ने फोन कर इस मामले की जानकारी दी है. उन्होंने वह मोबाइल नंबर दिया है, जिससे उन्हें फोन किया गया था. जब ट्रूकॉलर से इस नंबर की जांच की गयी, तो वह किसी चंदन यादव का बता रहा था. एसडीपीओ ने बताया कि फोन करने वाले का पता लगाया जा रहा है. उधर, एसपी के अनुसार, ‍विश्वविद्यालय में तोड़फोड़ के मामले में स्थानीय थाने में शिकायत दर्ज करायी गयी है.

वीसी प्रो राजेंद्र प्रसाद ने बढ़ाया मेडिकल अवकाश

आय से अधिक संपत्ति के मामले में निगरानी जांच का सामना कर रहे मगध विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो राजेंद्र प्रसाद ने अपना मेडिकल अवकाश बढ़ा लिया है. राजभवन ने इस आधार पर प्रति कुलपति विभूति नारायण सिंह को कुलपति पद का कार्यप्रभार एक माह या कुलपति प्रो राजेंद्र प्रसाद के लौटने तक के लिए बढ़ा दिया है.

गुरुवार को राजभवन ने इसकी अधिसूचना जारी कर दी है. प्रो राजेंद्र का मेडिकल अवकाश 23 दिसंबर को खत्म हो रहा था. 17 नवंबर को उनके बिहार व यूपी स्थित ठिकानों पर विशेष निगरानी इकाई ने छापेमारी की थी, जिसमें बड़ी मात्रा में कैश, ज्वेलरी, विदेशी मुद्राएं बरामद की गयी थीं.